top menutop menutop menu

जनसमस्याओं का प्राथमिकता से करें निदान

संवाद सहयोगी, रामनगर: विकासखंड सभागार में आयोजित बीडीसी बैठक में मुख्य विकास अधिकारी व विधायक के सामने जनप्रतिनिधियों ने सड़क व बिजली, पानी की समस्याओं को उजागर किया। खंड विकास कार्यालय में बीडीसी बैठक में कुल 257 समस्याएं उठीं। सबसे ज्यादा 42 शिकायतें सिंचाई विभाग से संबंधित दर्ज की गई।

सीडीओ विनीत कुमार, विधायक दीवान सिंह बिष्ट व ब्लाक प्रमुख रेखा रावत की मौजूदगी में आयोजित बैठक में जस्सागाजा की ग्राम प्रधान निधि मेहरा ने बताया कि उनके गाव में जल संस्थान द्वारा ग्रामीणों को पेयजल के बिल दो साल बाद विलंब शुल्क के साथ भेजे जा रहे हैं, ग्रामीण भारी भरकम राशि के बिलों का जमा करने में असमर्थ हैं। इस पर विधायक ने जल संस्थान के प्रभारी ईई जेपी यादव को ग्रामीणों को समय पर बिल भेजने के साथ ही वर्तमान में भेजे गए बिलों को बिना विलंब शुल्क उनके किश्त में वसूली करने के निर्देश दिए। उन्होंने बिल समय पर न भेजने पर नाराजगी व्यक्त की।

क्षेत्र पंचायत सदस्य विजय कटारिया ने सिंचाई एवं पेयजल समस्या को उजागर किया। इसके अलावा अन्य गांवों में भी पेयजल व सड़क समस्या के अलावा बिजली के पोल, स्कूल, नलकूप सहित कई विभागों से संबंधित शिकायत दर्ज कराई गयी। इस दौरान च्येष्ठ उपप्रमुख संजय नेगी, कनिष्ठ उपप्रमुख महेश भारद्वाज, जिला पंचायत सदस्य किशोरी लाल व नरेन्द्र चौहान, तहसीलदार पूनम पंत, जिला विकास अधिकारी रमा गोस्वामी सहित कई लोग मौजूद रहे।

इधर ग्रामीणों के साथ सामंजस्य बनाने के लिए कॉर्बेट टाइगर रिजर्व (सीटीआर) द्वारा सावल्दे पूरब में ईको विकास समिति की बैठक आयोजित की गई। जिसमें ग्रामीणों की समस्याएं सुनी गई। बैठक में मानव वन्य जीव संघर्ष को रोकने तथा वनाग्नि में सहयोग की अपील की गई। बैठक में ग्रामीणों ने अधिकारियों से कहा कि गाव में वन्य जीवों की आवाजाही बनी हुई है। रात में सुरक्षा के लिए गाव में स्ट्रीट लाइट लगाई जाए। ग्रामीणों ने फसल के नुकसान के मुआवजे की भी माग की। इन समस्याओं को लेकर प्रस्ताव बनाने को कहा गया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.