पुलिस थाने बने कोविड सहायता केंद्र, कुमाऊं में करीब 15000 लोगों तक पुलिस ने पहुंचाई दवा, ऑक्सीजन व राशन

कोरोना महामारी के बीच पुलिस थाने और चौकियां सहायता केंद्र भी बन गए हैं। जहां अब अस्त्र-शस्त्र के साथ ही ऑक्सीजन सिलिंडर खाद्य सामग्री के पैकेट एंबुलेंस दवा किट भी रखी जा रही है। पुलिस विभाग में बदलाव की यह पहल सुखद है।

Prashant MishraSat, 12 Jun 2021 11:32 AM (IST)
कोरोना महामारी को हराने के लिए पुलिस की ओर से मिशन हौंसला अभियान चलाया जा रहा है।

मनीस पांडेय, हल्द्वानी : कोतवाली, चौकी और पुलिस थानों पर क्षेत्र की शांति व्यवस्था बरकरार रखने की जिम्मेदारी होती है। इसके लिए जवान दिन-रात मुस्तैद रहते हैं। लेकिन कोरोना महामारी के बीच पुलिस थाने और चौकियां सहायता केंद्र भी बन गए हैं। जहां अब अस्त्र-शस्त्र के साथ ही ऑक्सीजन सिलिंडर, खाद्य सामग्री के पैकेट, एंबुलेंस, दवा किट भी रखी जा रही है। पुलिस विभाग में बदलाव की यह पहल सुखद है। अकेले कुमाऊं में ही 70 थानों व 120 चौकियों में कोविड सहायता केंद्र संचालित है।

कोरोना महामारी को हराने के लिए पुलिस की ओर से मिशन हौंसला अभियान चलाया जा रहा है। जिसमें अभी तक करीब 15 हजार से ज्यादा लोगों तक सहायता पहुंचाई जा चुकी है। दुर्गम पहाड़ी क्षेत्रों में तो पुलिस जवान ऑक्सीजन सिलिंडर को कंधे पर भी ढो रहे हैं। पुलिस विभाग के डीआइजी अजय रौतेला ने बताया कि कोरोना महामारी के खिलाफ विभाग दिन-रात कार्य कर रहा है।

नैनीताल व ऊधमसिंह नगर में सर्वाधिक सहायता

पुलिस की ओर से जनता की मदद के लिए पूरे प्रदेश में अभियान चलाया जा रहा है। कुमाऊं के जिलों की बात करें तो ऊधमसिंह नगर में एसएसपी दलीप सिंह कुंवर व नैनीताल में एसएसपी प्रीति प्रियदर्शिनी के नेतृत्व में सर्वाधिक संख्या में लोगों तक मदद पहुंचाई गई है। जबकि अल्मोड़ा, बागेश्वर, चंपावत, पिथौरागढ़ में भी बड़े स्तर पर लोगों की सहायता की जा रही है।

1466 को ऑक्सीजन, 1166 को दवा

पुलिस की ओर से कुमाऊं के विभिन्न छह जिलों में 1466 जरूरतमंदों को ऑक्सीजन सिलेंडर दिलाए गए। जिसमें 1303 को नए सिलेंडर व 163 के खाली सिलेंडर भराए गए। 1166 लोगों को दवा तो 290 कोरोना संक्रमितों को अस्पताल में बेड दिलाने में सहायता की गई। 107 को एंबुलेंस व 83 लोगों को प्लाज्मा दान किया गया।

4000 फोन काल तो 18 हजार को खाना

कुमाऊं के विभिन्न थानों में पुलिस के पास सहायता के लिए करीब चार हजार फोन कॉल आए। पुलिस की ओर से 12649 को कच्चा राशन तथा 5659 को पका भोजन दिया गया। पुलिस टीम ने 2197 वरिष्ठ नागरिकों से मिलकर उनकी परेशानियों के बारे में बात की।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.