रामनगर में हाईवे पर डिवाइडर लगा दिया लेकिन नहीं हटा फुटपाथ से अतिक्रमण

रामनगर में हाईवे पर डिवाइडर लगा दिया लेकिन नहीं हटा फुटपाथ से अतिक्रमण

रामनगर की यातायात व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए प्रशासन का प्रयास लोगों के लिए परेशानी का सबब भी बन रहा है। हाइवे पर वाहनों की आवाजाही के लिए डिवाइडर तो लगा दिए लेकिन डिवाइडर की वजह से दुर्घटना का खतरा भी बना हुआ है।

Skand ShuklaTue, 02 Mar 2021 01:01 PM (IST)

रामनगर, जागरण संवाददाता : रामनगर की यातायात व्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए प्रशासन का प्रयास लोगों के लिए परेशानी का सबब भी बन रहा है। हाइवे पर वाहनों की आवाजाही के लिए डिवाइडर तो लगा दिए, लेकिन डिवाइडर की वजह से दुर्घटना का खतरा भी बना हुआ है। कारण फुटपाथ से अतिक्रमण न हटने के कारण दोनों साइड की रोड तंग हो गई है। ऐसे में लोगों को आवागमन में भी असुविधा हो रही है।

रामनगर के मुख्य रानीखेत रोड में खड़े फल, सब्जी विक्रेताओं के अलावा टेंपो व कार की पार्किंग वालों की वजह से रोजाना जाम की स्थिति बनी रहती थी। जाम की वजह से कई बार वीआईपी व एम्बुलेंस तक फंस जाती है। इसे देखते हुए प्रशासन ने रानीखेत रोड में वाहनों के आने जाने के लिए बीच में बेरिकेड लगा दिए। मकसद था कि बीच सड़क में बेरिकेड लगने से किनारे टेंपो व कार खड़ी नहीं होंगे, और यातायात सुचारु रहेगा। लेकिन बेरिकेड की वजह से अब सबसे ज्यादा दिक्कत पैदल चल रहे लोगों को आ रही है।

सड़क के दोनों ओर फुटपाथ घिरे होने की वजह लोगों को सड़क पर वाहनों से दुर्घटना का खतरा बना हुआ है। लोगों का कहना है कि पुलिस-प्रशासन ने बीच सड़क पर बेरिकेड तो लगा दिए हैं। लेकिन फुटपाथ से बेवजह के अतिक्रमण को नहीं हटाया है। फुटपाथ घिरे हुए हैं ऐसे में राहगीर के चलने के लिए जगह ही नहीं बची है। सड़क में कम जगह होने की वजह से फुटपाथ को खाली कराया जाना चाहिए। जिससे कि पैदल चल रहे लोगों के लिए सड़क चौड़ी हो सके। उधर कोतवाली के एसएसआई जयपाल चौहान ने बताया कि फुटपाथ खाली कराने के लिए नगर पालिका को अवगत कराया जाएगा। ताकि बैठक के बाद कार्यवाही की जा सके।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.