दीदी और भाइपो का टिकट कट जाएगा : मोदी

राकेश प्रदीप उपाध्याय आसनसोल बिल्कुल रवींद्र नाथ ठाकुर जैसा चेहरा। वैसी ही दाढ़ी। वेशभू

JagranSun, 18 Apr 2021 12:40 AM (IST)
दीदी और भाइपो का टिकट कट जाएगा : मोदी

राकेश प्रदीप उपाध्याय, आसनसोल: बिल्कुल रवींद्र नाथ ठाकुर जैसा चेहरा। वैसी ही दाढ़ी। वेशभूषा भी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को आसनसोल में चुनावी सभा की तो कवि गुरु का स्मरण किया। कहा, रवि ठाकुर का आदेश है, चित्तो जेथा भय शून्यो। मतलब है कि हृदय शांत रहे। ममता दीदी का प्रयास रहता है चित्तो जेथा भयाक्रांतो। वो चाहती हैं कि लोग भयभीय रहें। मोदी बोले कि चार चरणों के मतदान में तृणमूल खंड खंड हो चुकी है। शेष चार चरणों के मतदान के बाद दीदी और भाइपो का टिकट कट जाएगा।

उन्होंने एलान किया कि भाजपा की सरकार बनने के बाद कैबिनेट की पहली बैठक में पीएम किसान सम्मान निधि पर बड़ा फैसला लिया जाएगा। किसानों के बैंक खाते में सीधे 18 हजार रुपये भेजे जाएंगे। आसनसोल के निघा एयरोड्रम में शनिवार को चुनावी सभा में नरेंद्र मोदी ने कहा, केंद्र सरकार ने पांच लाख रुपये मुफ्त इलाज की सुविधा दी तो दीदी दीवार बन गई। केंद्र ने शरणार्थियों की मदद के लिए कानून बनाया तो दीदी विरोध करने लगी। केंद्र ने मुस्लिम बहनों को तीन तलाक से मुक्ति के लिए कानून बनाया तो दीदी आग बबूला हो गई। किसानों को बिचौलियों से मुक्त कराने का कानून बनाया तो दीदी विरोध में उतर आई। केंद्र ने किसानों के बैंक खाते में सीधे पैसे ट्रांसफर करना शुरू किया तो इससे भी वंचित कर दिया। बांग्ला भाषा में पीएम बोले, ए बार संगा तय, सहयोगिता होबे, ए बार विरोध नोही, विकास होबे, भय नहीं पोटे भात होबे, शिक्षा होबे, शिल्प होबे, कर्म संस्थान होबे।

कोरोना पर बैठकों में भी नहीं आई दीदी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि दीदी अपने अहंकार में इतनी बड़ी हो गई है कि उन्हें हर कोई अपने आगे छोटा दिखता है। केंद्र सरकार ने अनेक बार अनेक विषयों पर बात करने के लिए बैठकें बुलाई। दीदी कोई न कोई कारण बता कर इस बैठकों में नहीं आई। कोरोना पर पिछली दो बैठकों में बाकी मुख्यमंत्री आए। दीदी नहीं आई। नीति आयोग की गवर्निंग काउंसिल की बैठक में दीदी नहीं आई। मां गंगा की सफाई के लिए देश में अभियान शुरू हुआ। उसमें नहीं आई। एक दो बार नहीं आने की बात समझ आती है। दीदी ने यही तरीका बना लिया है। दीदी को जनता के दुख दर्द की परवाह होती तो लोगों की भलाई में होने वाले काम रोकने का काम नहीं करती।

करप्शन की जांच रोकने में सारे संसाधन लगा देती: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि दीदी के तोलाबाज कोरोना के दौरान भेजे गए राशन को लूटते हैं तो वो उन्हें खुली छूट देती है। केंद्रीय एजेंसी चाहे सहयोग के लिए बंगाल आए अथवा करप्शन की जांच के लिए, दीदी उन्हें रोकने के लिए पूरे संसाधन लगा देती है। दीदी केंद्रीय वाहिनी नहीं, सेना तक को बदनाम करती है। राजनीति के लिए झूठे आरोप लगाती है। दीदी खुद को देश के संविधान से ऊपर समझती हैं।

दीदी के कारण न जाने कितनी माताओं ने खोया बेटा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि दीदी की राजनीति सिर्फ विरोध या गतिरोध तक सीमित नहीं है। उनकी राजनीति प्रतिशोध की खतरनाक सीमा को भी पार कर गई है। दस सालों में भाजपा के सैकड़ों कार्यकर्ताओं की हत्या की गई। सभा के मंच पर आने के पहले कई पीड़ित परिवारों से बात हुई। दीदी की वजह से न जाने कितनी माताओं ने अपने बेटों को खोया है, न जाने कितनी बहनें आज भी अपने भाइयों का इंतजार कर रही हैं।

गुंडागीरी करने नहीं देने से बौखला गई दीदी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि दीदी को इस बार के चुनाव में छप्पा वोट करने नहीं दिया जा रहा है। दीदी को गुंडागीरी और मस्तानगीरी का खेला नहीं करने दिया जा रहा है तो वे बौखला गई है। दीदी द्वारा हर पैंतरा अपनाया जा रहा है ताकि बंगाल के लोगों को वोट देने से रोक सकें। टीएमसी द्वारा चुनाव आयोग पर दबाव बनाया जा रहा है। दिल्ली से लेकर बंगाल तक दीदी ने मोदी के खिलाफ मोर्चा खुलवा दिया है। दीदी ओ दीदी, दीदी ओ आदरणीय दीदी। आप चाहे जितनी साजिशें कर लीजिए, इस बार आपकी साजिश बंगाल के लोग नाकाम कर देंगे। अब बंगाल की जनता भूतपूर्व मुख्यमंत्री का सटिर्फिकेट देने वाली है।

शिड्यूल कास्ट को भिखारी कहा तो चुप रहीं: पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि दीदी के करीबी लोगों ने शिड्यूल कास्ट के लोगों को भिखारी कहा तो भी वे चुप रहीं। बीजेपी को वोट देने वालों को बंगाल से बाहर फेंकने की धमकी दी गई। दीदी चुप रही। किसी की दुखद मृत्यु पर दीदी की संवेदना वोट बैंक का फिल्टर लगा कर प्रकट होती है। बंगाल के लोगों को दीदी की नीयत पर शक है।

दुष्कर्म मामलों के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट नहीं बनने दिया: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आरोप लगाया कि दीदी ने बंगाल में दुष्कर्म के मामलों के त्वरित निष्पादन के लिए फास्ट ट्रैक कोर्ट नहीं बनने दिया। पूरे देश में इसके लिए एक हजार कोर्ट बनाए जा रहे हैं। राज्य सरकार के आंकड़ों को छिपा कर दीदी ने महिलाओं के साथ हुए अत्याचार को छिपा लिया। भाजपा की सरकार बनी तो बेटियों को दूसरे राज्यों में भेजने के अवैध काम पर भी रोक लगाई जाएगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.