रानीखेत में सुनार के कमरे में घुसे पांच संदिग्‍ध हथियारबंद, जानिए क्‍या है पूरा मामला

श्रीधरगंज में असलहा से लैस पांच संदिग्ध स्वर्ण कारीगर (सुनार) के घर में घुस गए। सुबह सवेरे अनजान लोगों के अंगूठी बनवाने के बहाने दुकान के बजाय सीधे कमरे में धमकने से सर्राफा व्यवसायी का परिवार दहशत में आ गया।

Skand ShuklaSun, 05 Dec 2021 01:08 PM (IST)
रानीखेत में सुनार के कमरे में घुसे पांच हथियारबंद, जानिए क्‍या है पूरा मामला

रानीखेत, जागरण संवाददाता : श्रीधरगंज में असलहा से लैस पांच संदिग्ध स्वर्ण कारीगर (सुनार) के घर में घुस गए। सुबह सवेरे अनजान लोगों के अंगूठी बनवाने के बहाने दुकान के बजाय सीधे कमरे में धमकने से सर्राफा व्यवसायी का परिवार दहशत में आ गया। पूछताछ करने पर हथियारबंद युवकों ने सेनाभर्ती के सिलसिले में रानीखेत आने का हवाला दिया तो सुनार का शक और गहरा गया।

तभी संदिग्ध लोगों ने कमरे का मुख्य गेट बंद करना चाहा तो कारीगर ने किसी बड़ी वारदात की आशंका में विरोध शुरू कर दिया। धक्कामुक्की व होहल्ला मचने पर बदमाश बाजार की ओर फरार हो गए। इधर पुलिस ने बाजार क्षेत्र में लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाल संदिग्ध असलाहधारियों की शिनाख्त तेज कर दी है। अंदेशा है कि हथियारबंद कीसी बड़ी वारदात की मंशा से पहुंचे थे।

नगर के श्रीधरगंज में किराए के मकान में रहने वाला नरेंद्र कुमार वर्मा सर्राफा व्यवसायियों के लिए जेवरात बनाने का काम करता है। रविवार की सुबह करीब साढ़े सात बजे पांच लोग उसके कमरे के बाहर पहुंच गए। सुनार के अनुसार दरवाजा खटखटाने पर पत्नी ने दरवाजा खोला तो बेरकटोक भीतर घुस आए। कारण पूछा तो अंगूठी बनवाने का हवाला दिया। पूछताछ में संदिग्ध लोगों ने सेना भर्ती के सिलसिले में रानीखेत आने का जिक्र किया जबकि इस बीच सेनाभर्ती नहीं चल रही है। इस पर सुनार सतर्क हो गया। 

सुनार ने बताया कि पांचों कट्टे व पिस्टल से लैस थे। उसकी नजर कमर से लटके असलाह के बट पर पड़ी तो सतर्क हो गया। इसी बीच बदमाशों ने कमरे का मुख्य गेट बंद करने का प्रयास भी किया। सुनार ने हिम्मत जुटा कमरे में रखे हथौड़े को हथियार बना विरोध तेज किया। पुत्र की मदद से एक को पकडऩा चाहा तो पांचों संदिग्ध धक्का देकर बाजार की ओर फरार हो गए। 

चाय पी और चलते बने 

व्यापारियों के अनुसार असलाहधारी श्रीधरगंज से सदर बाजार होते हुए गांधी चौक की ओर तेजी से निकले। एक दुकान में चाय पी और दबंगई के साथ बगैर रुपये दिए निकल गए। लूटपाट या कोई और बड़ी वारदात के अंदेशे से डरे सहमे सुनार ने कोतवाली में गोपनीय सूचना दी। 

सीसीटीवी फुटेज में दिखे संदिग्ध 

एसआइ श्याम सिंह बोरा व संजीव कुमार, कांस्टेबल योगेंद्र प्रकाश ने बाजार में लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज खंगाली। सदर बाजार स्थित एक होटल के कैमरे में गांधी चौक की ओर तेजी से बढ़ते दिखाई दिए। 

और पुलिस की तीसरी आंख बंद 

मुख्य बाजार में पुलिस के सीसीटीवी कैमरे काम ही नहीं कर रहे हैं। इससे संदिग्ध लोगों की गतिविधियां उनमें कैद नहीं हो सकी। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.