नैनीताल में एससी आयोग के अध्यक्ष-उपाध्यक्ष की सक्रियता से चढ़ा सियासी पारा

इसी सक्रियता को भांपते हुए हाल ही में आयोग अध्यक्ष मुकेश कुमार ने बेतालघाट के ऊंचाकोट में कार्यक्रम तय किया। उसमें सीएम के जनसंपर्क अधिकारी व नैनीताल सीट से भाजपा के दावेदार दिनेश आर्य भी थे। जबकि आयोग उपाध्यक्ष गोरखा कार्यक्रम से गायब रहे।

Prashant MishraWed, 08 Dec 2021 02:52 PM (IST)
अध्यक्ष व उपाध्यक्ष की जिले में बढ़ती गतिविधियां सियासी चर्चा का केंद्र बिंदु बन रही हैं।

किशोर जोशी, नैनीताल : राज्य के अनुसूचित जाति आयोग के अध्यक्ष व उपाध्यक्ष की जिले में बढ़ती गतिविधियां सियासी चर्चा का केंद्र बिंदु बन रही हैं। नैनीताल जिले के बेतालघाट निवासी आयोग उपाध्यक्ष पीसी गोरखा की एकाएक बढ़ती सक्रियता ने सत्तापक्ष को चौकन्ना कर दिया है। यही वजह है कि इसकी काट के लिए आयोग अध्यक्ष मुकेश कुमार के बेतालघाट समेत जिले के अन्य स्थानों पर कार्यक्रम तय हो रहे हैं। इन कार्यक्रमों से उपाध्यक्ष की गैरमौजदूगी चर्चाओं को और हवा दे रही है। 

बेतालघाट क्षेत्र से पूर्व जिपं सदस्य रहे पीसी गोरखा लंबे समय से पंचायत की राजनीति में सक्रिय रहे हैं। वह पूर्व मंत्री यशपाल आर्य व पूर्व विधायक संजीव आर्य के बेहद करीबी हैं। आर्य की बदौलत ही उन्हें पार्टी के अन्य नेताओं को दरकिनार कर आयोग के उपाध्यक्ष की जिम्मेदारी मिली। अब यशपाल व संजीव के कांग्रेस में वापसी के बाद आयोग उपाध्यक्ष गोरखा की एकाएक बढ़ती सक्रियता पर सत्ता पक्ष की नजर है। उपाध्यक्ष लगातार बैठकें कर गैर हाजिर अफसरों को नोटिस जारी कर रहे हैं।

इसी सक्रियता को भांपते हुए हाल ही में आयोग अध्यक्ष मुकेश कुमार ने बेतालघाट के ऊंचाकोट में कार्यक्रम तय किया। उसमें सीएम के जनसंपर्क अधिकारी व नैनीताल सीट से भाजपा के दावेदार दिनेश आर्य भी थे। जबकि आयोग उपाध्यक्ष गोरखा कार्यक्रम से गायब रहे। 

उपाध्यक्ष एससी आयोग पीसी गोरखा ने बताया कि मैं आयोग के उपाध्यक्ष के तौर पर संवैधानिक दायित्व निभा रहा हूं। आयोग सरकार के अधीन नहीं है, निवर्तमान विधायक ने क्षेत्र में विकास के इतने अधिक काम किए हैं कि उनको मदद की जरूरत ही नहीं है। आयोग चेयरमैन के बेतालघाट दौरे की उन्हें सूचना नहीं थी। मेरी बैठकों में अधिशासी अभियंता तो छोड़ो सिर्फ अवर अभियंता आ रहे हैं। गरीब व वंचितों को संवैधानिक अधिकार व सुविधाएं मिलनी चाहिए, इसके लिए प्रयास करने पर किसी को आपत्ति नहीं होनी चाहिए। मेरे कार्यक्रम में चेयरमैन की तरह किसी पार्टी का झंडा नहीं होता है। 

एससी आयोग अध्यक्ष मुकेश कुमार ने बताया कि आयोग उपाध्यक्ष को बेतालघाट दौरे की जानकारी दी गई थी। बकायदा उनके पीए ने फोन भी किया था। वह अल्मोड़ा थे। आयोग को बेतालघाट क्षेत्र से शिकायतें मिल रही थी, इस वजह से वह वहां गए। आयोग निश्चित दायरे में काम करता है। किसी को नीचा दिखाने का काम आयोग का नहीं होना चाहिए। हमें पार्टी नहीं, जो भी पीडि़त हो उसकी मदद करनी चाहिए। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.