जल संचय योजना बनाने के डीएम ने दिए निर्देश, पेयजल की परेशानी को दूर करने की कवायद

शहर में पेयजल की बर्बादी रोकने के लिए टंकियों में सेविंग नोजल्स लगाने के भी निर्देश दिए।

डीएम ने जल जीवन मिशन के अंतर्गत जल संस्थान एवं पेयजल निगम द्वारा जनपद में संचालित व प्रस्तावित कार्यों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने हर घर तक पानी पहुंचाने के साथ ही जल संरक्षण व संचयन की योजनाओं पर भी प्राथमिकता से कार्य करने की बात कही।

Prashant MishraWed, 24 Feb 2021 02:08 PM (IST)

जागरण संवाददाता, नैनीताल : डीएम धीराज गब्र्याल जल संस्थान व पेयजल निगम अधिकारियों के साथ बैठक कर मिशन में तेजी लाते हुए जल्द निर्धारित लक्ष्य पूरा करने के निर्देश दिए है। उन्होंने शहर में पेयजल की बर्बादी रोकने के लिए टंकियों में सेविंग नोजल्स लगाने के भी निर्देश दिए। साथ ही विभिन्न योजनाओं के लिए बजट भी अनुमोदित किया।

मंगलवार को डीएम धीराज गब्र्याल ने जल जीवन मिशन के अंतर्गत जल संस्थान एवं पेयजल निगम द्वारा जनपद में संचालित व प्रस्तावित कार्यों की समीक्षा की। इस दौरान उन्होंने  हर घर तक पानी पहुंचाने के साथ ही जल संरक्षण व संचयन की योजनाओं पर भी प्राथमिकता से कार्य करने की बात कही। उन्होंने गुणवत्ता बनाए रखते हुए तय समय पर कार्य पूरे करने के निर्देश दिए। कहा कि आंगनबाड़ी केंद्रों और स्कूलों में कार्य मार्च अंत तक पूरा कर लिया जाए। साथ ही दस मार्च तक विलेज एक्शन प्लान तैयार कर लें। सभी पंचायतों का जल जीवन मिशन के अंतर्गत अलग खाता खुलवाने, ई-मेल आईडी, पंचायत निधि खाता सहित अन्य सभी विवरण उपलब्ध कराने के निर्देश जिला पंचायतराज अधिकारी को दिए।

शहर में पानी की बर्बादी रोकने को टंकियों में लगेंगे वाटर सेविंग नोजल्स

झील के गिरते जल स्तर और पानी बर्बाद होने की शिकायत को डीएम ने गंभीरता से लिया है। उन्होंने शहर में पानी की अनावश्यक बर्बादी रोकने के लिए टंकियों में वाटर सेविंग नोजल्स लगाने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिए। साथ ही कहा कि वार्डवार अभियान चलाकर जल्द इसे पूरा करवा लिया जाए। साथ ही बर्बादी रोकने के लिए कोई अन्य कारगर योजना भी बनाई जाए।

इन योजनाओं का किया अनुमोदन

बैठक में जल संस्थान की लालकुआं की 51.48 लाख की दो डीपीआर, कोटाबाग की 53 लाख की दो डीपीआर, हल्द्वानी आंगनबाड़ी केंद्रों की 1.28 लाख धनराशि की एफएचटीसी की आठ डीपीआर, हल्द्वानी की 305.94 लाख की 36 एफएचटीसी डीपीआर का अनुमोदन किया गया। पेयजल निगम के अंतर्गत 221.40 लाख रुपये धनराशि की 10 एफएचटीसी डीपीआर, जिसमें से ओखलकांडा की सात, बेतालघाट की दो तथा रामनगर व कोटाबाग की एक-एक डीपीआर का अनुमोदन किया गया। पेयजल निगम के अंतर्गत 4000.49 लाख रुपये धनराशि की 15 डीपीआर जिसमें ओखलकांडा की सात, रामनगर की सात तथा बेतालघाट की एक डीपीआर का अनुमोदन किया गया। पेयजल निगम के अंतर्गत 52.68 लाख रुपये धनराशि की 10 डीपीआर जिसमें ओखलकांडा के आठ स्कूलों, भीमताल व रामगढ़ के  एक-एक स्कूल की डीपीआर का अनुमोदन किया गया।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.