दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

गौला का जलस्तर 1600 क्यूसेक पार, बैराज का एक गेट खोला, पानी संग भारी मात्रा में सिल्ट से जलापूर्ति भी प्रभावित

पानी के साथ भारी मात्रा में सिल्ट भी आ रही है। जिससे बैराजों के गेटों को खतरा है।

बुधवार को भी पहाड़ों के साथ तराई-भाबर में तेज बरसात हुई। इससे नदी का जलस्तर बढऩे लगा। सिंचाई विभाग के अवर सहायक अभियंता मनोज तिवाड़ी ने बताया कि गौला बैराज के रिकार्ड के अनुसाल सुबह जलस्तर 203 क्यूसेक था। जबकि शाम तक जलस्तर 1600 क्यूसेक के ऊपर पहुंच गया।

Prashant MishraThu, 13 May 2021 11:37 AM (IST)

जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : पहाड़ों में बरसात की वजह से गौला नदी का जलस्तर 1600 क्यूसेक से ऊपर पहुंच गया। पानी के साथ काफी मलबा आने पर सिंचाई विभाग को बैराज का एक गेट खोलना पड़ गया। वहीं इससे पेयजल की व्यवस्था भी लड़खड़ाई। इसके साथ ही पानी के साथ सिल्ट आने से जलसंस्थान के ट्रीटमेंट प्लांट की पानी फिल्टरेशन क्षमता लड़खड़ा गयी।

तीन दिन पहले भी बरसात से गौला नदी का जलस्तर बढ़ा था। उस समय जलस्तर 23 सौ क्यूसेक के पार हुआ था। वहीं बुधवार को भी पहाड़ों के साथ तराई-भाबर में तेज बरसात हुई। इससे नदी का जलस्तर बढऩे लगा। सिंचाई विभाग के अवर सहायक अभियंता मनोज तिवाड़ी ने बताया कि गौला बैराज के रिकार्ड के अनुसाल सुबह के समय छह बजे नदी का जलस्तर 203 क्यूसेक था। जबकि शाम तक जलस्तर 1600 क्यूसेक के ऊपर पहुंच गया था। शुरुआती बरसात की वजह से पानी के साथ भारी मात्रा में सिल्ट भी आ रही है। जिससे बैराजों के गेटों को खतरा रहता है।

मलबा व पानी निकालने के लिए बैराज का गेट नंबर छह खोल दिया गया है। जिससे बैराज पर दबाव न पड़े। वहीं जलसंस्थान के अफसरों के मुताबिक गौला से आ रहे पानी के साथ भारी मात्रा में सिल्ट आ रही है। जिससे फिल्टर करने में काफी समय लग रहा है। इसका असर पेयजल व्यवस्था पर भी पड़ रहा है। बुधवार को शाम के समय शहर की पेयजल पेयजल व्यवस्था प्रभावित हुई। हालांकि कहीं से भी जनसंकट की शिकायत जलसंस्थान के अफसरों तक नहीं आई है।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.