हल्द्वानी में ब्लैक फंगस के मरीज की हर दूसरे दिन हो रही किडनी जांच

चिकित्सा अधीक्षक डा. अरुण जोशी ने बताया कि एसटीएच में ब्लैक फंगस के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रह है। डाक्टरों की टीम इलाज में जुटी है। दवाइयां भी उपलब्ध हैं। शुक्रवार को 18 मरीजों में एक मरीज का ऑपरेशन ईएनटी स्पेशलिस्ट ने किय।

Prashant MishraSat, 05 Jun 2021 10:55 AM (IST)
अभी तक दिल्ली व लखनऊ में इलाज करा रहे चार मरीजों को भर्ती किया जा चुका है।

जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : जानलेवा साबित हो रहे ब्लैग फंगस के मरीजों के इलाज में हर तरह की सावधानी बरतने की जरूरत पड़ रही है। इस तरह के मरीजों को दी जाने वाली दवाइयां किडनी के लिए घातक है। डा. सुशीला तिवारी अस्पताल में भर्ती ऐसे मरीजों की हर दूसरे दिन किडनी जांच कराई जा रही है। इस समय अस्पताल में ब्लैग फंगस के 18 मरीज भर्ती हैं।

चिकित्सा अधीक्षक डा. अरुण जोशी ने बताया कि एसटीएच में ब्लैक फंगस के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रह है। डाक्टरों की टीम इलाज में जुटी है। दवाइयां भी उपलब्ध हैं। शुक्रवार को 18 मरीजों में एक मरीज का ऑपरेशन ईएनटी स्पेशलिस्ट ने किय। एक और मरीज का ऑपरेशन पांच जून को किया जाएगा। मरीजों के इलाज में हर तरह की सावधानी बरती जा रही है। ऐसे मरीजों में दवाइयां का दुष्प्रभाव भी अधिक देखने को मिलता है। इसलिए हर दूसरे दिन किडनी प्रोफाइल के अलावा अन्य जांचें भी करवाई जा रही हैं। वहीं, एसटीएच में इलाज के लिए दूसरे राज्यों के भी मरीज पहुंचे हैं। अभी तक दिल्ली व लखनऊ में इलाज करा रहे चार मरीजों को भर्ती किया जा चुका है।

ब्लैक फंगस को लेकर डॉक्टर अधिक सतर्कता बरत रहे हैं। उनका कहना है कि यह बहुत ही घातक बीमारी है। जरा सी लापरवाही करने से आपकी आंख की रोशनी जा सकती है या फिर आंख निकालनी पड़ सकती है। यहां तक की संक्रमण अधिक फैलने पर जान भी जा सकती है। इससे अधिक सतर्क रहने की जरूरत है।

मधुमेह के रोगियों में यह तेजी से फैलता है। इसलिए इम्यूनिटी कमजोर व शुगर के रोगियों को बागवानी या मिट्टी के संपर्क में होने वाले कामों से दूर रहने की सलाह दी जाती है।

अन्य बीमारियों के रोगियों में खतरा अधिक

डा. अरुण जोशी ने बताया कि डायबिटीज समेत अन्य बीमारियों से ग्रस्त मरीजों में ब्लैग फंगस की दवाइयां का दुष्प्रभाव सामान्य मरीजों की अपेक्षा अधिक देखने को मिलता है। डाक्टरों की टीम इन सभी बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए उपचार कर रही है।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.