पूर्व सीएम त्रिवेन्‍द्र ने कहा, टीएसआर पहले भी थे, अब भी हैं और आगे भी रहेंगे

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत बुधवार को काशीपुर भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे। इस दौरान पार्टी में गुटबाजी के सवालों को नकारते हुए कहा कि टीएसआर पहले भी थे अब भी हैं और आगे भी रहेंगे।

Skand ShuklaWed, 23 Jun 2021 02:23 PM (IST)
पूर्व सीएम त्रिवेन्‍द्र ने कहा, टीएसआर पहले भी थे, अब भी हैं और आगे भी रहेंगे

काशीपुर, जागरण संवाददाता : पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत बुधवार को काशीपुर भारतीय जनता पार्टी युवा मोर्चा के कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे। इस दौरान पार्टी में गुटबाजी के सवालों को नकारते हुए कहा कि टीएसआर पहले भी थे अब भी हैं और आगे भी रहेंगे। पार्टी के अंदर चल रहे द्वंद पर उन्होंने कहा कि समय रहते सब ठीक कर लिया जाएगा, कुछ मतभेद भी होगा तो उसे सुलझा लिया जाएगा। उन्होंने तीरथ सरकार के कार्यकाल की सराहना करते हुए कहा कि वह बेहतर काम कर रहे हैं और आगे उन्हें और समय मिलेगा, जिससे वह सरकार की अच्‍छी छाप छोड़ सकेंगे।

भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा की ओर से रामलीला मैदान में आयोजित रक्तदान शिविर के आयोजन में पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिह रावत ने कहा कि भाजपा सरकार को चार साल से ज्यादा हो गए, इस दौरान समाज के कई अहम कदम उठाए गए। इसके साथ हमने पर्यावरण संरक्षण के लिए कई योजनाएं अमल में लाई हैं। आने वाले समय में ग्लोबल वर्मिंग की चुनौतियों से निपटने के लिए के लिए सरकार पूरी तरह सजग है। जनता की मूलभूत आवश्कताओं पानी काऔर बिजली देने के काम हमारी सरकार की तरफ से किया गया है। किसान सम्मान निधि का लाभ हर किसान तक पहुंचा, वहीं अटल आयुष्मान योजना कोविड काल में संजीवनी साबित हुई है।

भ्रष्टाचार के मामलों लेकर उन्होंने कहा कि हमारी सरकार शुरू से ही ऐसे मामलों को लेकर सचेत रही है। इसके खिलाफ हमने बड़ी जंग लड़ी है एनएच घोटाला इसका प्रमाण है जिसमें कई आइएस व पीसीएस अधिकारी तक गिरफ्तार हुए। आगे भी भ्रष्टाचार के खिलाफ यह वार जारी रहेगा। सरकार में त्रिवेंद्र सरकार के निर्णयों को पलटे जाने के मामले में उन्होंने कहा कि यह सरकार और पार्टी के विवेक पर होता है कि वह क्या निर्णय लें। सरकार में नेतृत्व परिवर्तन करने की वजह पर उन्होंने कहा कि मैं काम करते थक गया था इस लिए नए उर्जावान व्यक्ति को लगाया गया है। इस दौरान विधायक हरभजन सिंह चीमा, प्रदेश महामंत्री आशीष गुप्ता, मंडी के पूर्व चैयरमैन गजराज बिष्ट, वन निगम के चैयरमैन सुरेश परिहार, मेयर ऊषा चौधरी, खिलेन्द्र चौधरी आदि मौजूद रहे।

काशीपुर कस्बा या शहर पर साध गए चुप्पी

सरकार में मुख्यमंत्री कार्यकाल के दौरान काशीपुर को कस्बा कहे जाने के उनके बयान पर जब सवाल किया गया तो उन्होंने इसपर कुछ भी कहने से मना कर दिया। बाद में उन्होंने कहा आप लोग जो समझ लिजिए..। काशीपुर में उनके बयान को लेकर पार्टी में भी आलोचना हुई थी। मामले पर सवाल से वह पल्ला झाड़ते नजर आए।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.