एमएससी जंतु विज्ञान, वनस्पति विज्ञान व गणित की चलेंगी कक्षाएं, एसबीएस कालेज के छात्र नेता सात साल से कर रहे थे मांग

एमएससी की कक्षाएं संचालित कराने की मांग को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की मेहनत रंग लाई। वर्ष 2014 में पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष गोपाल के नेतृत्व में विद्यार्थी परिषद ने एमएससी जंतु विज्ञान वनस्पति विज्ञान और गणित की मांग उठाई थी।

Prashant MishraTue, 07 Dec 2021 01:47 PM (IST)
सोमवार को अपर सचिव की ओर से कक्षाओं के संचालन के आदेश मिल गए हैं।

जागरण संवाददाता, रुद्रपुर : सरदार भगत सिंह राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में एमएससी की जंतु विज्ञान, वनस्पति विज्ञान और गणित विषयों के संचालन के लिए अनुमति मिल गई है। छह दिसंबर को शासनादेश जारी होते ही छात्रों में खुशी की लहर दौड़ गई।  

महाविद्यालय में एमएससी की कक्षाएं संचालित कराने की मांग को लेकर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की मेहनत रंग लाई। वर्ष 2014 में पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष गोपाल के नेतृत्व में विद्यार्थी परिषद ने एमएससी जंतु विज्ञान, वनस्पति विज्ञान और गणित की मांग उठाई थी। तब से लगातार प्रदर्शन और ज्ञापन का दौर चलता आ रहा था। करीब एक सप्ताह पहले विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने महाविद्यालय स्थित आडिटोरियम हाल की छत पर चढ़कर आत्महत्या की चेतावनी तक दे दी थी। जिसके बाद मुख्यमंत्री ने मामले को गंभीरता से लेते हुए आश्वासन दिया, तब छात्र नीचे उतरे। सोमवार को अपर सचिव की ओर से एमएससी की जंतु विज्ञान, वनस्पति विज्ञान और गणित की कक्षाओं के संचालन के आदेश मिल गए हैं। शासनादेश में असिस्टेंट प्रोफेसर जंतु विज्ञान, वनस्पति विज्ञान, गणित, प्रयोगशाला सहायक और परिचर की नियुक्ति प्रक्रिया से संबंधित आदेश भी जारी किए गए हैं। 

विधायक ठुकराल भी पहुंचे कालेज

शासनादेश मिलते ही विधायक राजकुमार ठुकराल, भारत भूषण चुघ भी महाविद्यालय में पहुंचे। छात्रों ने प्राचार्य केके पांडेय व विधायक ठुकराल को मिठाई खिलाकर खुशी व्यक्त की। विधायक राजकुमार ठुकराल व भारत भूषण चुघ ने सीएम पुष्कर ङ्क्षसह धामी का आभार व्यक्त किया। इस मौके पर विपिन शर्मा, गोपाल पटेल, रचित सिंह, सौरभ राठौर, राहुल गुप्ता, विपिन पांडेय, ललित शर्मा, प्रकाश, अभिजीत, पुनीत ङ्क्षसह, रवि, कैलाश आदि मौजूद थे। 

परिचर्चा 
रुद्रपुर एवं आस पास के जो छात्र-छात्राएं बीएससी के बाद अपनी पढ़ाई पूरी कर आगे की पढ़ाई के लिए दूर जाने एवं आर्थिक स्थिति को देखते हुए पढ़ाई छोड़ देते थे। उनकी समस्या का भी समाधान हो गया। एबीवीपी लंबे समय से एमएससी के तीनों विषयों में कक्षाओं की मांग कर रहा था। जो अब पूरी हुई है।  
- रचित, कुमाऊं  सहसंयोजक, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद उत्तरांचल
एमएससी की कक्षाओं की मांग विद्यार्थी परिषद कई वर्षों से कर रहे थे। जिला मुख्यालय में सरदार भगत सिंह रुद्रपुर डिग्री कॉलेज सबसे बड़ा कॉलेज है। बीएससी करने के बाद विद्यार्थी असमर्थ हो जाते थे। प्रदेश से बाहर जाना पड़ रहा था और आर्थिक स्थिति कमजोर होने से  एमएससी नहीं कर पा रहे थे। उन्हें राहत मिलेगी। 
- राहुल गुप्ता
वर्तमान में बीएससी में करीब दो हजार से अधिक विद्यार्थी पढ़ रहे हैं। यहां से पढ़ चुके हर साल तीन सौ से अधिक एएससी के इच्छुक विद्यार्थी कहीं और प्रवेश लेने को मजबूर थे। कई तो पढ़ाई भी छोड़ देते थे। ऐसे में अब इन विद्यार्थियों को कहीं और जाने की जरूरत नहीं होगी। एमएससी के विकल्प यहां होने से लाभ मिलेगा। 
- विपिन पांडेय
एमएससी जूलाजी, बाटनी, गणित की कक्षाओं को लेकर एक सप्ताह पहले डिग्री कालेज के आडिटोरियम की छत के ऊपर चढ़कर आत्मदाह की चेतावनी दी थी। जिस पर मुख्यमंत्री पुष्कर ङ्क्षसह धामी ने सोमवार को जीओ जारी कर दिया है। इसके लिए समस्त छात्र-छात्राएं बधाई के पात्र हैं और आगे भी महाविद्यालय की समस्याओं के लिए संघर्षरत रहेंगे। 
- सौरभ राठौर
विद्यार्थी परिषद की लंबे संघर्ष की जीत है। विगत दिनों में एमएससी की कक्षाएं प्रारंभ करने के लिए आडिटोरियम की छत जो लगभग 60 फीट ऊंची है, उसकी छत पर चढ़कर हमने आत्मदाह की चेतावनी दी थी और भी अनेक बार धरने और भूख हड़ताल किए थे। जिसके फलस्वरूप आज यह परिणाम आया है। छात्र राहत की सांस ले रहे हैं। 
- चंदन भट्ट 
शुरू हुई सांध्यकालीन कक्षा 
छात्र संख्या एवं लोगों की सुविधाओं को देखते हुए लंबे समय से सांध्यकालीन कक्षाओं के संचालन की मांग करते आ रहे थे। स्वीकृति मिलने के बाद इसमें पंजीकरण शुरू किया गया। सोमवार की शाम से ढाई बजे से सांध्यकालीन कक्षा आरंभ हो चुकी है। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.