पिथौरागढ़ नगर के देवेश ने बढ़ाया जिले का गौरव, सेना में बने अफसर

पिथौरागढ़ जिला मुख्यालय के मेधावी युवा देवेश जोशी भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट बन गए हैं।

JagranSat, 12 Jun 2021 10:32 PM (IST)
पिथौरागढ़ नगर के देवेश ने बढ़ाया जिले का गौरव, सेना में बने अफसर

संवाद सहयोगी, पिथौरागढ़: पिथौरागढ़ जिला मुख्यालय के मेधावी युवा देवेश जोशी भारतीय सेना में अफसर बन गए हैं। शनिवार को देहरादून में आयोजित पासिंग आउट परेड के बाद उन्हें लद्दाख में तैनाती दी गई है।

नगर के नया बाजार क्षेत्र में रहने वाले देवेश ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा विजडम नर्सरी पब्लिक स्कूल से ली। आठवीं तक पढ़ाई एशियन एकेडमी स्कूल से लेने के बाद उनका चयन घोड़ाखाल सैनिक स्कूल के लिए हुआ। 12 वीं तक परीक्षा सैनिक स्कूल से करने के बाद वे एनडीए की परीक्षा में शामिल हुए और पहले ही उन्होंने इस देश की प्रतिष्ठित परीक्षा में सफलता हासिल कर ली। चार वर्ष के कड़े प्रशिक्षण के बाद शनिवार को भारतीय सेना का अंग बन गए। सेना में लेफ्टिनेंट पद पर उन्हें लद्दाख में पोस्टिंग दी गई है। उनके पिता उमेश चंद्र जोशी नगर के शास्त्री मार्केट में अपना व्यवसाय चलाते हैं। माता शोभा जोशी गृहणी हैं। देवेश के दादा स्व.रजनीकांत जोशी पिथौरागढ़ जिले के अग्रणी समाजसेवियों में गिने जाते हैं। देवेश के बड़े भाई मनीष जोशी भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र में वरिष्ठ विज्ञानी के पद पर कार्यरत हैं। देवेश के सेना में अधिकारी बनने पर जिला मुख्यालय में खुशी का माहौल है। विधायक चंद्रा पंत, पूर्व विधायक मयूख महर, नगर पालिकाध्यक्ष राजेंद्र रावत, उद्योग व्यापार मंडल अध्यक्ष पवन जोशी, नगर अध्यक्ष शमशेर महर, नगर सेवा समिति के ललित खत्री सहित तमाम लोगों ने देवेश को शुभकामनाएं दी हैं। देवेश ने कहा है कि जीवन में सफलता कड़ी मेहनत से ही संभव है। उन्होंने अपनी सफलता का श्रेय अपने अपने माता-पिता और गुरू जनों के आशीर्वाद को दिया है। ======== सूबेदार पिता करेंगे सेना में अफसर बने बेटे को सैल्यूट

पिथौरागढ़: सीमांत जिले पिथौरागढ़ के धामीगांव के तोक भ्यूला के भगत धामी सेना में लेफ्टिनेंट बन गए हैं। वे परिवार की तीसरी पीढ़ी के सदस्य हैं जो भारतीय सेना में अपना योगदान देंगे।

दूरस्थ गांव भ्यूला के भगत ने पांचवीं कक्षा तक की परीक्षा सोर वैली से उत्तीर्ण की। छठी कक्षा के लिए उनका चयन सैनिक स्कूल घोड़ाखाल के लिए हो गया। 12 वीं की परीक्षा के बाद उन्होंने एनडीए में प्रवेश लिया। चार वर्ष के प्रशिक्षण के बाद शनिवार को वे भारतीय सेना का अंग बनें। कड़ी मेहनत में विश्वास रखने वाले भगत के पिता दुर्गा सिंह धामी तीन कुमाऊं रेजिमेंट में सूबेदार के पद पर तैनात हैं। उनके दादा मोते सिंह धामी भी भारतीय सेना से सेवानिवृत्त हैं। भगत की माता द्रौपदी देवी गृहणी हैं। छोटा भाई कैलाश धामी पिथौरागढ़ महाविद्यालय में बीकाम का छात्र है। दूरस्थ गांव भगत के भारतीय सेना में अधिकारी बनने पर धारचूला तहसील क्षेत्र में खुशी की लहर है। विधायक हरीश धामी, सोर वैली पब्लिक स्कूल की निदेशक डा. उमा पाठक, प्रधानाचार्य लीलावती भट्ट, नगर पालिका अध्यक्ष राजेश्वरी देवी सहित तमाम लोगों ने खुशी जताते हुए उन्हें शुभकामनाएं दी हैं। भगत ने अपनी सफलता का श्रेय माता-पिता और गुरुजनों को दिया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.