पहली बरसात भी नहीं झेल सकी 34 साल बाद बनी गोविंदपुर गरवाल से गुजरने वाली सड़क

34 साल बाद बनी सड़क मानसून की पहली बारिश भी नहीं झेल सकी। ऐसे में स्थानीय लोगों का आक्रोश भी बढ़ रहा है। 12 लाख रुपये से इस सड़क का काम ग्रामीण विभाग द्वारा पिछले साल अक्टूबर में करवाया गया था।

Skand ShuklaWed, 23 Jun 2021 08:23 AM (IST)
पहली बरसात भी नहीं झेल सकी 34 साल बाद बनी गोविंदपुर गरवाल से गुजरने वाली सड़क

हल्द्वानी, जागरण संवाददाता : 34 साल बाद बनी सड़क मानसून की पहली बारिश भी नहीं झेल सकी। जगह डामर उखडऩे के साथ तीन जगहों पर मिट्टी तक नजर आने लगी है। ऐसे में स्थानीय लोगों का आक्रोश भी बढ़ रहा है। 12 लाख रुपये से इस सड़क का काम ग्रामीण विभाग द्वारा पिछले साल अक्टूबर में करवाया गया था। निर्माण के दौरान भी मार्ग को लेकर सवाल खड़े हुए थे। तब विभाग ने ठेकेदार से मरम्मत करवाई थी। वहीं, आठ माह के भीतर ही सड़क के बदहाल होने पर परेशानी और बढ़ गई है।

गोविंदपुर गरवाल से गुजरने वाली 372 मीटर सड़क नरसिंह तल्ला व हरिपुर नायक के लोगों के लिए भी अहम मानी जाती है। इस सडक को लेकर 34 साल तक विवाद था। मामला हाई कोर्ट तक पहुंचा था। बाद में नगर निगम द्वारा बजट उपलब्ध करवाने पर ग्रामीण निर्माण विभाग (आरडब्लूडी) को काम सौंपा गया। दस अक्टूबर 2020 को सड़क का काम पूरा कर दिया गया था। लेकिन तीसरे दिन ही डामर उखडऩे की शिकायत होने लगी।

जिसके बाद दैनिक जागरण ने मामले को प्रमुखता से उठाया था। फिर विभाग ने उस समय सड़क को दुरुस्त कर दिया। मगर सड़क अब और बुरी स्थिति में आ गई। स्थानीय निवासी व पूर्व सैनिक कमल रजवार ने बताया कि बरसात की वजह से सड़क के गड्ढों में जगह-जगह पानी भर चुका है। जिससे हादसों का डर भी बना हुआ है। जल्द मरम्मत नहीं की गई तो अफसरों का घेराव किया जाएगा।

 

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.