pinky murder case kashipur काशीपुर में पिंकी की हत्या से उबाल, रामनगर रोड पर लगाया जाम

काशीपुर (ऊधमसिंह नगर), जेएनएन : मोबाइल शोरूम सेल्स गर्ल पिंकी रावत हत्याकांड के खुलासे की मांग को लेकर शनिवार को काशीपुरवासियों में उबाल आ गया। पर्वतीय समाज के साथ ही अन्य संगठनों के लोगों ने चीमा चौक स्थित रामनगर रोड को जाम कर दिया। सीओ मनोज ठाकुर व कोतवाल चंद्रमोहन सिंह रावत के लोगों को समझाने में पसीने छूट गए। पुलिस अधिकारियों की न सुनने पर एसडीएम सुंदर ङ्क्षसह तोमर अपराधियों को 48 घंटे के भीतर दबोचने का लिखित आश्वासन दिया। तब जाकर लोगों ने जाम खोला। ज्ञात हो दिगोलीखाल, धूमाकोट, पौड़ी गढ़वाल निवासी पिंकी रावत की गत दिवस अज्ञात हत्यारों ने दिनदहाड़े हत्या कर दी थी। पिंकी यहां ओप्पो के मोबाइल डिस्ट्रीब्यूशन की दुकान में बतौर सेल्स गर्ल काम करती थी। घटना के बाद हत्यारे करीब डेढ़ लाख रुपये के 11 कीमती मोबाइल लूटकर फरार हो गए। दिनदहाड़े लूट और हत्या की घटना आग की तरह पूरे काशीपुर में फैल गई। सोशल मीडिया पर भी ङ्क्षपकी के हत्यारों को पकडऩे की मांग को लेकर पोस्टमार्टम हाउस पर एकत्र होने के मैसेज चलने लगे।

शनिवार दोपहर करीब साढ़े 12 बजे पर्वतीय समाज के साथ ही अन्य कई संगठनों के लोग रामनगर रोड स्थित चीमा चौक पहुंचे। हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर लोगों ने चौराहा जाम कर दिया। महिलाएं सड़क पर ही धरने पर बैठ गईं। इस दौरान प्रदर्शनकारी पुलिस-प्रशासन हाय-हाय के नारे लगाते रहे। सूचना पर सीओ मनोज कुमार ठाकुर व कोतवाल चंद्रमोहन ङ्क्षसह पुलिस फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और लोगों को समझाने की कोशिश की, लेकिन लोग हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर अड़ गए। लोगों का कहना था कि जब तक अपराधी पुलिस गिरफ्त में नहीं आएंगे, तब तक वह धरने से नहीं हटेंगे। इस बीच कुछ लोग सीएम को भी मौके पर बुलाने की मांग करने लगे। सीओ द्वारा समझाने के बाद भी जब लोगों का गुस्सा शांत नहीं हुआ तो एएसपी डॉ. जगदीश चंद्र व एसडीएम सुंदर सिंह तोमर मौके पर पहुंचे। एएसपी व एसडीएम ने भी लोगों को समझाने की कोशिश की, लेकिन वह अपनी बात पर अड़े रहे। जिसके बाद एसडीएम तोमर ने अपराधियों को 48 घंटे के भीतर पकडऩे का लिखित आश्वासन दिया, तब जाकर लोगों ने जाम खोला। साथ ही पीडि़त परिवार को 25 लाख रुपये मुआवजा देने की मांग रखी गई है।

विधायक व मेयर मुर्दाबाद के भी लगे नारे

ङ्क्षपकी हत्याकांड से लोगों में व्याप्त आक्रोश का इसी बात से अंदाजा लगाया जा सकता है कि उन्होंने न तो पुलिस प्रशासन को ही बख्शा और न ही मेयर और विधायक को। लोगों ने विधायक हरभजन ङ्क्षसह चीमा व मेयर ऊषा चौधरी मुर्दाबाद के भी नारे लगाए। इस बीच कई लोग ङ्क्षपकी के हत्यारों को फांसी की सजा की मांग भी करने लगे।

 यह भी पढ़ें :  खेत में पानी लगाने निकले किसान की नहर में डूबने से मौत, दो किमी बाद जाकर मिला शव

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.