हरीश रावत का गंभीर आरोप, बोले-पुलिस पर यकीन नहीं, ये मरवा देंगे यशपाल आर्य को

रविवार सुबह पूर्व सीएम हरीश रावत और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने छड़ायल सुयाल स्थित आवास पर पहुंच यशपाल व संजीव से मामले की पूरी जानकारी लेने के बाद सीधा सीएम पुष्कर सिंह धामी को फोन मिलाया।

Skand ShuklaMon, 06 Dec 2021 08:27 AM (IST)
हरीश रावत का गंभीर आरोप, बोले-पुलिस पर यकीन नहीं, ये मरवा देंगे यशपाल आर्य को

जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष यशपाल आर्य और उनके पुत्र संजीव पर बाजपुर में हुए हमले को लेकर कांग्रेसी पूरी तरह एकजुट नजर आ रहे हैं। रविवार सुबह पूर्व सीएम हरीश रावत और कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने छड़ायल सुयाल स्थित आवास पर पहुंच यशपाल व संजीव से मामले की पूरी जानकारी लेने के बाद सीधा सीएम पुष्कर सिंह धामी को फोन मिलाया। हरदा ने धामी से साफ कहा कि ऊधमसिंह नगर पुलिस और प्रशासन पर कोई यकीन नहीं है। ये लोग यशपाल आर्य को मरवा सकते हैं। सुझाव दिया कि अगर कुछ गलत हुआ तो आप और हम पर जिंदगी भर आरोप रहेगा। यशपाल आर्य महत्वपूर्ण व्यक्ति है। इन्हें उच्चस्तरीय सुरक्षा मिलनी चाहिए।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता यशपाल आर्य शनिवार को बेटे संजीव आर्य संग बाजपुर में आयोजित पार्टी के सदस्यता अभियान में शामिल होने जा रहे थे। कोतवाली से कुछ दूरी पहले उनके काफिले को पूर्व जिला पंचायत सदस्य कुलविंदर सिंह किंदा ने अपने समर्थकों संग घेर लिया। प्रदर्शनकारियोंके हाथ में डंडे आदि भी थे। सड़क पर इन लोगों ने जमकर बवाल किया। जिसके बाद कांग्रेसियों ने जैसे-तैसे यशपाल आर्य समेत काफिले में शामिल अन्य गाडिय़ों को बाहर निकाला। वहीं, हमले में सात-आठ कार्यकर्ताओं को चोटें भी आई। कांग्रेस की ओर से मुकदमा दर्ज होने के बाद रात में किंदा पक्ष की ओर से भी यशपाल समेत 24 लोगों पर केस दर्ज हुआ है।

वहीं, रविवार को यशपाल के आवास पहुंचे पूर्व सीएम हरीश रावत ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से फोन पर बात करते हुए कहा कि थाने से 20-25 मीटर की दूरी पर पूरी घटना हो गई। सदस्यता कार्यक्रम से पहले ही खुली धमकियां मिल रही थी। पुलिस को बताने पर भी सिर्फ दो पुलिसकर्मी मौके पर भेजे गए। जबरन गाड़ी खोल यशपाल और संजीव को बाहर निकालने का प्रयास किया गया। गनीमत रही कि कार्यकर्ताओं ने खुद को आगे कर हमलावरों के मंसूबे पूरे नहीं होने दिए। हमले में कार्यकर्ताओं को काफी चोट भी आई। मैं इसके वीडियो व प्रमाण भी आपको भेजूंगा।

डीजीपी अशोक कुमार को फोन लगा हरदा ने कहा कि पुलिस को पूर्व सूचना होने के बावजूद भी सुरक्षा का कोई प्रबंध न होना बड़े सवाल खड़ा करता है। जिले में ऐेसे पुलिस अफसर क्यों रखे गए हैं? हम क्या यशपाल आर्य को देहरादून या किसी अन्य सुरक्षित जगह ले जाएं? वहीं, कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष गणेश गोदियाल ने कहा कि भाजपा राजनीतिक लड़ाई के मामले में कांग्रेस में पार नहीं पा सकती। इसलिए ङ्क्षहसा का सहारा लिया जा रहा है। मगर कांग्रेस पूरी एकजुटता के साथ संघर्ष करेगी।

घटना के पीछे खनन से जुड़े लोग

सीएम धामी से बात करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि हमले के पीछे खनन से जुड़े लोग है। बाजपुर में बेतहाशा खनन किया जा रहा है। हरदा ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि यह भाजपा का उच्चस्तरीय षडय़ंत्र था। हमले में विरोधी गुट के कुछ कांग्रेसियों के भी शामिल होने के सवाल पर बोले,ऐसे लोग पार्टी से बाहर किए जाएंगे।

यशपाल बोले जान से मारने की हुई कोशिश

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष कांग्रेस यशपाल आर्य ने बताया कि सुनियोजित तरीके से हमें जान से मारने की कोशिश की गई थी। इस गठजोड़ में प्रदेश सरकार पूरी तरह संलिप्त है। भाजपा का एक मंत्री कुछ कथित कांग्रेस नेता भी इसमें शामिल थे। इन लोगों ने एक आपराधिक प्रवृत्ति का व्यक्ति जो कि हिस्ट्रीशीटर होने के साथ पूर्व में जिलाबदर भी हो चुका है। उसे आगे किया। जिसने लाठी-डंडों और तलवारों संग हमला बोला।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.