कोविड मरीजों से अधिक पैसा वसूलने वाले अस्पतालों पर हो कार्रवाई

कोविड मरीजों से अधिक पैसा वसूलने वाले अस्पतालों पर हो कार्रवाई

खटीमा मेंभ्संक्रमितों के इलाज के लिए भारी भरकम शुल्क वसूलने वाले अस्पतालों के खिलाफ भाजपाइयों ने खोला मोर्चा।

JagranFri, 07 May 2021 07:33 PM (IST)

संवाद सहयोगी, खटीमा: भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ताओं ने कोविड मरीजों के इलाज के दौरान उनके तीमारदारों से मनमर्जी वूसली करने वाले अस्पताल संचालकों पर सख्त कार्रवाई करने की माग की है। कार्यकताओं ने इस आशय का ज्ञापन एसडीएम के माध्यम से जिलाधिकारी रंजना राजगुरु को भेजा है।

काशीपुर में कोविड इलाज के लिए अधिकृत किए गए निजी अस्पतालों पर अधिक पैसा वसूलने का मामला संयुक्त टीम की छापेमारी के दौरान खुलासा हुआ है। जिस पर मुकदमा भी दर्ज किया है। छापेमारी के बाद उजागर हुआ कि अस्पताल में प्रति दिन के हिसाब से 55 हजार रुपए मागें जा रहे थे। पीड़ितों से लूटखसोट करने वाले डाक्टरों पर कार्रवाई की माग को लेकर सीमात के कार्यकर्ताओं ने डीएम को ज्ञापन भेजा।

जिसमें कहा कि प्राइवेट अस्पतालों में संचालित हो रहे कोविड सेंटर इलाज के नाम पर अत्याधिक रुपए ले रहे है। बैड समेत विभिन्न जांच की दरों में भी वृद्घि कर दी गई है। जो गलत है। उन्होंने कहा कि आमजन कोरोना महामारी से जूझ रहा है। लोगों का व्यापार चौपट हो गया है। जिससे रोजी-रोटी का संकट तक गहराने लगा है। ऐसे में इलाज के लिए भारी भरकम रकम दे पाना लोगों के लिए असंभव हो गया। उन्होंने आरोप लगाया कि सेंटर संचालक स्वास्थ्य बीमा कार्ड भी स्वीकार नहीं कर रहे हैं। ज्ञापन पर जिला महामंत्री हिमांशु बिष्ट, नगर अध्यक्ष सतीश गोयल, मंडल अध्यक्ष किशोर जोशी आदि के हस्ताक्षर हैं।

झोलाछाप डाक्टरों पर हो अंकुश

जिलामंत्री भुवन जोशी ने सीएमओ को पत्र भेजकर झोलाछाप डाक्टरों पर भी अकुंश लगाने की माग की है। उन्होंने कहा कि वे कोविड की जाच किए बिना बुखार, खासी, सर्दी-जुकाम की दवा देकर इलाज कर रहे है। जब वह मरीज गंभीर स्थिति में पहुच रहा है तब उन्हे न तो बेड मिल पा रहा न ऑक्सीजन। उन्होंने क्लीनिक जनहित में बंद कराने की माग की है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.