उद्योग व व्यापार की चुनौतियों को लेकर सरकार सजग, पीएचडी चैंबर के चैयरमैन ने सीएम के सलाकार से वार्ता

पीएचडी के चेयरमैन राजीव घई ने उद्योग व व्यापार जगत में फैल रही भ्रांतियों व जिज्ञासाओं को देखते हुए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के प्रमुख सलाहकार डॉ.आरबीएस रावत (आईएफ़एस) से वर्तमान में सरकार द्वारा कोविड के रोकथाम के लिए जानकारी हासिल की।

Prashant MishraWed, 02 Jun 2021 09:33 PM (IST)
शीघ्र आर्थिक प्रगति पर लाने के लिए सीएम से वीडियो कांफ्रेंस से वार्ता करने पर पीएचडी ने फैसला लिया।

जागरण संवाददाता, काशीपुर : राज्य में कोरोना संक्रमण रोकथाम के लिए प्रदेश सरकार ने कोरोना कर्फ्यू को 8 जून तक कुछ रियायतों के साथ बढ़ा दिया है। पीएचडी के चेयरमैन राजीव घई ने उद्योग व व्यापार जगत में फैल रही भ्रांतियों व जिज्ञासाओं को देखते हुए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के प्रमुख सलाहकार डॉ.आरबीएस रावत (आईएफ़एस) से वर्तमान में सरकार द्वारा कोविड के रोकथाम के लिए जानकारी हासिल की। इस दौरान राज्य को शीघ्र आर्थिक प्रगति पर लाने के लिए सीएम से वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से वार्ता करने पर पीएचडी ने फैसला लिया।

पीएचडी के चेयरमैन घई ने बताया बीते दिनों उन्होंने सीएम के प्रमुख सलाहकार डॉ.रावत से वार्ता की। इस दौरान बताया कि राज्य में बीते पखवाड़े से कोरोना संक्रमण में लगातार कमी आ रही है। बताया कि राज्य में वर्तमान में 4899 साधारण बेड, 4800 ऑक्सीजन बेड, 722 आईसीयू व 356 वेंटीलेटर बेड उपलब्ध हैं। जो कि उपलब्ध व्यवस्था का लगभग 50 फीसदी है, वहीं सभी जिलों में अब व्यवस्था नियंत्रण में है व मरीजों को आसानी से मेडिकल सुविधा मिल रही है। इससे प्रदेश में फैल रही भ्रांति दूर हो रही हैं वहीं उद्योग व व्यापार इसे सकारात्मक ले रहा है व एक विश्वास भी पैदा हुआ है कि प्रदेश सरकार कोविड से लड़ने के लिये सक्षम हो रही है। साथ ही इससे प्रदेश का व्यापार शीघ्र पटरी पर आ जाएगा। साथ ही घई ने बताया कि प्रमुख सलाहकार के मुताबिक वर्तमान में 345 डॉक्टर रखे जा चुके हैं।

वहीं, मुख्यमंत्री ऊधमसिंह नगर व नैनीताल जिले में व्यवस्थाओं का जायजा लेंगे। इसके अलावा विधायकों को एक करोड़ मेडिकल रखरखाव के लिये खर्च करने को आवंटित किये गये हैं। वहीं राजीव घई ने कहा सरकार ने अब इंतज़ाम किये हैं व आगे करने की योजना है ऐसे में यदि राज्य में करोना की तीसरी लहर भी आती है तो उससे निपटने के लिये सशक्त हो सकता है।

पीएचडी चेयरमैन ने कहा कि राज्य सरकार ने इस बार उद्योग को चलाने में कोई पाबंदी नहीं लगाई है। बावजूद इसके लोग घरों से निकलने को बच रहे हैं। घई ने बताया जल्दी ही पीएचडी मुख्यमंत्री के साथ वीडियो कांफ्रेंस करके उत्तराखंड को शीघ्र आर्थिक प्रगति पर लाने के लिये चर्चा करेगी। जिससे उद्योग व व्यापार चल सके व उनके सामने आ रही परेशानियों पर सहानुभूति पूर्ण निर्णय लिया जा सके।

उम्मीद है इस वार्ता में वर्तमान में स्थापित उद्योग व व्यापार के सामने आ रही परेशानियों को दूर करते हुए उन्हें चलवाने में प्राथमिकता देंगे। उधर पीएचडी के वर्तमान अध्यक्ष संजय अग्रवाल, वरिष्ठ उपाध्यक्ष प्रदीप मुलतानी, उत्तराखंड चेयरमैन वीरेन्द्र कालरा व को चेयरमेन राजीव घई ने मुख्यमंत्री को प्रदेश के विकास में हर सम्भव सहयोग देने का आश्वासन दिया। साथ ही उद्योग द्वारा अपने स्टाफ़ व कर्मचारीयों को वैक्सीनेशन कराने को प्राथमिकता से कराने के भरोसा दिलाया।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.