केदारनाथ के चिकित्सालय में जेनरेटर लगाने के निर्देश

केदारनाथ धाम में स्थित चिकित्सालय में मरीजों को किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो इसके लिए जनरेटर लगाने के निर्देश डीएम ने ऊर्जा निगम के अधिकारियों को दिए हैं। साथ ही सड़े-गले विद्युत पोल को भी बदलने के निर्देश दिए।

JagranPublish:Mon, 07 Jun 2021 07:07 PM (IST) Updated:Mon, 07 Jun 2021 10:50 PM (IST)
केदारनाथ के चिकित्सालय  में जेनरेटर लगाने के निर्देश
केदारनाथ के चिकित्सालय में जेनरेटर लगाने के निर्देश

संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग: केदारनाथ धाम में स्थित चिकित्सालय में मरीजों को किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो, इसके लिए जनरेटर लगाने के निर्देश डीएम ने ऊर्जा निगम के अधिकारियों को दिए हैं। साथ ही सड़े-गले विद्युत पोल को भी बदलने के निर्देश दिए।

जिला कार्यालय में ऊर्जा निगम के अधिकारियों के साथ आयोजित समीक्षा बैठक में डीएम मनुज गोयल ने कहा कि विश्व प्रसिद्ध केदारनाथ धाम यात्रा की ²ष्टि से महत्वपूर्ण स्थल है। साथ ही वर्ष 2013 की दैवीय आपदा के पश्चात यहां पुनर्निर्माण/निर्माण कार्य भी वर्तमान में युद्धस्तर पर गतिमान हैं। तीर्थयात्रियों एवं पुनर्निर्माण कार्यों में तैनात कार्मिकों सहित श्रमिकों के उपचार को देखते हुए यहां चिकित्सालय में विद्युत आपूर्ति सुचारू रहना जरूरी है। इसके लिए उन्होंने जेनरेटर की व्यवस्था करने के लिए ऊर्जा निगम को निर्देशित किया।

डीएम ने समय-समय पर जनपद के अंतर्गत विद्युत के झूल रहे तारों, सड़े-गले बिजली के खंबों की शिकायतें प्राप्त होती रहती हैं। डीएम ने बताया कि जनपद दैवीय आपदा प्रभावित क्षेत्र है। यहां समय-समय पर घटित होने वाली प्राकृतिक आपदाओं यथा भूस्खलन, अतिवृष्टि, बादल फटने इत्यादि अन्य कारणों से विद्युत के खंबे तथा लाइन क्षतिग्रस्त हो जाती हैं, जो आगे चलकर आम जनता के लिए खतरे का कारण बनती हैं। इनसे भविष्य में कोई अप्रिय घटना घटित न हो इसके लिए झूलते विद्युत तारों तथा सड़े-गले विद्युत के खंबों की तत्काल मरम्मत करने के निर्देश दिए। जो मरम्मत योग्य न हो, तो उन्हें तत्काल बदलकर उनके स्थान पर नये तारों एवं खंबों को स्थापित कर विद्युत व्यवस्था को सुचारू किया जाए।