चुनी हुई सरकार को गिराने वालों का हर मोर्चे पर विरोध किया जाएगा

चुनी हुई सरकार को गिराने वालों का हर मोर्चे पर विरोध किया जाएगा

बागी प्रकरण को लेकर अब कांग्रेस के पदाधिकारी व कार्यकर्ता भी खुलकर सामने आए हैं। गुरुवार को पीलीकोठी स्थित निजी बैंक्वेट हाल में इस मुद्दे को लेकर आयोजित बैठक में कहा गया कि चुनी हुई सरकार को गिराने वालों का हर मोर्चे पर विरोध किया जाएगा।

Publish Date:Thu, 26 Nov 2020 08:14 PM (IST) Author:

हल्द्वानी, जेएनएन : बड़े नेताओं की बयानबाजी के बीच बागी प्रकरण को लेकर अब कांग्रेस के पदाधिकारी व कार्यकर्ता भी खुलकर सामने आए हैं। गुरुवार को पीलीकोठी स्थित निजी बैंक्वेट हाल में इस मुद्दे को लेकर आयोजित बैठक में कहा गया कि चुनी हुई सरकार को गिराने वालों का हर मोर्चे पर विरोध किया जाएगा। जमीनी लोगों की अनदेखी करने पर हाईकमान के सामने धरना भी देंगे। बैठक में इस मुद्दे को लेकर बयानबाजी करने वाले बड़े नेताओं को लेकर नाराजगी भी जताई गई।

 

बागियों की वापसी को लेकर पूर्व सीएम व कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत अपने पुराने स्टैंड पर कायम हैं। हरदा के मुताबिक सार्वजनिक माफी मांगने के बाद ही वापसी को लेकर सोचा जाएगा। वहीं, प्रदेश नेतृत्व बागियों को लेकर नरम रुख दिखा चुका है। जिस वजह से उत्तराखंड कांग्रेस दो गुटों में बंटी नजर आ रही है। गुरुवार को पूर्व दर्जा राज्यमंत्री डा. रमेश पांडे अध्यक्षता में आयोजित बैठक में जिले की अलग-अलग विधानसभा के पूर्व व वर्तमान पदाधिकारी पहुंचे थे। इस दौरान कहा गया कि जिम्मेदार पदों पर बैठे लोगों द्वारा लगातार की जा ही बयानबाजी से किसे फायदा होगा, यह सोचने वाला विषय है।

 

वहीं, पूर्व में थराली उपचुनाव में पूर्व सीएम द्वारा की गई विशाल जनसभा को इस चुनाव में कांग्रेस की हार की वजह बताने वाले नेताओं को लेकर कहा गया कि ऐसे बयानों से कार्यकर्ताओं का मनोबल टूटता है। बैठक में ये रहे शामिल पूर्व दर्जा राज्यमंत्री ललित जोशी, बलवंत बोहरा व राजेंद्र खनवाल, पूर्व प्रमुख भोला दत्त भट्ट, संजय नेगी व कृपाल मेहरा, विधायक का चुनाव लड़ चुके हेम आर्य व गुड्डू खजान, किसान कांग्रेस महामंत्री हेमवती नंदन दुर्गापाल, ब्लाक अध्यक्ष नीरज रैक्वाल व प्रताप बर्गली, एनएसयूआइ के राष्ट्रीय संयोजक अजय शर्मा, नंदन दुर्गापाल, अर्जुन बिष्ट पूर्व महिला जिलाध्यक्ष शशि वर्मा, जया कर्नाटक, इंद्र पाल आर्य, पुष्कर दानू, हरेंद्र क्वीरा आदि मौजूद रहे।

 

बैंक्वेट हाल में हरदा खेमे की बैठक

बैंक्वेट हाल में आयोजित बैठक में जिलाध्यक्ष व महानगर अध्यक्ष नदारद रहे। भीमताल, नैनीताल, रामनगर, कालाढूंगी, लालकुआं व हल्द्वानी विधानसभा से भी लोग पहुंचे थे। वहीं, बैठक के दौरान बारी-बारी से अपनी बात रखने वालों में से अधिकांश ने पूर्व सीएम हरीश रावत को प्रदेश का बड़ा नेता बताया। हाल में मौजूद अधिकांश कांग्रेसी हरदा खेमे के थे। बागियों को लेकर सबकी राय हरदा की तरह थी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.