वन विभाग ने हिंदी, कुमाऊंनी और गढ़वाली में जंगल बचाने के लिए लोगों से मांगा सहयोग

वन विभाग ने हिंदी, कुमाऊंनी और गढ़वाली में जंगल बचाने के लिए लोगों से मांगा सहयोग

जंगलों की आग ने वन विभाग पर्यावरण प्रेमियों से लेकर आम लोगों को भी चिंता में डाल दिया है। 20 अप्रैल तक करीब 3500 हेक्टेयर जंगल आग की चपेट में आ चुका था। जिस वजह से 50 हजार पेड़ भी जलकर राख हो गए।

Skand ShuklaThu, 22 Apr 2021 07:16 AM (IST)

हल्द्वानी, जागरण संवाददाता : जंगलों की आग ने वन विभाग, पर्यावरण प्रेमियों से लेकर आम लोगों को भी चिंता में डाल दिया है। 20 अप्रैल तक करीब 3500 हेक्टेयर जंगल आग की चपेट में आ चुका था। जिस वजह से 50 हजार पेड़ भी जलकर राख हो गए। वहीं, वन विभाग ने जंगल की आग पर काबू पाने के लिए अब कुमाऊंनी व गढ़वाली बोली में अपील कर लोगों से सहयोग मांगा है। कुमाऊंनी में कहा जा रहा है कि न हरियाली, न पहाड़, न परिंदों की चहचहाट इन साबौक बिना कस लागुल आपण पहाड़। वहीं, गढ़वाली में अपील की जा रही है कि अगर वनों में आ देखला तै नजदीकी वन चौकी में सूचित जरूर करा।

फायर सीजन के लिहाज से यह साल उत्तराखंड के लिए ठीक नहीं है। 15 जून तक फायर सीजन माना जाता है। लेकिन आग के आंकड़ों ने राज्य गठन के बाद से अब तक इसे सात उन सालों की श्रेणी में शामिल कर दिया है। जब आग की सबसे ज्यादा घटनाएं सामने आई। सीमित संसाधनों व स्टाफ की कमी के बावजूद वन विभाग जैसे-तैसे जंगलों में लगी लपटों पर काबू पाने में जुटा है। हालांकि, उम्मीद है कि अब मौसम भी महकमे का साथ देगा। वहीं, हिंदी, कुमाऊंनी व गढ़वाली में अपील कर विभाग के अफसर लोगों को जंगलों का महत्व बता रहे हैं। बताया जा रहा है कि पर्यटन रोजगार की रीढ़ भी हरे-भरे पहाड़ है। इसलिए जंगलों को बचाने में अपनी सहभागिता जरूर निभाए।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.