फोन पे पर कूपन स्क्रैच करने पर हो रही ठगी, बैंक अकाउंट हो रहा खाली, जानिए कैसे बचें

फोनकर्ता ने कपिल को फोन पे नंबर लेकर एप्लीकेशन भेजी। कूपन स्क्रैच करते ही उसके बैंक खाते से 10 हजार निकाल लिए गए। हेमंत कुमार ने बताया कि उसके एप पर नोटिफिकेशन आया लिंक को क्लिक करते ही उसके सात हजार रुपये पार हो गए।

Prashant MishraTue, 07 Dec 2021 10:19 AM (IST)
फोन पे पर कैश बैक के रिवार्ड कूपन स्क्रैच करने के नाम पर ठगी हो रही है।

जागरण संवाददाता, हल्द्वानी: बैंक अधिकारी बनकर एटीएम का पिन पूछने और फेसबुक अकाउंट हैक कर रुपये ठगने समेत कई मामले बहुत सुने होंगे। अब साइबर ठग फंड ट्रांसफर करने वाली भरोसेमंद एप्लीकेशन फोन पे पर जाकर लोगों को लूटने का काम कर रहे हैं। फोन पे पर कैश बैक के रिवार्ड कूपन स्क्रैच करने के नाम पर ठगी हो रही है।
हल्द्वानी निवासी दीपक बिष्ट ने बताया कि रविवार को उसके मोबाइल पर एक युवक की काल आई। उसे अपना परिचित बताया और कहा कि उसके खाते में कुछ रुपये डलवाने हैं। वह फोन पे यूज नहीं करता था। फोन कर रहे युवक के कहने पर उसने अपने दोस्त कपिल को लाइन पर ले लिया। फोनकर्ता ने कपिल को फोन पे नंबर लेकर एप्लीकेशन भेजी। इसके बाद कूपन स्क्रैच करने को कहा। कूपन स्क्रैच करते ही उसके बैंक खाते से 10 हजार निकाल लिए गए। इसी तरह मुखानी निवासी हेमंत कुमार ने बताया कि उसके एप पर नोटिफिकेशन आया कि कूपन स्क्रैच कर दो हजार रुपये मनी जीतों। जैसे ही उसने कूपन स्क्रैच किया तो एक लिंक आया। लिंक को क्लिक करते ही उसके खाते से सात हजार रुपये पार हो गए।
इस तरह से बरतें सावधानी
- रुपयों के लेनदेन के बाद फोन पे पर आने वाली एप्लीकेशन से दूर रहें। 
- रिवार्ड कूपन स्क्रैच करने पर कोई लिंक आए तो उसे न खोलें। 
- अनजान का काल आने पर फोन पे नंबर न बताएं। 
- ठगी होने पर तत्काल नजदीकी साइबर थाने में शिकायत करें। या 155260 पर काल करें। 
फंड ट्रांसफर करने वाली भरोसेमंद एप्लीकेशन फोन पे साइबर ठगों के निशाने पर है। रिवार्ड कूपन स्क्रैच करने पर ठगी हो रही है। इससे बचाव करें। ठगी से बचने के लिए हमें जागरुक होना पड़ेगा। 
विकास सिंह बिष्ट, साइबर एक्सपर्ट। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.