203 कॉलेजों के 1.28 लाख छात्रों से करनी है एसआइटी को पूछताछ

जांच के दौरान 15 हजार लाभार्थियों से पूछताछ कर चुकी है।

एसआइटी को जिले के शैक्षिक संस्थान में अध्ययनरत 1.28 लाख छात्र-छात्राओं से पूछताछ करनी है। जबकि 34 कालेजों के 15 हजार से अधिक लाभार्थियों के भौतिक सत्यापन के बाद पूछताछ हो चुकी है। पहले चरण में बाहरी राज्यों के 303 शैक्षिक संस्थान में अध्ययनरत 3034 लाभार्थियों से पूछताछ की गई।

Prashant MishraFri, 09 Apr 2021 05:54 PM (IST)

रुद्रपुर, वीरेंद्र भंडारी। बाहरी राज्यों के शैक्षिक संस्थान और लाभार्थियों से पूछताछ के बाद एसआइटी को जिले के शैक्षिक संस्थान में अध्ययनरत 1.28 लाख छात्र-छात्राओं से पूछताछ करनी है। जबकि 34 कालेजों के 15 हजार से अधिक लाभार्थियों के भौतिक सत्यापन के बाद पूछताछ हो चुकी है। 

2011-12 में अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और पिछड़ी जाति के दशमोत्तर छात्रवृत्ति में अनियमितता मिलने के बाद शासन के आदेश पर राज्य के प्रत्येक जिले में एसआइटी का गठन किया गया था। ऊधमङ्क्षसह नगर में भी एसआइटी का गठन कर पहले चरण में बाहरी राज्यों के 303 शैक्षिक संस्थान में अध्ययनरत 3034 लाभार्थियों से पूछताछ की गई। जांच के बाद एसआइटी ने जिले के जसपुर से लेकर खटीमा तक के थानों में 60 केस दर्ज कराते हुए 28 से अधिक लोगों को गिरफ्तार किया था। दूसरे चरण में जिले के 203 सरकारी, अद्र्धसरकारी, प्राइवेट व्यवसायिक शैक्षिक संस्थानों के साथ ही इंटर और डिग्री कालेज में 2011 से 2018 तक अध्ययनरत अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति और पिछड़ी जाति के 1.28 लाख लाभार्थियों से पूछताछ होनी है। इसमें अनुसूचित जाति के 60712, अनुसूचित जनजाति के 42262  पिछड़ी जाति के 25129 लाभार्थी शामिल हैं, जिसमें से एसआइटी अब तक 34 कालेजों की जांच के दौरान 15 हजार लाभार्थियों से पूछताछ कर चुकी है। जबकि 1.13 लाख लाभार्थी से पूछताछ अभी भी होनी है।  

जिले के अंदर विभिन्न संस्थानों में अध्ययनरत छात्रों का विवरण

वर्ष         अनुसूचित जाति         अनुसूचित जनजाति        पिछड़ी जाती

2011-12       11069                  8308                  337

2012-13       10525                 4680                  4655

2013-14           11946                  9914                   5530

2014-15           14039                  10787                 9883

2015-16            4877                  4329                  2877

2016-17            3825                   353                   743

2017-18            4431                   3891                  1104

22 कालेजों की जांच जारी

दशमोत्तर छात्रवृत्ति घोटाले में एसआइटी अब तक जिले के 34 शैक्षिक संस्थानों की जांच पूरी कर चुकी है। इसमें अभी तक एसआइटी को किसी प्रकार की अनियमितता नहीं मिली है। ऐसे में एसआइटी जिला समाज कल्याण विभाग से दस्तावेज मिलने के बाद जिले के जसपुर, काशीपुर, रुद्रपुर, किच्छा, सितारगंज और खटीमा के 22 कालेजों की जांच कर रही है। इसके तहत एसआइटी दस्तावेजों का मिलान कर लाभार्थियों और शैक्षिक संस्थानों में पूछताछ कर रही है। 

147 कालेजों के दस्तावेज को भेजा रिमाइंडर

जिला समाज कल्याण विभाग ने एसआइटी को दशमोत्तर छात्रवृत्ति से जुड़े दस्तावेज उपलब्ध कराने हैं। 34 कालेजों के दस्तावेज मिलने के बाद एसआइटी उनकी जांच पूरी कर चुकी है। जबकि 22 कालेजों के अधूरे दस्तावेज और 147 कालेजों से जुड़े एसआइटी को अब तक मिले ही नहीं है। इसे देखते हुए एसआइटी ने दस्तावेज उपलब्ध कराने के लिए जिला समाज कल्याण विभाग को रिमाइंडर भेजा है। 

एसपी सिटी ममता बोहरा ने बताया कि जिले में 203 कालेजों में अध्ययनरत सवा लाख से अधिक लाभार्थियों से पूछताछ होनी है। जिला समाज कल्याण विभाग ने 147 कालेजों के दस्तावेज नहीं दिए हैं। 22 कालेजों के दस्तावेज अधूरे दिए हैं। इसके लिए रिमाइंडर भेजा गया है। दस्तावेज मिलने के बाद लाभार्थियों से पूछताछ में तेजी आएगी।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.