top menutop menutop menu

नेपाल सीमा पर कर रहा चौकसी, छांगरू गुल्म और खलंगा को गण बनाया, जानिए इसका मतलब

नेपाल सीमा पर कर रहा चौकसी, छांगरू गुल्म और खलंगा को गण बनाया, जानिए इसका मतलब
Publish Date:Mon, 03 Aug 2020 09:01 PM (IST) Author: Skand Shukla

झूलाघाट (पिथौरागढ़) जेएनएन : नेपाल में भारत से लगी सीमा पर वृहद स्तर पर सुरक्षा कड़ी की जा रही है। बीते महीने में छांगरू में खोली गई नेपाल सशस्त्र बल की बीओपी को गुल्म (बटालियन) बना दिया गया है। दार्चुला जिला मुख्यालय में नगरपालिका क्षेत्र में स्थित खलंगा की बीओपी चौकी को गण बना दिया गया है। गण भारत के डीआइजी स्तर की होती है। छांगरु को बटालियन बना कर उच्च हिमालय में भारत के छियालेख से लेकर लिपुलेख तक नजर रखी जाएगी। अब नेपाल में भारत के गुंजी के सामने कव्वा और चीन सीमा से लगे टिंकर में बीओपी चौकी की तैयारी हो रही है। नेपाली सूत्रों के अनुसार दोनों स्थानों पर एक पखवाड़े के भीतर दोनों बीओपी चौकी अस्तित्व में आने के आसार हैं।

इतना ही नहीं दार्चुला के खलंगा में बने गण के लिए मुख्य अधिकारी भी नियुक्त कर दिया गया है। जो डीआइजी रैंक का अधिकारी होगा जिसे गण प्रमुख कहा जाता है। नेपाल में इस पद पर एसपी रैंक का ही अधिकारी तैनात होता है। नरेंद्र बम पहले गण के प्रमुख तैनात किए हैं। छांगरु में बटालियन के प्रमुख डंबर बहादुर बिष्ट बनाए गए हैं जो डीएसपी रैंक का अधिकारी है। नेपाल के तेवरों को देखते हुए प्रतीत हो हा है कि नेपाल भारत से लगी सीमा पर अपनी सुरक्षा तंत्र को मजबूत करने में तुला है। उच्च हिमालय के छांगरु में बटालियन खोल कर कालापानी , लिपुलेख तक नजर रखने का प्रयास कर रहा है।

 

भारत में इस क्षेत्र में एसएसबी और आइटीबीपी है। मिली जानकारी के अनुसार कव्वा और चीन सीमा से लगे नेपाल के टिंकर में बीओपी चौकी खोलने के प्रयास तेज हो चुके हैं। छांगरु की बीओपी चौकी को टिंकर स्थानान्तरित किया जा रहा है। कव्वा में बीओपी कालापानी के सबसे निकट होगी। कव्वा भारत में गुंजी के सामने है। नेपाल के दार्चुला जिले में भारत से लगी सीमा पर अब छांगरु में नेपाल सशस्त्र बल की बटालियन , दुमलिंग, जौलजीबी और लाली में बीओपी चौकी , खलंगा में गण होगा। भारत सीमा पर कव्वा, सुनसेरा और दत्त्तू में बीओपी चौकी प्रस्तावित हैं। जिसमें कव्वा बीओपी अति शीघ्र खुलने वाली है।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.