हल्द्वानी में टीम व्यूअर एप डाउनलोड करवा कर ठगे सवा चार लाख रुपये

राजेंद्र जोशी के मोबाइल फोन पर आई कॉल में कहा गया कि आपका सिम बंद किया जाएगा। केवाइसी करना आवश्यक है। ठग के बताए अनुसार युवक ने टीम व्यूअर डाउनलोड करके एक्सेस किया तो मोबाइल फोन का पूरा सिस्टम ठग के हाथ में चला गया।

Prashant MishraWed, 09 Jun 2021 11:13 PM (IST)
एसओ मुखानी सुशील कुमार ने बताया कि पैसे ब्लॉक करने के लिए बैंक को रिक्वेस्ट भेज दी गई है।

जागरण संवाददाता, हल्द्वानी: साइबर ठगों ने युवक को झांसे में लेकर करीब सवा चार लाख रुपये की ठगी कर ली। पीडि़त की शिकायत पर मुखानी पुलिस मामले की जांच में जुट गई है। जिसमें मुकदमा दर्ज किया गया है।

मुखानी थाना क्षेत्र के शिवशक्ति बिहार, अंबा बिहार निवासी राजेंद्र जोशी के मोबाइल फोन पर आई कॉल में कहा गया कि आपका सिम तत्काल बंद किया जाएगा। यदि सिम बंद करने से रोकना है तो केवाइसी करना आवश्यक है। बैंक खाते से जुड़ा नंबर बंद होने की बात सुनकर दहशत में आया युवक केवाइसी के लिए तैयार हो गया। ऐसे में ठग ने युवक को झांसे में लेते हुए एक मोबाइल नंबर पर 10 रुपये का भुगतान आनलाइन तरीके से करने को कहा। युवक से टीम व्यूअर डाउनलोड करने का निर्देश दिया।

ठग के बताए अनुसार युवक ने टीम व्यूअर डाउनलोड करके एक्सेस किया तो मोबाइल फोन का पूरा सिस्टम ठग के हाथ में चला गया। इस दौरान ठग ने युवक को बातों में उलझाए रखा। जिसमें करीब ढाई लाख रुपये एफडी के जरिये व डेढ़ लाख रुपये आनलाइन माध्यम से ठग ने अपने खाते में स्थानांतरित कर लिया। इस तरह करीब चार लाख 27 हजार की धनराशि की ठगी हो गई। जिसके मैसेज भी पीडि़त के खाते में आए। फोन कटने के बाद पीडि़त को ठगी का अहसास हुआ। पीडि़त की शिकायत पर मुखानी पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। एसओ मुखानी सुशील कुमार ने बताया कि संबंधित गेटवे में पैसे ब्लॉक करने के लिए बैंक को रिक्वेस्ट भेज दी गई है।

साइबर ठगी के शिकार के खाते में वापस करवाए 43 हजार रुपये

टनकपुर : पुलिस ने साइबर ठगों द्वारा टनकपुर निवासी एक व्यक्ति के खाते से निकाली गई 95 हजार रुपये की धनराशि में से 43,210 रुपये पीडि़त के खाते में वापस करा दिए हैं। शेष धनराशि वापस करवाने के लिए कार्रवाई चल रही है। 26 मई को टनकपुर के विष्णुपुरी कालोनी निवासी शेर सिंह पुत्र कल्याण सिंह को अज्ञात साइबर ठग ने कॉल कर उसे अपना रिश्तेदार बताया और इलाज के नाम पर मदद मांगी। ठग पर विश्वास कर शेर सिंह ने लिंक खोलकर फोन पे के माध्यम से 95 हजार रुपये की धनराशि खाते में भेज दी।

बाद में उसने अपने रिश्तेदारों से इस संबंध में जानकारी ली तो उसे ठगी का अहसास हुआ और उसने तत्काल साइबर सैल को इस सम्बन्ध में सूचना दी। जिसके बाद प्रभारी निरीक्षक साइबर सैल हरपाल सिंह के नेतृत्व में टीम गठित की गई। लेन-देन का पूर्ण विवरण प्राप्त कर संबन्धित गूगल पे, फोन पे नोडल से सम्पर्क कर टीम ने विधिक कार्रवाई करते हुए शेर सिंह के खाते में 43,210 रुपये की धनराशि वापस करा दी है। साइबर सैल प्रभारी ने बताया कि शेष धनराशि को वापस कराए जाने की कार्रवाई की जा रही है। टीम में प्रभारी हरपाल सिंह के साथ कांस्टेबल बिहारी लाल, सद्दाम हुसैन, सपना ढेक शामिल रहे।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.