Nanda Devi Mahotsav 2021 : नैनीताल में 20 हजार श्रद्धालुओं ने किए मां नंदा-सुनंदा के दर्शन

Nanda Devi Mahotsav 2021 श्रीराम सेवक सभा की ओर से आयोजित नंदा देवी महोत्सव में मंगलवार को मां नंदा-सुनंदा की मूर्तियों को मंडप में स्थापित करने के बाद आम श्रद्धालुओं के लिए खोला गया तो मां की झलक पाने के लिए भक्तों में होड़ लगी रही।

Skand ShuklaWed, 15 Sep 2021 08:41 AM (IST)
Nanda Devi Mahotsav 2021 : नैनीताल में 20 हजार श्रद्धालुओं ने किए मां नंदा-सुनंदा के दर्शन

जागरण संवाददाता, नैनीताल : Nanda Devi Mahotsav 2021 : श्रीराम सेवक सभा की ओर से आयोजित नंदा देवी महोत्सव में मंगलवार को मां नंदा-सुनंदा की मूर्तियों को मंडप में स्थापित करने के बाद आम श्रद्धालुओं के लिए खोला गया तो मां की झलक पाने के लिए भक्तों में होड़ लगी रही। आयोजकों की ओर से महोत्सव के धार्मिक अनुष्ठानों समेत मां के दर्शनों का लाइव प्रसारण किया गया, जिससे घर बैठे भी भक्तों ने दर्शन किए।

मंगलवार तड़के से ही श्रद्धालु मां की झलक पाने को नयना देवी मंदिर परिसर में डटे थे। तड़के तीन बजे से आचार्य भगवती प्रसाद जोशी ने वैदिक मंत्रोच्चार के साथ प्राण प्रतिष्ठा कराई, जिसमें यजमान विमल साह-भारती साह, संतोष जगाती-पुष्पा जगाती थे। सुबह पांच बजे मां नंदा-सुनंदा की मूर्तियों को भक्तों के लिए खोल दिया गया। भक्तों ने मुख्य मंदिर व मंडप में कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए दस फिठ दूर से माता नंदा-सुनंदा की पूजा अर्चना कर सुख समृद्धि ककी प्रार्थना की। मंडप में लगातार देवी पाठ किया जा रहा है।

आयोजक संस्था की ओर से कैलाश जोशी, भीम सिंह कार्की, भुवन बिष्ट, विमल चौधरी, हिमांशु जोशी, शानू साह, अनिल बिनवाल ने श्रद्धालुओं की ओर से भेंट किया गया नारियल, प्रसाद, अक्षत फूल मां के चरणों में समर्पित किया। छह बजे से सात बजे तक भक्तों की संख्या कम रही, मगर दिन चढऩे के साथ भक्तों की संख्या बढ़ती गई। दस बजे बाद तो भक्तों की मंदिर से करीब ढाई सौ मीटर दूर रिक्शा स्टेंड तक कतार लग गई। अपराह्न तीन बजे तक श्रद्धालुओं की भीड़ बनी रही।

मंदिर के बाहर बेरीकेडिंग की गई है। एसडीएम प्रतीक जैन, एसएसआइ कश्मीर सिंह, एसआइ कैलाश जोशी के नेतृत्व में कर्मियों द्वारा व्यवस्था बनाई गई जबकि भीड़ बढऩे पर सीओ संदीप सिंह, कोतवाल अशोक कुमार सिंह समेत पुलिस कर्मियों तथा श्रीराम सेवक सभा अध्यक्ष मनोज साह, महासचिव जगदीश बवाड़ी, पूर्व अध्यक्ष मुकेश जोशी मंटू, गिरीश जोशी मक्खन, किशन नेगी, कमलेश ढौंडियाल, बॉब बजेठा, विमल चौधरी, कविता गंगोला, भावना रावत, रमा भट्ट, ममता रावत समेत स्वयं सेवकों ने व्यवस्था बनाने में सहयोग दिया।

पंचआरती में मां की महिमा का बखान

नंदा देवी महोत्सव के अंतर्गत मंगलवार को विधायक संजीव आर्य, कमिश्नर सुशील कुमार, पालिका ईओ अशोक वर्मा ने मां नंदा-सुनंदा के दर्शन करने के साथ ही व्यवस्थाएं परखी। उन्होंने आयोजकों की ओर से की व्यवस्था बनाने में किए जा रहे सहयोग की सराहना की। महोत्सव के तहत शाम को पंचआरती की गई। जिसमें मुख्य अतिथि अपर प्रमुख वन संरक्षक कपिल जोशी शामिल हुए। इस दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने मां का स्तुतिगान किया गया। तल्लीताल दर्शनघर पार्क में भी पंचआरती हुई।

