West Bengal: ईसीएल, सीआइएसएफ व रेलवे कर्मियों की मदद से चल रहा था लाला का अवैध धंधा, सीबीआइ को मिले सुराग

लाला का अवैध धंधा रेलवे कर्मियों की मदद से चल रहा था। फाइल फोटो

West Bengal कोलकाता के साल्टलेक इलाके में स्थित लाला के फ्लैट में सात घंटे तलाशी अभियान चलाया गया और उसके बाद उसे सील कर दिया गया। इसी तरह लाला के पुरुलिया स्थित एक ठिकाने में भी छापामारी की गई हालांकि लाला का कहीं भी पता नहीं चल पाया।

Publish Date:Sun, 29 Nov 2020 09:08 PM (IST) Author: Sachin Kumar Mishra

राज्य ब्यूरो, कोलकाता। West Bengal: कोयला माफिया अनूप माझी उर्फ लाला ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (ईसीएल), सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी फोर्स (सीआइएसएफ) और रेलवे के कुछ कर्मचारियों की मदद से अवैध खनन का धंधा कर रहा था। मामले की जांच कर रही सीबीआइ के हाथ ऐसे कई महत्वपूर्ण सुराग लगे हैं, जो इस बात की ओर इशारा कर रहे हैं। सीबीआइ को पता चला है कि अवैध कोयला खनन से लेकर उसकी तस्करी तक का सारा काम इन कर्मचारियों की मदद से धड़ल्ले से चल रहा था। इसके बदले हर महीने उन्हें लाला की ओर से उनका हिस्सा पहुंचा दिया जाता था। गौरतलब है कि सीबीआइ की टीमों ने शनिवार को लाला के कोलकाता, आसनसोल रानीगंज, दुर्गापुर समेत राज्य के विभिन्न इलाकों में स्थित ठिकानों पर छापामारी की थी।

कोलकाता के साल्टलेक इलाके में स्थित लाला के फ्लैट में सात घंटे तलाशी अभियान चलाया गया और उसके बाद उसे सील कर दिया गया। इसी तरह लाला के पुरुलिया स्थित एक ठिकाने में भी छापामारी की गई, हालांकि लाला का कहीं भी पता नहीं चल पाया। सीबीआइ को जांच में मालूम हुआ है कि ईसीएल के कुछ कर्मचारियों की मदद से वहां की खानों में अवैध खनन होता था। इसके बाद लाला सीआइएसएफ के कुछ कíमयों की मदद से उस कोयले की तस्करी करता था। इसमें रेलवे के कुछ कर्मचारी भी उसकी मदद करते थे। लाला का धंधा केवल बंगाल ही नहीं, बिहार व झारखंड में भी फैला हुआ है। गत सात अगस्त को पांडेश्वर रेलवे साइडिंग इलाके में करीब नौ मैट्रिक टन कोयले की चोरी की घटना सामने आने के बाद लाला के गिरोह का पर्दाफाश हुआ था।

गौरतलब है कि बंगाल व झारखंड में संचालित ईस्टर्न कोलफील्ड लिमिटेड (ईसीएल) से अवैध खनन और कोयला चोरी मामले में आयकर विभाग से मिली जानकारी के आधार पर शुक्रवार को एफआइआर दर्ज करने के बाद सीबीआइ टीम ने शनिवार को बंगाल समेत चार राज्यों में 45 ठिकानों पर छापेमारी की। एफआइआर में ईसीएल के दो महाप्रबंधकों, एक मुख्य सचिव, एक अन्य अधिकारी, एक मुख्य सुरक्षा अधिकारी और ईसीएल के कुछ अन्य कर्मियों के साथ कोयला माफिया अनूप मांझी उर्फ लाला का नाम शामिल है। सीबीआइ ने एफआइआर में छह को नामजद किया था।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.