तहसील प्रशासन की कार्रवाई से बुक्सा समुदाय में उबाल, मंत्री का आवास घेरने की कोशिश

ध्वस्तीकरण की कार्रवाई से बुक्सा समाज में उबाल आ गया। कैबिनेट मंत्री के इशारे पर उक्त कार्रवाई का आरोप लगाते हुए गुरुवार को सैकड़ों बुक्सा समाज की महिलाएं और पुरुष सड़क पर उतर आए। इस दौरान मंत्री अरविंद पांडेय के आवास घेराव को कूच कर रहे प्रदर्शनकारियों को रोक दिया।

Prashant MishraThu, 23 Sep 2021 04:55 PM (IST)
मौके पर पहुंचे एसडीएम और सीओ के आश्वासन के करीब तीन घंटे बाद धरना खत्म किया।

जागरण संवाददाता, गूलरभोज (ऊधमसिंह नगर) : नीलामी से क्रय की गई भूमि पर नीलमकर्ता के सहखातेदार द्वारा अतिक्रमण कर गेट बनाए जाने के मामले में तहसील प्रशासन द्वारा बीते बुधवार ध्वस्तीकरण की कार्रवाई से बुक्सा समाज में उबाल आ गया। राज्य सरकार के एक कैबिनेट मंत्री के इशारे पर उक्त कार्रवाई का आरोप लगाते हुए गुरुवार को सैकड़ों बुक्सा समाज की महिलाएं और पुरुष सड़क पर उतर आए। इस दौरान मंत्री अरविंद पांडेय के आवास घेराव को कूच कर रहे प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने आवास से पीछे रोक दिया। घेराव पर आमादा  प्रदर्शनकारियों की प्रशासन से तीखी नोकझोंक हुई। गुस्साए प्रदर्शनकारी प्रशासन और मंत्री के खिलाफ नारेबाजी करते हुए सड़क पर धरने पर बैठ गए। मौके पर पहुंचे एसडीएम और सीओ के आश्वासन के करीब तीन घंटे बाद धरना खत्म किया।

 भजपुरी चक्की मोड़, कुल्हा निवासी प्रकाश सिंह कोश्यारी पुत्र खुशाल सिंह ने साल 2008 में कुंवर सिंह पुत्र रेवा सिंह के खाते में दर्ज भूमि को सर्वाधिक बोली 11 लाख 60 हजार लगाते हुए नीलामी से क्रय की थी। जिसमें 13 फीट चौड़ाई का एक रास्ता भी था। आरोप है कि कुंवर सिंह के पुत्र लक्ष्मी सिंह द्वारा अतिक्रमण कर उक्त रास्ते को बंद कर लोहे का गेट लगा दिया गया। जिसकी शिकायत प्रकाश सिंह द्वारा तहसीलदार और एसडीएम से की गई। मामले में एसडीएम राकेश चंद्र  तिवारी ने तहसीलदार गदरपुर को शिकायत पर उचित कार्रवाई करने के निर्देश दिए। इस कड़ी में तहसील द्वारा बीते बुधवार ध्वस्तीकरण कार्रवाई करते हुए रास्ता खुलवा दिया गया। तहसील प्रशासन की कार्रवाई से बुक्सा समुदाय में आक्रोश फैल गया।  कार्रवाई को राज्य सरकार के एक कैबिनेट मंत्री के इशारे पर करार देते हुए समुदाय से जुड़े सैकड़ों महिलाएं और पुरुष गुरुवार को सड़कों पर उतर आए और उन्होंने मंत्री आवास कूच कर दिया।

प्रदर्शनकारियों के साथ पूर्व विधायक प्रेमानंद महाजन,कांग्रेस महिला जिलाध्यक्ष रीना कपूर सहित तमाम जनप्रतिनिधियों के साथ आने से माहौल गरमा गया। पहले से मुस्तैद पुलिस और प्रशासन ने बैरिकेडिंग कर मंत्री अरविंद पांडेय आवास से कुछ फासले पर स्थित गांव चंदायन में प्रदर्शनकारियों को रोक दिया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों की प्रशासन से तीखी नोकझोंक हुई। रास्ता रोके जाने से खफा प्रदर्शनकारी सड़क पर बैठ गए। इस दौरान मंत्री और प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। मौके पर पहुंचे एसडीएम राकेश चंद्र तिवारी ने प्रदर्शनकारियों की अगुवाई कर रहे हैं नेताओं को सप्ताह भीतर उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया। करीब तीन घंटे अफरातफरी के बीच  प्रदर्शनकारियों ने धरना खत्म किया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.