कूड़े से पटा हल्द्वानी शहर, आंदोलनकारियों ने बदली रणनीति, मांग पूरी होने तक पीछे न हटने केे संंकेत

शहर कूड़े से पट चुका है। देवभूमि उत्तराखंड सफाई कर्मचारी संघ ने आंदोलन की रणनीति बदल दी है। कर्मचारियों ने सोमवार को कूड़ा उठाने का विरोध नहीं किया। हालांकि निगम परिसर में धरने पर जमे कर्मचारियों ने उपेक्षा पर प्रदेश सरकार को कोसा।

Prashant MishraTue, 27 Jul 2021 06:50 AM (IST)
जब तक कर्मचारी काम पर नहीं लौटते दैनिक मजदूरी वाले कर्मचारियों से कूड़ा उठाना जारी रखा जाएगा।

जागरण संवाददाता, हल्द्वानी : पूरा शहर कूड़े से पट चुका है। देवभूमि उत्तराखंड सफाई कर्मचारी संघ ने आंदोलन की रणनीति बदल दी है। कर्मचारियों ने सोमवार को कूड़ा उठाने का विरोध नहीं किया। हालांकि निगम परिसर में धरने पर जमे कर्मचारियों ने उपेक्षा पर प्रदेश सरकार को कोसा। चेताया कि जब तक मांगें नहीं मानी जाती, वे पीछे नहीं हटेंगे। प्रदेशव्यापी आंदोलन को आठ दिन पूरे हो गए हैं।

सोमवार को नगर निगम की टीम ने शहर के कई सार्वजनिक स्थानों से कूड़े का ढेर हटवाया। सफाई के लिए निगम ने 12-12 कर्मचारियों की दो टीमें गठित कर दी है। दो बुलडोजर और तीन डंपरों को किराये पर लिया गया है। बरेली रोड, राजपुरा, इंदिरानगर, भोलानाथ गार्डन, नैनीताल रोड आवास विकास के पास से 250 मीट्रिक टन से अधिक कूड़ा उठाया गया। इंदिरानगर के जनप्रतिनिधि पिछले दो दिनों से कूड़ा उठाने की मांग कर रहे थे। नगर स्वास्थ्य अधिकारी डा. मनोज कांडपाल ने बताया कि जब तक कर्मचारी काम पर नहीं लौटते दैनिक मजदूरी वाले कर्मचारियों से कूड़ा उठाना जारी रखा जाएगा।

मंत्री शहरी विकास बंशीधर भगत का कहना है कि हड़ताल को देखते हुए निकायों से वैकल्पिक व्यवस्था करने को कहा है। कर्मचारियों की मांगों को लेकर सीएम ने मंगलवार को समय देने की बात कही है। बैठक सकारात्मक रहेगी।

वहीं, सफाई कर्मचारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष राहत मसीह ने कहा कि शासन ने एक बार फिर सकारात्मक रुख दिखाया है। शहरी विकास निदेशक वीके सुमन ने मंगलवार को वार्ता के लिए बुलाया है। उम्मीद है सरकार कोई सकारात्मक फैसला लेगी।

पहल : कूड़ा फेंकनेवालों की निगरानी शुरू

नवाबी रोड स्थित महिला डिग्री कॉलेज के बाहर वाहनों से आने-जाने वाले कूड़ा फेंक जाते हैं। ऐसे लोगों पर निगरानी के लिए कालोनी के लोगों ने ड्यूटी लगा दी है। लोगों का कहना है कि मोहल्ले को कूड़ा घर नहीं बनने देंगे। सामाजिक कार्यकर्ता हेमंत गौनिया ने बताया कि रात को भी निगरानी की जा रही है। पहले दिन 11 लोगों को कूड़ा फेंकते पकड़ा गया। ऐसे लोगों की फोटोग्राफी की गई है। वाहन संख्या के साथ सूची नगर निगम को सौंपेंगे।

बजबजा रहा जहां- तहां बिखरा कूड़ा

बरसात में बजबजाती गलियां, सड़कों के किनारे फैले कूड़े से दुर्गंध उठ रही है। इससे बीमारियों का खतरा भी बना हुआ है। हड़ताल की वजह से शहरी विकास मंत्री का खुद का शहर गंदगी से बजबजा रहा है। घरों में डोर-टू-डोर के कूड़ा वाहन नहीं पहुंच रहे हैं। हल्द्वानी के पुराने 33 वार्डों में आठ दिनों से कूड़ा वाहन नहीं गए हैं। इस कारण 33 हजार से अधिक घरों से कूड़ा नहीं उठा है।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.