नशे के खिलाफ 15 किमी की हाफ मैराथन में दर्शन व लक्ष्मी ने सबको पछाड़ा

बढ़ती नशाखोरी के खिलाफ प्रथम कुमाऊं हाफ मैराथन में शनिवार को युवाओं का हुजूम उमड़ पड़ा। करीब 2500 युवाओं ने इसमें प्रतिभाग किया। 15 किमी दौड़ में दर्शन व लक्ष्मी ने सबको पछाड़ा। जबकि सात किमी दौड़ में दीपक भट्ट आशा बिष्ट पहले स्थान पर रहे।

Skand ShuklaSun, 28 Nov 2021 09:40 AM (IST)
नशे के खिलाफ 15 किमी की हाफ मैराथन में दर्शन व लक्ष्मी ने सबको पछाड़ा

जागरण संवाददाता, हल्द्वानी: बढ़ती नशाखोरी के खिलाफ प्रथम कुमाऊं हाफ मैराथन में शनिवार को युवाओं का हुजूम उमड़ पड़ा। करीब 2500 युवाओं ने इसमें प्रतिभाग किया। 15 किमी दौड़ में दर्शन व लक्ष्मी ने सबको पछाड़ा। जबकि सात किमी दौड़ में दीपक भट्ट, आशा बिष्ट पहले स्थान पर रहे।

जस गोंविन स्कूल में हाफ मैराथन का शुभारंभ अर्जुन अवार्डी और भारतीय हाकी टीम के पूर्व कप्तान दीपक ठाकुर, अंतरराष्ट्रीय हाकी खिलाड़ी बलजीत सिंह, ओलंपियन राजेंद्र रावत, एसपी सिटी डा. जगदीश चंद्र, कोतवाल अरुण कुमार सैनी व आयोजक विकास भगत ने संयुक्त रूप से किया। 15 किलोमीटर पुरुष वर्ग हाफ मैराथन में हरीश नेगी द्वितीय, आनंद सिंह तृतीय रहे। बालिका वर्ग में एकता द्वितीय व मनीषा तृतीय रही। सात किलोमीटर हाफ मैराथन के पुरुष वर्ग में हिमांशु पडलिया द्वितीय, प्रकाश भट्ट तृतीय रहे। महिला वर्ग में रिया बधानी द्वितीय व तुलसी बिष्ट तृतीय रहीं।

दो किलोमीटर मैराथन बालक वर्ग में शुभ आदित्य प्रथम, पारस जोशी द्वितीय, ध्रुव जोशी तृतीय व बालिका वर्ग में खुशी प्रथम, पायल द्वितीय व प्रियांशी ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। विजेताओं को अतिथियों ने सम्मानित किया। देवभूमि जन चेतना मंच के अध्यक्ष विकास भगत ने सफल कार्यक्रम के लिए सभी लोगों का आभार प्रकट किया।

31 हजार तक मिला इनाम

15 किमी दौड़ के प्रथम प्रतिभागियों को 31 हजार, द्वितीय को 25 हजार, तृतीय को 21 हजार व सात किमी दौड़ के प्रथम प्रतिभागियों को 18 हजार, द्वितीय को 14 हजार व तृतीय को 11 हजार नकद पुरस्कार मिला। दो किमी दौड़ के प्रथम प्रतिभागियों को 11 हजार, द्वितीय को सात हजार व तृतीय को पांच हजार का नकद इनाम दिया गया।

नशा अच्छे कार्यों का करें: दीपक

भारतीय ओलंपिक टीम के पूर्व कप्तान व अर्जुन अवार्डी दीपक ठाकुर ने कहा कि हमें नशा अच्छे कार्यों का करना चाहिए। इसके परिणाम हमेशा सकारात्मक होंगे। किसी भी काम को करने का जुनून एक नशा है। ड्रग्स, शराब आदि नशों को छोड़कर युवाओं को खेल व भविष्य को टारगेट बनाना चाहिए। उन्होंने आयोजक विकास भगत की भी सराहना की।

बिपिन रावत से बड़ा उदाहरण नहीं: बलजीत

भारतीय हाकी टीम के धुरंधर गोलकीपर रहे बलजीत सिंह ने कहा कि पहाड़ के युवाओं के हौंसले आसमान के बराबर हैं। भारत के पहले रक्षा प्रमुख या चीफ आफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत से बड़ा कोई उदाहरण नहीं हैं। सोच सकारात्मक हो तो कोई लक्ष्य बड़ा नहीं होता।

नशे के खिलाफ लडऩी होगी लंबी लड़ाई: राजेंद्र

ओलंपियन राजेंद्र रावत ने कहा कि नशे के खिलाफ लंबी लड़ाई लडऩे की जरूरत है। जुनून देश के लिए कुछ कर गुजरने का हो तो। कोई मार्ग कठिन नहीं होता।

संगत का पड़ता है असर: प्रतीक

24 वर्षीय युवा आइएएस प्रतीक जैन ने मंच से युवाओं में जोश भरा। कहा कि संगत का युवाओं के जीवन पर असर पड़ता है। इसलिए संगत अच्छे लोगों की करें। नशा अच्छी व बुरी दोनों चीजों का होता है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.