Corona Vaccination : चम्‍पावत में अधिकारियों ने पर्यावरण मित्रों को दिया पहला अवसर, मुख्‍यालय में विपिन तो टनकपुर में दीपक को लगी पहली वैक्‍सीन

टीका बनाने के लिए देश के वैज्ञानिकों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया।

टीकाकरण के पहले दिन सौ लोगों को टीका लगाया जाना था। जिसमें डॉक्टर्स स्टॉफ के साथ नर्सिंग व सफाई स्टॉफ के नाम थे। पर अधिकारियों ने जिला अस्पताल में तैनात पर्यावरण मित्र विपिन कुमार व टनकपुर में तैनात दीपक कुमार को पहला टीका लगाने का अवसर दिया।

Publish Date:Sat, 16 Jan 2021 03:45 PM (IST) Author: Prashant Mishra

जागरण संवाददाता, चम्पावत : राज्य के अधिकांश जिलों में जहां पहला टीका स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को लगाया गया। वहीं चम्पावत जिले में कोविड टीकाकरण के लिए बनाए गए दोनों सेंटरों में विभाग के पर्यावरण मित्र अभियान में आगे निकल गए। चम्पावत जिला अस्पताल में पहला टीका विपिन कुमार ने तो संयुक्त चिकित्सालय टनकपुर में दीपक कुमार ने लगाया। दोनों पर्यावरण मित्रों ने अधिकारियों से पहला टीका उन्हें लगवाने का अनुरोध किया था।

 शनिवार को कोरोना महामारी को हराने के लिए शुरू हुए वृहद टीकाकरण का शुभारंभ हुआ। टीकाकरण के पहले दिन सौ लोगों को टीका लगाया जाना था। जिसमें डॉक्टर्स स्टॉफ के साथ नर्सिंग व सफाई स्टॉफ के नाम थे। पर अधिकारियों ने जिला अस्पताल में तैनात पर्यावरण मित्र विपिन कुमार व टनकपुर में तैनात दीपक कुमार को  पहला टीका लगाने का अवसर दिया। प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग ने इसे बेहतर पहल बताते हुए दोनों को पहला टीका लगाया। पहला टीका लगाने के बाद आब्र्जवेशन रूम से बाहर निकले दोनों के चेहरों पर किसी जंग को फतह करने जैसा उत्साह था। विपिन कुमार ने बताया कि टीका लगाने के बाद वे काफी सहज महसूस कर रहे हैं।

बताया कि टीकाकरण से पूर्व भी उनके मन में किसी प्रकार का कोई संदेह नहीं था। उन्होंने टीका बनाने के लिए देश के वैज्ञानिकों के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया।

टनकपुर के पर्यावरण मित्र दीपक कुमार भी टीका लगाने के बाद विजयी मुद्रा में प्रतीक्षा रूम से बाहर निकले और अन्य लोगों से भी टीका लगाने की अपील की। चम्पावत की सिस्टर इंचार्ज अनीता राय, नर्सिंग सुप्रीडेंट बसंती तिवारी, पर्यावरण मित्र पूजा और वार्ड ब्याय विनोद कुमार ने भी आब्र्जवेशन रूम से बाहर निकल कर अपने अनुभव बताए। कहा कि टीकाकरण के बाद उनके शरीर में किसी भी प्रकार की विपरीत प्रक्रिया नहीं हुई। उन्होंने वैसा ही महसूस किया जैसा अन्य टीकों को लगाने में करते हैं।

सीएमओ डा. आरपी खंडूरी ने बताया कि विभाग के पर्यावरण मित्रों की सबसे पहले टीका लगाने की मंशा के अनुरूप उन्हें यह अवसर दिया गया। हालांकि इनके बाद जिला अस्पताल के पीएमएस व टनकपुर उप जिला अस्पताल के सीएमएस समेत कई डॉक्टर्स व नर्सिंग स्टॉफ ने टीका लगाया।

 

आब्र्जवेशन रूम से बाहर निकलने ही स्वागत में खड़े हो गए अधिकारी 

वैक्सीन का पहला टीका लगाने वाले व्यक्ति के आधे घंटे बाद आब्र्जवेशन रूम से बाहर निकलते ही केंद्र के बाहर बैठे जिलाधिकारी एसएन पांडे, एसपी लोकेश्वर सिंह, सीएमओ डा. आरपी खंडूरी, एसडीएम अनिल गब्र्याल, सीओ ध्यान सिंह समेत अन्य अधिकारी कुर्सी से खड़े हो गए और ताली बजाकर उसका स्वागत किया। पीएमएस डा. आरके जोशी पहला टीका लगाने वाले पर्यावरण मित्र विपिन कुमार को बाहर लाए और उसे डीएम से मिलवाया। डीएम ने विपिन कुमार की पीठ थपथपाई और सफल टीकाकरण के लिए बधाई दी।

टीका लगाने के बाद रखी गई गहन निगरानी

कोविड टीकाकरण के बाद सभी लोगों को आधे घंटे तक आब्र्जवेशन रूम में रखा गया। इस दौरान डॉक्टरों ने उन पर गहन निगरानी रखी। आधे घंटे का समय पूरा होने के बाद ही बाहर निकलने की इजाजत दी गई। टीकाकरण सफल होने के बाद सभी के चेहरों पर मुस्कान देखी गई। टीकाकरण का पहला चरण सफलता पूर्वक पूरा होने पर अधिकारियों ने राहत की सांस ली।

सीएमओ चम्‍पावत डॉ. आरपी खंडूरी ने बताया कि कोरोना महामारी का पहला टीका लगाने के लिए मैंने नाम भेजा था। लेकिन पोर्टल में पहले दिन के लिए आए सौ नामों की सूची में मेरा नाम नहीं था। जिस कारण मैं टीका नहीं लगा सका। लेकिन नाम आते ही मैं टीका अवश्य लगाऊंगा। भारत में बना यह टीका काफी सुरक्षित है। पर्यावरण मित्रों ने सबसे पहले टीका लगाकर इसका यह संदेश भी दिया है। जो काफी बेहतर पहल है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.