Primary School Reopen : पहले दिन की अपेक्षा स्‍कूलों में पहुंचे अधिक संख्‍या में बच्‍चे

Primary School Reopen सरकारी प्राइमरी स्‍कूल खुलने के दूसरे दिन बच्चों की संख्‍या पहले दिन की अपेक्षा अधिक नजर आई। बच्‍चों में उत्‍साह देखने के लिए मिल रहा है। डेढ साल से घरो में कैद बच्‍चों में स्‍कूल आने की उत्‍सुकता साफ नजर आ रही है।

Skand ShuklaWed, 22 Sep 2021 12:22 PM (IST)
Primary School Reopen : पहले दिन की अपेक्षा स्‍कूलों में पहुंचे अधिक संख्‍या में बच्‍चे

जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : Primary School Reopen : सरकारी प्राइमरी स्‍कूल खुलने के दूसरे दिन बच्चों की संख्‍या पहले दिन की अपेक्षा अधिक नजर आई। स्‍कूल खुलने के बाद से बच्‍चों में उत्‍साह देखने के लिए मिल रहा है। डेढ साल से घरो में कैद बच्‍चों में स्‍कूल आने की उत्‍सुकता साफ नजर आ रही है। दोपहर बाद शिक्षा विभाग संख्या से जुड़ी रिपोर्ट तैयार करेगा। उसके बाद स्थिति स्पष्ट हो जाएगी।

13 मार्च 2020 को कोरोना की वजह से निजी व सरकारी सभी तरह के शिक्षण संस्थान बंद हो गए थे। इस दौरान ऑनलाइन पढ़ाई के जरिये बच्चों का कोर्स पूरा करवाया गया। लेकिन सरकारी स्कूलों में यह सिस्टम बहुत ज्यादा कारगर साबित नहीं हुआ। क्योंकि, परिवारों की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने के कारण अधिकांश के पास स्मार्ट फोन नहीं थे। वहीं, इस साल अगस्त में पहले नौ से 12 फिर छह से आठ तक की कक्षाओं को संचालित किया गया।

जबकि तीसरी लहर की आशंका व कम उम्र होने के कारण प्राइमरी कक्षाओं को शुरू नहीं किया गया। हालांकि, शासन के आदेश की वजह से मंगलवार को प्रदेश भर में प्राइमरी स्कूल खुल गए। हल्द्वानी ब्लॉक में पहले दिन 5812 बच्चे 172 स्कूलों में पढ़ाई को पहुंचे थे। वहीं, दूसरे दिन सुबह की पाली में बच्चों की संख्या ठीक दिखी। जिन स्कूलों में छात्र संख्या ज्यादा है वहां 11 से दो के बीच दूसरी पाली में भी पढ़ाई करवाई जाएगी। वहीं, निजी स्कूलों ने अधूरी तैयारियों व बच्चों की सुरक्षा का हवाला देते हुए अभी प्राइमरी कक्षाएं शुरू कराने से मना कर दिया है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.