कोरोना के 70 नए मामले तो 106 हुए ठीक

कोरोना के 70 नए मामले तो 106 हुए ठीक

जागरण संवाददाता सिलीगुड़ी सिलीगुड़ी व आसपास के क्षेत्रों में शनिवार को कोरोना वायरस के 63 न

Publish Date:Tue, 24 Nov 2020 09:28 PM (IST) Author: Jagran

जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : सिलीगुड़ी व आसपास के क्षेत्रों में शनिवार को कोरोना वायरस के 63 नए मामले सामने आए थे। जबकि 77 मरीज ठीक हुए । तब लोगों ने राहत की सांस ली थी। लेकिन एक दिन बाद ही कोरोना ने फिर से अपना रंग दिखा दिया । सोमवार को कोरोना ने फिर से शतक ठोक दिया। सिलीगुड़ी महकमा तथा आसपास के इलाके में कोरोना के 112 नए मामले सामने आए। इनमें सिलीगुड़ी नगर निगम क्षेत्र में है यह आकड़ा 60 था। इस परिस्थिति में मंगलवार को एक बार फिर से बड़ी राहत वाली खबर आई है। नए मरीजों के मुकाबले ठीक होने वाले की संख्या ज्यादा रही। पिछले 24 घंटे में सिलीगुड़ी तथा आसपास के इलाके में जहां 70 नए मरीज मिले वहीं 106 लोगों ने कोरोना से जंग जीत ली है। सिलीगुड़ी नगर निगम क्षेत्र में 60 मरीज मिलें हैं। जबकि सिलीगुड़ी महकमा के माटीगाड़ा प्रखंड में 9, खोरीबाड़ी में 5,नक्सलबाड़ी में 8,फांसीदेवा में 5 तथा सुकना में 3 कोरोना वायरस के मामले सामने आए। इस तरह से पिछले 26 दिनों में सिलीगुड़ी नगर निगम क्षेत्र अंतर्गत कोरोना वायरस के 1400 से ज्यादा मामले सामने आ चुके हैं। जिला प्रशासन द्वारा मिली जानकारी के अनुसार शनिवार को कुल 69 मरीजों ने कोरोना वायरस से जंग जीत ली है। कोरोना वायरस से जंग जीतने वाले मरीजों में होम आइसोलेशन तथा सेफ हाउस में रहने वाले मरीज भी शामिल हैं।

उल्लेखनीय है कि सिलीगुड़ी नगर निगम क्षेत्र में पिछले दो सप्ताह के अंदर दिनों में नौ सौ के करीब मामले सामने आए थे।

बीते अक्टूबर महीने में भी कोरोनावायरस के रिकॉर्ड मामले सिलीगुड़ी नगर निगम क्षेत्र तथा सिलीगुड़ी महकमा क्षेत्र में दर्ज किए गए थे। अक्टूबर महीने में सिलीगुड़ी नगर निगम क्षेत्र में कोरोना वायरस के 1800 से ज्यादा मामले सामने आए थे, तो वहीं एक महीने के दौरान कोरोना वायरस संक्रमित 103 मरीजों की मौत भी हुई थी। हैं। स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है की पूजा के दौरान जिस तरह से लोगों ने लापरवाही की तथा स्वास्थ्य नियमों का पालन किए बगैर मास्क तथा शारीरिक दूरी को नजरअंदाज करते हुए पूजा का भ्रमण किया, इसका परिणाम आना शुरू हो गया है यदि अभी भी लोग नहीं सतर्क हुए तो और भी गंभीर हो सकती है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.