कुलाधिपति ने किया कुमाऊं विश्वविद्यालय के ऑनलाइन एडमिशन पोर्टल का शुभारम्भ

कोरोना संकट के बीच विद्यार्थियों की सुविधा हेतु कुमाऊं विश्वविद्यालय द्वारा नए शैक्षिक सत्र ऑनलाइन एडमिशन पोर्टल आरम्भ किया जा रहा है। अकादमिक एवं प्रशासनिक क्रियाकलापों में पारदर्शिता एवं गुणवत्ता लाने हेतु ईआरपी सॉफ्टवेयर सिस्टम को डेवेलप किया गया है।

Prashant MishraFri, 18 Jun 2021 04:39 PM (IST)
संकट काल में नई पद्धतियों को अपनाते हुए कुशलतापूर्वक अपना कार्य करने पर विवि परिवार की सराहना की।

जागरण संवाददाता, नैनीताल। राज्यपाल व कुलाधिपति बेबी रानी मौर्य ने राजभवन में कुमाऊं विश्वविद्यालय के नए शैक्षिक सत्र 2021-22 के लिए बनाये गए ऑनलाइन एडमिशन पोर्टल का शुभारम्भ किया ।साथ ही विश्वविद्यालय द्वारा डेवेलप किये गये ईआरपी सॉफ्टवेयर सिस्टम का अवलोकन भी किया गया।

शुक्रवार को राजभवन में वर्चुअल माध्यम से शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि कोरोना संकट के बीच विद्यार्थियों की सुविधा हेतु कुमाऊं विश्वविद्यालय द्वारा नए शैक्षिक सत्र ऑनलाइन एडमिशन पोर्टल आरम्भ किया जा रहा है। अकादमिक एवं प्रशासनिक क्रियाकलापों में पारदर्शिता एवं गुणवत्ता लाने हेतु ईआरपी सॉफ्टवेयर सिस्टम को डेवेलप किया गया है। इस संकट काल में नई पद्धतियों को अपनाते हुए कुशलतापूर्वक अपना कार्य करने पर विवि परिवार की सराहना की।

उन्होंने कहा कि बदलते वैश्विक परिदृश्य को देखते हुए विश्वविद्यालय द्वारा पूर्ण डिजीटाइजेशन की दिशा में कदम बढ़ाते हुए सूचना प्रौद्योगिकी अवस्थापनाओं के सृजन और उन्नयन हेतु प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा नेशनल इंस्टीटूशनल रैंकिंग फ्रेमवर्क में स्थान बनाने हेतु भी सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया जा रहा है। विश्वविद्यालय द्वारा प्लेसमेंट एंड कॉउंसलिंग सेल का पुनर्गठन करते प्रतियोगी परीक्षा केंद्र की भी स्थापना की है। इसका अकादमिक लाभ विद्यार्थियों को अवश्य प्राप्त होगा। राज्यपाल ने क्यूएस एशिया रैंकिंग में विश्वविद्यालय की 551-600 रेंक एवं नेशनल इन्स्टीट्यूशनल रैंगिंग फ्रेमवर्क में फार्मेसी विभाग को 75वीं रेंक प्राप्त होने पर विश्वविद्यालय के प्रयासों की सराहना की। राज्यपाल ने कहा कुमाऊं विश्वविद्यालय न केवल देश में बल्कि विश्व में भी अपनी अकादमिक उपलब्धियों के निमित्त पहचाना जाए।

इस अवसर पर कुलपति प्रो एनके जोशी ने पॉवरपॉइंट प्रेजेंटेशन एवं ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से विश्वविद्यालय की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि विश्वविद्यालय द्वारा नव निर्मित सॉफ्टवेयर सिस्टम के माध्यम से प्रवेश प्रक्रिया एवं प्रवेश वरीयता सूची, शुल्क जमा एवं वापसी, औपबन्धिक व मूल शैक्षिक उपाधिपत्र की प्राप्ति, छात्रों की प्रतिक्रियायें एवं शिकायतें, सूचना का अधिकार सम्बन्धी आवदेन, वार्षिक एवं सेमेस्टर परीक्षा हेतु आवेदन, परीक्षा परिणाम तथा सम्बद्धता प्राप्ति हेतु आवेदन जैसे कार्य वर्तमान में ऑनलाइन प्रक्रिया द्वारा संचालित किए जा रहे हैं।

विश्वविद्यालय द्वारा दाखिले की प्रक्रिया को पूरी तरह से ऑनलाइन किया गया है। इस सुविधा से विद्यार्थियों को महाविद्यालय या परिसरों में नहीं आना पड़ेगा। एक बार पंजीकरण शुल्क जमा कर विद्यार्थी एक ही ट्रांजेक्शन नंबर शुल्क जमा करने के बाद प्राप्त 12 अंकों की संख्या के साथ परिसरों / कॉलेजों और विभिन्न पाठ्यक्रमों के लिए कई फॉर्म भर सकता है। उन्होंने विद्यार्थियों से प्रवेश हेतु ऑनलाइन माध्यम से आवेदन करने की अपील की है। साथ ही कोविड-19 के निर्देशों का पालन करने को कहा है।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.