कॉर्बेट पार्क के दो कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव, बाहरी लोगों के लिए एक सप्ताह तक बंद रहेगा मुख्यालय

कॉर्बेट पार्क के दो कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव, बाहरी लोगों के लिए एक सप्ताह तक बंद रहेगा मुख्यालय
Publish Date:Tue, 04 Aug 2020 08:08 PM (IST) Author: Skand Shukla

रामनगर, जेएनएन : विश्वप्रसिद्ध कॉर्बेट पार्क के कर्मचारी भी कोरोना से अछूते नहीं रहे। कोरोना ने कॉर्बेट पार्क प्रशासन में भी दस्तक दे दी है। कॉर्बेट के फ्रंट लाइन के दो कर्मचारी भी कोरोना की चपेट में आ गए है। दोनों कर्मचारी किसी पॉजिटिव पर्यटक के संपर्क में आए या किसी अन्य के, यह अभी साफ नहीं हो पाया है। आनन फानन में कॉर्बेट के मुख्यालय को बाहर से आने वाले लोगों व कर्मचारियों के लिए एक सप्ताह के लिए बंद कर दिया गया है। दोनों कर्मचारियों के संपर्क में आए कॉर्बेट के पार्क वार्डन आरके तिवारी भी होम क्वारंटाइन हो गए।

कॉर्बेट पार्क में कोरोना से बचाव के लिए शुरूआत से ही आवश्यक कदम उठाए गए थे। यहां तक विभाग ने अपने यहां आने वाले देसी व विदेशी पर्यटकों को कॉर्बेट में भेजने से पहले उनकी चिकित्सालय में जांच कराई थी। 18 मार्च से कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए कॉर्बेट पार्क को बंद कर दिया गया था। 15 जून से कॉर्बेट पार्क पर्यटकों के लिए खुला था। अब कॉर्बेट के ईको टूरिज्म रेंजर व उप रेंजर कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्हेें आइसोलेट भी कर दिया गया है। इसके अलावा उनके संपर्क में आए दस से अधिक कर्मचारियों को क्वारंटाइन कर दिया गया है। उनके सेंपल भी जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। दोनों कर्मचारियों के संपर्क में आए अन्य लोगों का भी पता लगाया जा रहा है। संक्रमण के खतरे से चिंतित कॉर्बेट प्रशासन ने एक सप्ताह के लिए बाहरी व्यक्तियों व अपने विभागीय कर्मचारियों की मुख्यालय में आवाजाही पर रोक लगा दी है।

हाथी कैंप हो रहे सेनेटाइज

कॉर्बेट के जंगल में वन्य जीवों में कोरोना संक्रमण का खतरा टालने के लिए हाथी कैंप को सेनेटाइज कराया जा रहा है। इसके अलावा संक्रमण से वन्य जीवों को बचाने के लिए आवश्यक उपाय भी किए जा रहे हैं। बाहरी कर्मचारियों के भी हाथी कैंप में प्रवेश को लेकर सतर्कता बरती जा रही है। राहुल, निदेशक सीटीआर ने बताया कि कॉर्बेट में दो कर्मचारी पॉजिटिव आए हैं। कॉर्बेट में लोगों की एक सप्ताह तक आवाजाही बंद की गई है। जिसे भी लिखित पत्र या कोई सूचना देनी होगी वह कार्यालय के गेट पर या फिर निदेशक, उपनिदेशक या प्रशासनिक अधिकारी को फोन करके दे सकता है।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.