पशुबलि को लाया बकरा लौटाया

नंदादेवी महोत्सव में पशुबलि पर पाबंदी के अनुपालन के लिए पुलिस प्रशासन की ओर से पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। सुबह शिवसेना प्रदेश महासचिव भूपाल कार्की के साथ मन्नत पूरी होने पर बकरा चढ़ाने आये एक श्रद्धालु को मंदिर परिसर से लौटा दिया गया। मंदिर के अन्य रास्तों पर भी बकरा लाने वालों पर खास नजर रखी गई।

भक्त घर बैठे ही कर रहे दर्शन

नंदा देवी महोत्सव में कोविड गाइडलाइन को देखते हुए इस बार फेसबुक के साथ ही यू ट्यूब, स्थानीय चैनल पर सीधा प्रसारण किया जा रहा है। आयोजक संस्था के महासचिव जगदीश बवाड़ी के अनुसार प्रसारण कक्ष में धर्म व संस्कृति से जुड़े भगवती प्रसाद जोशी, नवीन तिवारी, आशा शर्मा, डा.आशीष तिवारी, बीना सुयाल, डा.सरस्वती खेतवाल, डीसीएस खेतवाल, प्रो.ललित तिवारी, प्रो.हरीश बिष्टï, बीना भट्ट बड़सीला, रेशमा टंडन आदि ने महत्वपूर्ण जानकारियां दी।

छोलिया कलाकारों ने जीवंत की लोक संस्कृति

आयोजकों की ओर से छोलिया कलाकारों की टीम बुलाई गई है। कलाकारों ने मंदिर के गेट के बाहर तथा शहर के विभिन्न चौराहों पर लोकनृत्य कर कुमाऊं की लोक संस्कृति को जीवंत किया। उधर मंदिर गेट के समीप प्रसाद की दुकानों में भक्तों की भीड़ उमड़ी रही। पिछले सालों तक मंदिर परिसर से लेकर रिक्शा स्टेंड तक प्रसाद की दुकानें लगती थी लेकिन इस बार सिर्फ गेट के बाहर की दुकानों में ही प्रसाद बिका। मंदिर परिसर में पूजा पाठ के लिए पिछले सालों तक करीब सौ पुरोहित बैठते थे मगर कोविड काल में मंदिर परिसर में पुरोहितों को अनुमति नहीं दी गई।

पुलिस पहरे में महोत्सव की व्यवस्थाएं चाक चौबंद

मां नंदा देवी महोत्सव में मूर्तियों को मंडप में रखने के बाद सुबह से ही श्रद्धालुओं की भारी भीड़ उमड़ पड़ी। इस बीच चप्पे-चप्पे पर पुलिसकर्मी व्यवस्था बनाए रखने के लिए तैनात रहे। सीओ और कोतवाल खुद मंदिर के बाहर दिनभर मोर्चे पर तैनात दिखे। 11 सितंबर से शुरू हुआ नंदा देवी महोत्सव सादगी के साथ मनाया जाना है। सांकेतिक रूप से मनाया जा रहे महोत्सव में धार्मिक अनुष्ठान के दौरान अनावश्यक भीड़ एकत्रित न हो इसके लिए जिला प्रशासन द्वारा सख्त निर्देश दिये गए हैं। व्यवस्था बनाये रखने के लिए जिले के अन्य थानों से आठ एसआइ, 28 कांस्टेबल, दस महिला कांस्टेबल और डेढ़ सेक्सन पीएसी मंगाई गई है। इधर मंगलवार को सुबह से ही मंदिर में भक्तों की भीड़ बढऩे लगी तो पुलिस ने भी मोर्चा संभाल लिया। मंदिर गेट के बाहर से ही बेरीकेडिंग कर प्रवेश और निकासी करने वाले श्रद्धालुओं के लिए अगल-अलग व्यवस्था की गई थी। पंत पार्क से मंदिर परिसर के भीतर तक तैनात पुलिसकर्मी दिनभर मुस्तैदी के साथ ड्यूटी पर डटे रहे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.