दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

प्रधानों ने कहा, प्रशासन प्रवासियों को क्वारंटाइन करने का दबाव बना रहा, पर गांवों को नहीं कराया सेनेटाइज

प्रधानों ने कहा, प्रशासन प्रवासियों को क्वारंटाइन करने का दबाव बना रहा, पर गांवों को नहीं कराया सेनेटाइज

बाहर से लौटे प्रवासियों को सात दिन तक अनिवार्य क्वारंटाइन करने के आदेश को लेकर ग्राम प्रधान अभी भी तैयार नहीं है। प्रधानों का कहना है कि पंचायत निधि से काम कराने में हर छोटी चीज का जीएसटी बिल मिलना मुश्किल है।

Skand ShuklaTue, 18 May 2021 12:13 PM (IST)

हल्द्वानी, जागरण संवाददाता : बाहर से लौटे प्रवासियों को सात दिन तक अनिवार्य क्वारंटाइन करने के आदेश को लेकर ग्राम प्रधान अभी भी तैयार नहीं है। प्रधानों का कहना है कि पंचायत निधि से काम कराने में हर छोटी चीज का जीएसटी बिल मिलना मुश्किल है। दूसरा जो प्रशासन हरसंभव मदद का आश्वासन दे रहा है, उसके द्वारा गांवों में अभी तक सैनिटाइज तक की व्यवस्था नहीं की गई। जबकि शहरी क्षेत्र में नगर निगम द्वारा वार्ड दर वार्ड सरकारी टैंकर से दवा का छिड़काव किया जा रहा है।

मंगलवार को आपसी चर्चा के बाद प्रधानों ने कहा कि पिछली बार की तरह वह लोग अपनी जिम्मेदारी को निभाने के लिए तैयार है। आर्थिक सहयोग भी करेंगे। लेकिन महामारी का खतरा उनके लिए भी है। अफसरों संग बैठक में प्रधानों को कोरोना योद्धा कहकर उनके काम की तारीफ की जाती है। लेकिन जब बात संसाधन मुहैया कराने की हो तो जिम्मेदारी चुप्पी साध लेते हैं। अब सात दिन अनिवार्य क्वारंटाइन नियम की वजह से उनके समक्ष संकट खड़ा हो गया है। क्योंकि, संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ रहा है। ऐसे में प्राइमरी व पंचायत भवन के एक या दो छोटे कमरों में बाहर से अलग-अलग जगहों से आए लोगों को ठहराने में पॉजिटिव व्यक्ति से नेगेटिव व्यक्ति को भी खतरा होगा। रात देर रात बगैर किसी मेडिकल टीम के आपात स्थिति में ग्राम प्रधान कुछ नहीं कर सकता। इसलिए सामूहिक क्वारंटाइन सेंटर बनना चाहिए।

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.