ग्रामीण इलाकों में वैक्सीन लगाने को तैयार नहीं कुछ लोग

बाजपुर मेंकोविड-19 को लेकर अफवाहों से घिरे ग्रामीण क्षेत्र के कुछ लोग वैक्सीनेशन कराने से मना कर रहे हैं।

JagranSun, 20 Jun 2021 11:53 PM (IST)
ग्रामीण इलाकों में वैक्सीन लगाने को तैयार नहीं कुछ लोग

जाटी, बाजपुर :

कोविड-19 को लेकर अफवाहों से घिरे ग्रामीण क्षेत्र के कुछ लोग वैक्सीनेशन करने गाव पहुंच रही स्वास्थ्य विभाग की टीम की नहीं सुन रहे। ग्राम बन्नाखेड़ा में जब बार-बार अनुरोध के बावजूद ग्रामीण वैक्सीन लगवाने को गाव में लगे शिविर में नहीं पहुंचे तो टीम को बिना वैक्सीनेशन के ही शिविर समाप्त कर लौटना पड़ा।

रविवार को ग्राम बन्नाखेड़ा स्थित माता मंदिर परिसर में एएनएम नीति खरवार की अगुवाई में 45 प्लस उम्र के लोगों के लिए कोविड-19 वैक्सीनेशन शिविर लगाया गया जिसमें टीम के काफी देर तक इंतजार करने के बाद मात्र चार लोग वैक्सीन लगवाने पहुंचे और इन्हें भी 10 लोगों के होने पर ही वायल खुलने की वजह से मायूस होकर घर लौटना पड़ा। एएनएम नीति खरवार ने बताया कि इन लोगों को सोमवार को लगने वाले कैंप में फोन करके बुलाया जाएगा और वैक्सीन लगाई जाएगी। उन्होंने बताया कि टीम ने बैलपड़ाव रोड पर स्थित पाल कॉलोनी में घर-घर जाकर लोगों को वैक्सीनेशन के प्रति जागरूक किया, लेकिन डर के कारण अधिकतर लोगों ने वैक्सीन लगवाने से ही साफ इंकार कर दिया है । टीम में आशा कार्यकर्ता निर्मला पाडेय, सावित्री देवी, कमलेश देवी, सेवक सिंह, सामाजिक कार्यकर्ता पवन कुमार वर्मा आदि शामिल थे। हर ब्लाक को सात हजार वैक्सीन की डोज

रुद्रपुर :कोराना से बचाव के लिए प्रदेश सरकार ने 54 हजार वैक्सीन की डोज आवंटित कर दी है। सोमवार को वृहद स्तर पर चलने वाले वैक्सीनेशन अभियान के लिए आठों ब्लाकों में 80 केंद्र बनाए हैं। हर ब्लाक को सात हजार वैक्सीन की डोज दी गई है। स्वास्थ्य विभाग का लक्ष्य है कि हर दिन कम से कम 15 हजार डोज लगाई जाए।

कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए वैक्सीन की डोज के लिए आनलाइन व आफलाइन वैक्सीनेशन के नियमों में कुछ ढील दी गई है। इसमें हर केंद्र पर कम से कम पांच सौ आनलाइन व पांच सौ ही आफलाइन व्यवस्था से लोग डोज लगा सकेंगे। पूर्व में 18 साल से 44 साल के लोगों के लिए स्लाट बुकिग की व्यवस्था पूर्व की तरह चलती रहेगी। वहीं आफलाइन माध्यम से भी 18 साल से 44 लोग भी डोज लगवा सकेंगे इसके लिए नियम निर्धारित हैं। दूसरी तरफ 45 वर्ष से ऊपर के लोगों पर इस बार खास तौर पर फोकस रहेगा। इस आयु वर्ग में कोई भी महिला व पुरुष को वैक्सीनेशन से छोड़ा नहीं जाएगा। एसीएमओ डा. हरेंद्र मलिक ने बताया कि हर केंद्र पर लगभग दो हजार तो किसी केंद्र पर कम भी लोग जुटेंगे। इस अनुमान के हिसाब से केंद्रों की संख्या को बढ़ाया गया है कि थोड़ी -थोड़ी दूर पर गांव या शहर में लोगों को वैक्सीनेशन केंद्र मिल जाएं। इससे भीड़ का दवाब केंद्र पर मौजूद वैक्सीनेशन टीम पर नहीं पड़ेगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.