बागेश्वर मेें भारी बारिश से सात मकान ध्वस्त, 32 लोग हुए बेघर, दो पुल भी बहे

बागेश्वर मेें भारी बारिश से सात मकान ध्वस्त, 32 लोग हुए बेघर, दो पुल भी बहे

बागेश्वर जिले में अतिवृष्टि से सात मकान ध्वस्त हो गए हैं। जबकि तीन मकान आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। पांच गौशालवा भी गिर गईं हैं। जिससे सात परिवारों के करीब 32 लोग बेघर हो ग

Publish Date:Tue, 11 Aug 2020 06:28 PM (IST) Author: Skand Shukla

बागेश्वर, जेएनएन : बागेश्वर जिले में अतिवृष्टि से सात मकान ध्वस्त हो गए हैं। जबकि तीन मकान आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। पांच गौशालवा भी गिर गईं हैं। जिससे सात परिवारों के करीब 32 लोग बेघर हो गए हैं। हालांकि जनहानि नहीं हुई है।जिससे लोगों ने राहत की सांस ली है।

अतिवृष्टि से डंगोली में प्रकश चंद्र पुत्र हीरा राम का मकान ध्वस्त हो गया है। ग्वाड़ पजेड़ा गांव में पुष्कर राम पुत्र देव राम, डंगोली में प्रकाश गिरी पुत्र विशन गिरी का मकान ध्वस्त हो गया है। बौड़ी गांव निवासी अमर राम पुत्र जग राम का आवसीय मकान ध्वस्त हो गया है। खुनौली निवासी लछुल देवी पत्नी धन राम का मकान क्षतिग्रस्त हो गया है।

 

आरे गांव निवासी नंदन राम पुत्र मोहन राम का भी मकान बारिश की भेंट चढ़ गया है। कपकोट में अमर राम पुत्र बची राम का मकान क्षतिग्रस्त हो गया है। वहीं डंगोली गांव के बलवंत राम पुत्र नंदन राम का मकान आंशिक क्षतिग्रस्त हो गया है। अयारतोली निवासी भागीरथी देवी पत्नी देवी दत्त का आवासीय मकान और बैदीबगड़ में श्याम लाल पुत्र राम प्रसाद का मकान आंशिक क्षतिग्रस्त है।

 

जबकि महरूड़ी गांव में खीमानंद पुत्र केशव दत्त की गौशाला, मंडलसेरा निवासी जोगा राम पुत्र बची राम का गौशाला, इसी गांव की ज्योति पुत्री कृष्णानंद, जल्थाकोट में चनर राम पुत्र प्रेम राम, मुस्योली में मोहन राम पुत्र बलराम की गौशाला क्षतिग्रस्त हो गई है।

 

मवेशी बालबाल बच गए हैं। इधर, नीलेश्वर के कत्यूरमढ़ गांव निवासी कलावती देवी पत्नी कुंवर राम के घर में मलबा घुस गया है और सामान दब गया है। बहुली निवासी करिश्मा देवी पत्नी दीवान सिंह के घर के पीछे भूस्खलन होने से दीवार ढह गई है। राजकीय कन्या इंटर कालेज की नवनिर्मित दीवार क्षतिग्रस्त हो गई है। बहुली निवासी करिश्मा देवी पत्नी दीवान सिंह के घर के पीछे भूस्खलन होने से दीवार ढह गई है।

 

आरे में दो पैदल पुल बहे

आरे गांव में अतिवृष्टि से मवाड़ी तोक में दो पैदल पुल बह गए हैं। जिससे ग्रामीणों का आवागमन बंद हो गया है। करीब 300 लोगों को दिक्कतें पैदा हो गई हैं। जबकि अतिवृष्टि से फल्टनियां में ग्राम पंचायत की पेयजल योजना क्षतिग्रस्त हो गई है। जिससे पेयजल का संकट पैदा हो गया है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.