top menutop menutop menu

पिथौरागढ़ में फिर आफत की बारिश

पिथौरागढ़ में फिर आफत की बारिश
Publish Date:Mon, 10 Aug 2020 05:47 AM (IST) Author: Jagran

पिथौरागढ़, जेएनएन: आपदा से जूझ रही मुनस्यारी तहसील में शनिवार की रात फिर जमकर बारिश हुई। 14 दिन बाद खुला मुनस्यारी मोटर मार्ग मलबा आने से फिर बंद हो गया है। ग्रामीणों द्वारा आवागमन के लिए बनाए गए दो पैदल पुल बह गए हैं। भारी बारिश के चलते आपदा प्रभावित गांवों के ग्रामीण रातभर नहीं सो पाए। चीन सीमा को जोड़ने वाले दो मोटर मार्ग अभी भी बाधित हैं।

शनिवार रात 10 बजे से शुरू हुई बारिश सुबह आठ बजे तक जारी रही। रविवार को कुछ घंटे थमने के बाद देर सायं तक बारिश का क्रम चलता रहा। भारी बारिश से सैंथल और घोरपट्टा में ग्रामीणों द्वारा आवागमन के लिए बनाए गए पुल बह गए। इससे ग्रामीणों का आवागमन ठप हो गया है। मदकोट मोटर मार्ग कई स्थानों पर मलबा आ जाने से सड़क बंद हो गई। डांडाधार से बनाए गए वैकल्पिक मार्ग भी मलबा आने से बाधित हो गया है। थल मुनस्यारी मोटर मार्ग में चिल्किया के पास बीती रात्रि आठ बजे भारी मलबा आ गया। प्रात: 11 बजे से मलबा सड़क से हटाया जा सका। इसके बाद वाहनों का आवागमन शुरू हुआ। सरस्वती शिशु मंदिर मोटर मार्ग में तीन स्थानों पर मलबा आ जाने से वाहनों का संचालन ठप रहा। चीन सीमा को जोड़ने वाला धारचूला तहसील का तवाघाट-गर्बाधार और मुनस्यारी तहसील का मिलम मोटर मार्ग रविवार को नहीं खुल पाया। धारचूला में व्यास घाटी के दर्जनों गांवों के ग्रामीणों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। जिले में रविवार को 25 ग्रामीण मोटर मार्ग बाधित रहे।

---------------

58 परिवारों ने जागकर बिताई रात

मुनस्यारी: 19 एवं 20 जुलाई को आपदा की मार झेल चुके गरघनिया और बलौटा तोक के ग्रामीण भारी बारिश के चलते पूरी रात नहीं सो सके। गांव से लगी हंसापानी और दलानी पहाड़ियों से लगातार बोल्डर गिर रहे हैं। गांव के बीच से बहने वाला नाला उफान पर है। सुरक्षा को लेकर चिंतित ग्रामीणों ने रविवार को गांव में बैठक की। बैठक में तय हुआ कि बार-बार मांग करने के बाद भी गांव की सुरक्षा के लिए कोई पहल नहीं हो रही। ग्रामीण अब 12 अगस्त को मुनस्यारी आ रहे कुमाऊं कमिश्नर का घेराव करेंगे। ग्रामीणों ने बीआरओ की कार्यशैली पर भी सवाल खड़े किए। बैठक में जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया, ग्राम प्रधान ललिता मर्तोलिया, प्रेम सिंह मर्तोलिया, लवराज रावत, हीरा देवी, मुन्नी देवी, प्रेमा देवी आदि मौजूद रहे।

----------------

सांसद ने रक्षा मंत्री को लिखा पत्र

पिथौरागढ़: भारी बारिश के चलते मुनस्यारी और धारचूला में लगातार खराब हो रहे हालत को लेकर सांसद अजय टम्टा ने रक्षा मंत्री को पत्र लिखा है। पत्र में उन्होंने कहा कि चीन और नेपाल सीमा से लगे इस क्षेत्र में दर्जनों सड़कें बाधित हैं, जिससे स्थानीय लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। लोगों के रोजगार प्रभावित हो रहे हैं। उन्होंने क्षेत्र में तैनात सीमा सड़क संगठन के माध्यम से बंद पड़ी सड़कों को अविलंब खोले जाने की मांग की।

---------------- मुनस्यारी में हुई सर्वाधिक 73 मिमी. बारिश

पिथौरागढ़: शनिवार रात सर्वाधिक 73 मिमी. बारिश मुनस्यारी तहसील में हुई। यहां पूरी रात मूसलाधार बारिश हुई। धारचूला तहसील में 65 मिमी. बारिश रिकार्ड की गई। बेरीनाग में 25 मिमी. और डीडीहाट में 22 मिमी. बारिश दर्ज की गई।

------------------ काली नदी फिर चेतावनी लेवल के पास

पिथौरागढ़: सीमांत तहसील धारचूला और मुनस्यारी में हुई भारी बारिश से भारत-नेपाल के बीच सीमा बनाने वाली काली नदी का जल स्तर फिर चेतावनी लेवल के पास पहुंच गया है। नदी का चेतावनी लेवल 889 मीटर है। रविवार को नदी का जल स्तर 888.90 मीटर रिकॉर्ड हुआ। सरयू और गोरी नदी के जल स्तर में भी बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.