top menutop menutop menu

बीमार महिला को बारिश में आठ किमी डोली में बिठाकर सड़क तक पहुंचाया

बीमार महिला को बारिश में आठ किमी डोली में बिठाकर सड़क तक पहुंचाया
Publish Date:Mon, 10 Aug 2020 05:38 AM (IST) Author: Jagran

थल, जेएनएन: सरकार हर गांव तक सड़क पहुंचाने के लाख दावे करे, मगर इसकी जमीनी हकीकत कुछ और ही बयां करती है। सीमांत जिले के थल तहसील क्षेत्रांतर्गत ऊणीसिरतोली का बढ़गाढ़ा गांव आज भी सड़क सुविधा से वंचित है। नतीजतन गांव में जब भी कोई बीमार होता है या गर्भवती महिला को आठ किमी पैदल चलकर डोली के सहारे सड़क तक पहुंचाया जाता है।

रविवार को बढ़गाढ़ा गांव निवासी लीला देवी पत्नी स्व. खुशाल सिंह कोरंगा का स्वास्थ्य खराब हो गया था। सड़क के अभाव में बारिश के बीच ग्रामीण युवा गांव की पगडंडियों में फिसलन भरे रास्ते, उफनता नाला, गधेरा पार कर एक जिंदगी को बचाने के लिए खुद की जान जोखिम में डालकर उसे आठ किमी डोली में बिठाकर नाचनी मुख्य सड़क तक लाए। जहां से महिला को वाहन से उपचार के लिए जिला अस्पताल ले जाया गया। सामाजिक कार्यकर्ता गंगा सिंह कार्की ने बताया कि सड़क न होने से क्षेत्र की जनता को खासी परेशानी का सामना करना पड़ता है। बारिश हो या धूप ग्रामीणों के लिए मरीजों को डोली में बिठाकर सड़क तक लाना नियती बन चुकी है। अपने सुनहरे भविष्य के लिए स्कूली बच्चे भी मीलों पैदल चलने को मजबूर हैं। सड़क की मांग को लेकर कई बार शासन-प्रशासन के साथ ही जनप्रतिनिधियों से भी गुहार लगाई जा चुकी है, मगर कोई भी ग्रामीणों की समस्या सुनने को तैयार नहीं है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के खात्मे के बाद क्षेत्र की जनता उग्र आंदोलन शुरू करेगी।

::::::::वर्जन-

लछिमा-ओखरानी से नाचनी तक 29 किमी सड़क का निर्माण कार्य लोनिवि के माध्यम से कराया जा रहा है। अभी आधी से अधिक सड़क का निर्माण कार्य पूरा हो गया है। इस सड़क के बनने से शीघ्र ही ऊणीसिरतोली के ग्रामीणों को भी सड़क सुविधा का लाभ मिलेगा।

-मीना गंगोला, क्षेत्रीय विधायक

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.