हिस्ट्रीशीटर ललित ज्याला पर हत्या समेत 16 मामले दर्ज, खुदकुशी भी तो कहीं साजिश नहीं !

प्रॉपर्टी डीलर से हिस्ट्रीशीटर बनने वाले ललित ज्याला ने अपराध की दुनिया में वर्ष 2016 में कदम रखा था। प्रॉपर्टी डीलर सूरज चंद की हत्या के आरोप में कोतवाली में उसके खिलाफ अगस्त 2016 में धारा 302 364ए 365 201 34 342 120बी के तहत पहला मुकदमा दर्ज हुआ।

Skand ShuklaFri, 18 Jun 2021 07:30 AM (IST)
हिस्ट्रीशीटर ललित ज्याला पर हत्या समेत 16 मामले दर्ज, खुदकुशी भी तो कहीं साजिश नहीं

खटीमा, संवाद सहयोगी : प्रॉपर्टी डीलर से हिस्ट्रीशीटर बनने वाले ललित ज्याला ने अपराध की दुनिया में वर्ष 2016 में कदम रखा था। प्रॉपर्टी डीलर सूरज चंद की हत्या के आरोप में कोतवाली में उसके खिलाफ अगस्त 2016 में धारा 302, 364ए, 365, 201, 34, 342, 120बी के तहत पहला मुकदमा दर्ज हुआ। वर्ष 2016 में ही धोखाधड़ी के दो मुकदमें और दर्ज हुए। इसके बाद लगातार उसके खिलाफ धोखाधड़ी के एक के बाद एक मुकदमा दर्ज होते गए। वहीं सूरज के परिजन भी उसकी खुदकुशी की बात को भी संदिग्ध मान रहे हैं और शव का डीएनए टेस्ट कराने की बात कह रहे हैं।

पुलिस ने ज्याला की 15 जुलाई 2017 को हिस्ट्रीशीट खोली। एसएसआइ लक्ष्मण सिंह ने बताया कि ज्याला पर 16 मुकदमों में एक हत्या का एवं बाकी सभी मुकदमे प्लाटों में धोखाधड़ी करने के दर्ज हैं। ज्याला धोखाधड़ी के एक आरोप में लंबे समय से न्यायालय पेश नहीं हो रहा था। उसके विरुद्ध न्यायालय से गिरफ्तारी वारंट भी जारी हुआ था। इसके बाद उसके घर पर 82 के तहत कुर्की का नोटिस भी चस्पा किया।

पत्नी ने शव लेने से किया इंकार

प्रॉपर्टी डीलर से हत्यारा बना ललित ज्याला का शव लेने के लिए पत्नी ने इंकार कर दिया है। चकरपुर चौकी प्रभारी धीरज वर्मा ने बताया कि पत्नी ने गुजरात जाकर शव लेने को इंकार कर दिया है। परिवार का अन्य सदस्य कोई नहीं है। इसकी जानकारी गुजरात पुलिस को दे दी है।

फाइलों में मृत घोषित करने से पहले हो डीएनए टेस्ट

प्रॉपर्टी डीलर सूरज चंद के बड़े भाई मुंबई निवासी चंद्र प्रकाश ठाकुर ने ललित ज्याला की आत्महत्या कर लेने की खबर को संदिग्ध बताया। उन्होंने कहा कि जो गुजरात पुलिस ने कद कांठी और चेहरे फोटो जारी किए हैं, वह ललित ज्याला का होना उनकी नजर में प्रतीत नहीं होता है। क्योंकि कुछ महीने पहले उसे रुद्रपुर कोर्ट में वकील के साथ उसे देखा था।

शव का डीएनए जांच करने की मांग

उन्होंने दूरभाष में बताया कि उन्होंने ऊधमसिंह नगर एसएसपी को मेल भेजकर मांग कि है कि ललित ज्याला को फाइलों में मृत घोषित करने से पहले उसका डीएनए लेकर मौत की पुष्टि की जाए। इसको लेकर उन्होंने स्थानीय पुलिस अधिकारी से भी बात की है। उन्होंने यह भी बताया कि सूरज हत्याकांड केस में लगभग बीस से अधिक लोगों की गवाही हो चुकी है और तीन-चार लोगों की गवाही शेष है। जिसके बाद फैसला आना था लेकिन कोरोना के चलते मामला पेेंडिंग है।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.