सल्डोगी गांव में पिजरे में कैद हुआ गुलदार

सल्डोगी गांव में पिजरे में कैद हुआ गुलदार
Publish Date:Mon, 19 Oct 2020 05:05 PM (IST) Author: Jagran

महराजगंज: लोकनिर्माण विभाग की लापरवाही व मानक में अनियमितता के कारण सड़कें नियत समय से पूर्व ही टूटकर आमजन के लिए समस्याओं का कारण बनने लगी हैं। कई मार्गों पर विभागीय उपेक्षा की चादर इस कदर पड़ी हुई है कि कहीं गड्ढे में सड़क तो कहीं सड़क में गड्ढे की कहानी बनी हुई है। नजीर के तौर पर जिले के सिदुरिया-झनझनपुर मार्ग का हाल ही बदहाल हो गया है। सिदुरिया से लेकर पिपरा कल्याण, कसमरिया से होते हुए झनझनपुर की ओर जाने वाले इस मार्ग में हजारों गड्ढे सरकार के गड्ढामुक्त अभियान पर सवाल खड़ा कर रहा है। गड्ढों की वजह से आए दिन इस मार्ग पर दुर्घटनाएं हो रही हैं। सिदुरिया से निकलने वाला यह मार्ग क्षेत्र के झनझनपुर, बागापार पिपरा कल्याण, खजुरिया गांव को चौक मार्ग होते हुए सीधे जिला मुख्यालय मार्ग से जोड़ता हैं। फोटो: 30 एमआरजे 6

सड़क पर बड़े बड़े गड्ढे हो जाने की वजह से यात्रा में राहगीरों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। सिदुरिया से झनझनपुर तक सात किमी यात्रा में घंटों लग जाते हैं।

आशुतोष गुप्ता, सिदुरिया फोटो : 30 एमआरजे 7

: सड़क निर्माण व मरम्मत के लिए जिम्मेदारों की लापरवाही के कारण यह दिन देखना पड़ रहा है। अभी तो ठीक है लेकिन जरा सी भी बरसात होने पर स्थिति बदतर हो जाती है।

अजय शर्मा, सिदुरिया फोटो : 30 एमआरजे -8

: सरकार गड्ढामुक्त योजना के तहत सभी सड़कों का कायाकल्प करने में जुटी है, लेकिन इस सड़क पर वर्षों से जिम्मेदारों की नजर नहीं पड़ी। फरवरी 2019 में पैचवर्क का कार्य तो कराया गया लेकिन वह भी एक दो माह में ही उखड़ गया।

राहुल गुप्ता , सिदुरिया फोटो : 30 एमआरजे 9

: 24 घंटे चलने वाली यह सड़क कच्ची सड़कों से भी बदहाल हो गई है। इस मार्ग पर ही भारतीय स्टेट बैंक व इफको गोदाम है जहां प्रतिदिन सैकड़ों की संख्या में लोगों का आना जाना लगा रहता है।

वेद प्रकाश गुप्ता, सिदुरिया

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.