अराजक हुआ सफाई कर्मचारियों का आंदोलन, सफाई नायक को लाठी-चप्‍पल से पीटा

महिला कर्मचारियों का आरोप है कि सफाई नायक ने उनके साथ अभद्रता की। हंगामा बढ़ते देख कुछ देर में मौके पर भारी पुलिस बल जुट गया। इधर आंदोलित सफाई कर्मचारियों ने जुलूस निकालकर प्रदर्शन किया। संगठन ने मांगे पूरी न होने तक आंदोलन जारी रखने का ऐलान किया है।

Prashant MishraSat, 24 Jul 2021 03:03 PM (IST)
महिला कर्मचारियों का आरोप है कि सफाई नायक ने उनके साथ अभद्रता की।

जागरण संवाददाता हल्द्वानी : कर्मचारी हितों के लिए शुरू हुए आंदोलन ने शनिवार को अराजकता का रूप ले लिया। आंदोलित महिला कर्मचारियों ने दूसरे संगठन से जुड़े सफाई नायक राजेंद्र की धरना स्थल के पास धुनाई कर दी। बचने के लिए गार्ड रूम में घुसे नायक को भीड़ ने बाहर खींचकर लाठी, हेलमेट, चप्पलों से पीटा। पीडि़त राजेंद्र ने चार महिलाओं समेत दस लोगों के खिलाफ मारपीट की नामजद तहरीर दी है। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है।

हंगामा होने के बाद मौके पर पुलिस पहुंच गई। अपराह्न तीन बजे आंदोलित कर्मचारी भी धरना स्थल से गायब हो गए। पीडि़त राजेंद्र बेस अस्पताल में मेडिकल कराने के बाद समर्थकों के साथ कोतवाली पहुंच गए। आंदोलित कर्मचारियों पर गाली-गलौच व सफाई कार्य में बाधा डालने का आरोप लगाया। कोतवाल मनोज रतूड़ी ने बताया कि राजेंद्र की तहरीर पर सरकारी कर्मचारी से मारपीट व काम में बाधा डालने के आरोप में गोलू, बबली, सीमा, कृष्णा, मंजू, अनीता, रोहित, अमित, जयप्रकाश, आजाद के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है। महिलाएं भी तहरीर देने पहुंची थी। पुलिस को वीडियो में मारपीट में सफाई नायक की संलिप्तता नहीं मिली। इधर, देर रात पांच लोगों को पकड़ लिया गया। जिसमें से तीन महिलाओं को नोटिस देकर छोड़ा गया।

आरोप: कर्मचारी नेताओं के इशारे पर मारपीट

राजेंद्र ने तहरीर में आरोप लगाया है कि मारपीट सोची समझी साजिश के तहत की गई। राजेंद्र ने कहा है कि शनिवार सुबह वह अपने बेटे समेत कुछ अन्य कर्मियों के साथ महिला डिग्री कॉलेज के पास कूड़ा उठाने गए थे। हड़ताली कर्मचारियों ने गाली गलौच कर कूड़ा नहीं उठाने दिया गया। राजेंद्र का आरोप है कि आंदोलित संगठन उनके सफाई कराने से नाराज है। बाद में चार कर्मचारी नेताओं के इशारे पर महिलाओं ने मारपीट की।

अमानवीय: नारे लगा ताली पीटती रही भीड़

सफाई नायक के साथ मारपीट के समय धरना स्थल पर नारेबाजी होती रही। पुरुष कर्मचारी पहले पीछे की तरफ रहे। राजेंद्र गार्ड रूम में घुसे, तभी युवक इसे बाहर लाओ के नारे लगाते रहे। वायरल वीडियो में युवक नायक का हाथ पकड़े व महिला कर्मी को लाठी देते दिख रहा। मारपीट में कर्मचारी के कमीज फट गई। बाद में भीड़ नारे लगाकर ताली पीटते दिख रही। हालांकि दो कर्मचारी बीच बचाव करते रहे।

गुस्सा: आंदोलित कर्मचारियों ने फूंका पुतला

नियमितीकरण समेत 11 सूत्रीय मांगों को लेकर देवभूमि उत्तराखंड सफाई कर्मचारी संघ का आंदोलन शनिवार को छठे दिन भी जारी रही। शनिवार को कर्मियों ने एसडीएम कोर्ट के बाहर तक जुलूस निकाला और शहरी विकास मंत्री का पुतला जलाया। यहां प्रदेश अध्यक्ष राहत मसीह, शाखा अध्यक्ष जय प्रकाश, अमरदीप चौधरी, रवि चिंडालिया, उर्मिला, सुमन, गोविंद आदि मौजूद रहे।

पलटवार: नायक ने हमारे साथ अभद्रता की

सफाई नायक ने जिन महिलाओं पर मारपीट का आरोप लगाया है उन्होंने उल्टा पलटवार किया है। दो महिला कर्मियों ने बताया कि सफाई नायक उनका हाथ पकड़कर ड्यूटी पर जाने को कहने लगा। महिलाओं ने आरोप लगाया कि नायक प्रदेश में खुद की सरकार होने की बात कहकर नौकरी से निकलवाने की धमकी दे रहा था। गाली-गलौच भी की।

कार्रवाई : आठ कर्मचारियों की सेवा समाप्त

कोविड काल में आवश्यकीय सेवाओं को बाधित करने व कर्मचारी से मारपीट को निगम प्रशासन ने गंभीरता से लिया है। कोविड आपदा नियमावली का उल्लंघन, कदाचार में संविदा कर्मचारी बबली पत्नी प्रेम सिंह, अनीता पत्नी राजेंद्र व मोहल्ला स्वच्छता समिति के तहत कार्यरत रोहित पुत्र राहत मसीह, मंजू पत्नी जसपाल, सुशीला पत्नी हरीश, अभिषेक पुत्र पन्ना लाल, गोलू पुत्र प्रेम सिंह व कृष्णा पुत्र गोविंद की सेवा तत्काल प्रभाव से समाप्त कर दी है। नगर स्वास्थ्य अधिकारी ने इसका आदेश जारी किया है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.