सीएमओ साहब आपके खिलाफ लगाऊंगी रिपोर्ट, नदारद कर्मी को भेजूंगी जेल : डीएम

बार्डर पर स्वास्थ्य कर्मी के गैरहाजिर मिलने पर डीएम का पारा चढ़ गया।

प्रदेश में प्रवेश करने के 72 घंटे पहले की कोरोना जांच की निगेटिव रिपोर्ट अति आवश्यक है तभी इंट्री मिलेगी। इसके बाद जब दैनिक जागरण की टीम ने बार्डर पर पड़ताल की तो वहां दोपहर दो बजे के बाद न तो कोई जांच और न ही रोकटोक होता पाया।

Prashant MishraWed, 21 Apr 2021 04:49 PM (IST)

जागरण संवाददाता, रुद्रपुर : समय दोपहर के सवा दो बजे जब बार्डर पर औचक निरीक्षण में जब डीएम रंजना राजगुरू पहुंची तो वहां स्थिति देखकर भौचक रह गई। मौके पर स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी नदारद मिलें। इस संबंध में उन्होंने सीएमओ डीएस पंचपाल से जब जवाब मांगने लगी तो वह बगले झांकने लगे। डीएम ने नदारद कर्मी होने का कारण पूछा तो चुप्पी साध गए और फिर बोले की उन्हें ड्यूटी पर होना चाहिए।

उत्तराखंड-यूपी बार्डर पर दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, यूपी सहित दूसरे राज्य एवं जनपदाें से लोगों का आवागमन होता है। उत्तराखंड शासन की ओर से 31 मार्च को जारी गाइडलाइन में स्पष्ट निर्देश दिए हैं कि प्रदेश में प्रवेश करने के 72 घंटे पहले की कोरोना जांच की निगेटिव रिपोर्ट अति आवश्यक है तभी इंट्री मिलेगी। इसके बाद जब दैनिक जागरण की टीम ने बार्डर पर पड़ताल की तो वहां दोपहर दो बजे के बाद न तो कोई जांच और न ही रोकटोक होता पाया।

मामले को लगातार दो दिन तक प्रकाशित करने के बाद बुधवार को दोपहर में करीब सवा दो बजे डीएम रंजना राजगुरू, एसएसपी डीएस कुंवर, सीडीओ हिमांशु खुराना, संयुक्त मजिस्ट्रेट विशाल मिश्रा रामपुर रोड स्थित बार्डर पर पहुंचे। वहां स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी नदारद थे। यह देख डीएम का पारा हाई हो गया। उन्होंने तत्काल सीएमओ को मौके पर बुलाया। डीएम ने कहा यहां पर दिन में ही नहीं बल्कि रात में भी ड्यूटी लगाने के निर्देश हैं, लेकिन स्वास्थ्य कर्मी दिन से ही गायब हो रहे हैं। इतना कहने पर सीएमओ डीएस पंचपाल फोन पर बात करने लगे। डीएम ने यह देख उन्हें कहा कि फोन छोड़िए पहले इधर आइए और जवाब दिजिए कि यहां किसकी ड्यूटी थी और कहां है वह।

सीएमओ ने जवाब दिया विकास को हाेना चाहिए था..डीएम ने कहा कहां है वो.. सुनिए सीएमओ साहब लापरवाही करने वाले कर्मचारियों को जेल भेजूंगी और मेरे लिए जवाबदेही आप की है इसलिए आपके खिलाफ रिपोर्ट लगाऊंगी। ड्यूटी से नदारद रहेंगे, टीए-डीए बस चाहिए आप लोगों को। डीएम ने सीएमओ को जमकर फटकार लगाई। साथ ही गायब कर्मचारियों के वेतन रोकने के निर्देश दिए। साथ ही कहा कि यहां की व्यवस्था में कोई भी कमी आई तो उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के साथ ही अन्य कार्रवाई भी की जाएगी। डीएम ने सीएमओ से शाम तक संबंधित के खिलाफ कार्रवाई कर आख्या मांगी है।

18 की रात भी मिले थे अनुपस्थित

लगातार खबरें छपने के बाद 18 अप्रैल की रात को संयुक्त मजिस्ट्रेट विशाल मिश्रा, सीओ सिटी अमित कुमार ने बार्डर पर औचक निरीक्षण किया था। उस दौरान पुलिस कर्मी तैनात मिले, जबकि स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी गायब थे। जिसके बाद मामले की ज्वाइंट रिपोर्ट बनाकर डीएम को भेजी गई थी। सीओ अमित कुमार ने बताया कि रिपोर्ट भेजने के बाद बुधवार को डीएम ने संयुक्त रूप से निरीक्षण किया।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.