top menutop menutop menu

अब जीआरपी के आइसी कोरोना की चपेट में,नए मामले में भी कोई कमी नहीं

-पुलिस कमिश्नरेट का एक कांस्टेबल भी संक्रमित

-डेंगू की आशंका से भी उड़ी प्रशासन की नींद

-उच्च स्तरीय बैठक में लिए गए कई फैसले 29

नए मामले सामने आए

-----------------

-छह जुलाई से घर-घर होगा सर्वे का काम

-आम लोगों को डेंगू से भी जागरूक किया जाएगा जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : कोरोना ने अब पुलिस कर्मियों को चपेट में लेना शुरू कर दिया है। एनजेपी जीआरपी से लेकर सिलीगुड़ी पुलिस कमिश्नरेट तक इसने खलबली मचा दी है। गुरुवार को एनजेपी जीआरपी के आइसी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए। जीआरपी के आधिकारिक सूत्रों द्वारा मिली जानकारी के अनुसार आइसी की कोरोना वायरस की जांच रिपोर्ट गुरुवार को आई, जिसमें वे पॉजिटिव पाए गए। उनका इलाज प्रधान नगर इलाके के एक निजी नर्सिग होम में चल रहा है। इसके अलावा सिलीगुड़ी पुलिस कमिश्नरेट का एक कांस्टेबल भी गुरुवार को कोरोना वायरस से संक्रमित पाया गया। उनका सिलीगुड़ी के कोविड-19 अस्पताल में इलाज चल रहा है। जबकि सिलीगुड़ी नगर निगम क्षेत्र में कोरोना वायरस के मामले भी लगातार बढ़ रहे हैं। सिलीगुड़ी नगर निगम के आधिकारिक सूत्रों द्वारा मिली जानकारी के अनुसार गुरुवार को निगम क्षेत्र में कोरोनावायरस के कुल 29 मामले सामने आए। वहीं उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज व अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में कोरोना वायरस के 15 संभावित मरीज भर्ती हैं। दूसरी ओर कोरोना वायरस महामारी के बीच डेंगू भी दस्तक ना दे सके, इसके लिए दार्जिलिंग जिला स्वास्थ्य विभाग तथा जिला प्रशासन ने तैयारी शुरू कर दी है। डेंगू से बचाव तथा इसके प्रति लोगों के बीच जागरूकता फैलाने को लेकर गुरुवार को सिलीगुड़ी के राज्य अतिथि निवास में एक प्रशासनिक बैठक की गई। बैठक में दार्जिलिंग जिले के डीएम एस पोन्नाबल्लम, जिले के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी डॉ प्रलय आचार्य समेत सिलीगुड़ी महकमा तथा सिलीगुड़ी नगर निगम के अधिकारी शामिल हुए। बैठक के बाद संवाददाताओं से बात करते हुए सीएमओएच डॉ आचार्य ने कहा कि डेंगू की रोकथाम तथा इससे बचाव के लिए लोगों के बीच स्वास्थ्य विभाग तथा सिलीगुड़ी नगर निगम की ओर से जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। सिलीगुड़ी नगर निगम क्षेत्र में इस महीने छह जुलाई से नगर निगम के स्वास्थ्य कर्मी घर-घर जाकर सर्वे करेंगे। सर्वे के दौरान घर में कितने लोग रह रहे हैं, किसी को बुखार तो नहीं है, आस-पास में जल-जमाव तो नहीं हो रहा है, इन सब तथ्यों की जानकारी हासिल की जाएगी। इसके अलावा पर्ची बांटकर लोगों को डेंगू से बचाव के बारे में जागरूक किया जाएगा। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्यकर्मी हर घर में पहुंचें, इसे सुनिश्चित करने के लिए सर्वे फार्म पर स्वास्थ्यकर्मी के अलावा जिस घर में जाएंगे, उस घर के किसी एक सदस्य का हस्ताक्षर भी लिया जाएगा। बताया गया कि यह पहली बार किया जा रहा है। पहले लोगों की शिकायत रहती थी कि स्वास्थ्यकर्मी सभी घरों तक नहीं पहुंच पाते हैं।

जनवरी से अब तक डेंगू के तीन मामले

दार्जिलिंग जिला स्वास्थ्य विभाग द्वारा मिली जानकारी के अनुसार इस वर्ष एक जनवरी से लेकर अब तक जिले में डेंगू के तीन मामले सामने आ चुके हैं। बताया गया कि डेंगू के प्रति जागरूकता अभियान और पहले शुरू किया जाना था। लेकिन कोरोना वायरस महामारी के चलते इस बार अभियान शुरू करने में देरी हुई है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.