हरकी पैड़ी से चंडी देवी मंदिर तक रोपवे संचालन जल्द

जिलाधिकारी विनय शंकर पांडेय ने शुक्रवार को सीसीआर सभागार में उत्तराखंड मेट्रो रेल अर्बन इंफ्रास्ट्रक्चर एंड बिल्डिग्स कंस्ट्रक्शन कारपोरेशन लिमिटेड की ओर से आयोजित बैठक में हरिद्वार शहर में हर की पैड़ी से चंडी देवी मंदिर तक यात्री रोपवे परियोजना के संबंध में सुनवाई की।

JagranFri, 12 Nov 2021 08:43 PM (IST)
हरकी पैड़ी से चंडी देवी मंदिर तक रोपवे संचालन जल्द

जागरण संवाददाता, हरिद्वार: जिलाधिकारी विनय शंकर पांडेय ने शुक्रवार को सीसीआर सभागार में उत्तराखंड मेट्रो रेल, अर्बन इंफ्रास्ट्रक्चर एंड बिल्डिग्स कंस्ट्रक्शन कारपोरेशन लिमिटेड की ओर से आयोजित बैठक में हरिद्वार शहर में हर की पैड़ी से चंडी देवी मंदिर तक यात्री रोपवे परियोजना के संबंध में सुनवाई की। इस दौरान कंपनी के डीजीएम सिविल जयनंदन सिन्हा ने बताया कि रोपवे हरकी पैड़ी से चंडी देवी मंदिर तक लगाया जाएगा। इससे मां चंडी देवी मंदिर तक पहुंचने में श्रद्धालुओं के समय और श्रम की बचत होगी।

डीजीएम सिविल जयनंदन सिन्हा ने बताया कि परियोजना के निर्माण और संचालन के दौरान स्थानीय रोजगार के अवसर पैदा होंगे। बेहतर कनेक्टिविटी से प्रदेश के पर्यटन की वृद्धि होगी। बताया कि रोपवे में कुल 13 टावर होंगे। कार्य शुरू होने से 24 महीने में रोपवे बनकर तैयार हो जाएगा। सुनवाई के दौरान रोपवे के तकनीकी पहलू, पर्यावरणीय प्रभाव जैसे भूकंप, बाढ़, ध्वनि प्रदूषण, वनस्पतियों और जीव-जंतुओं पर प्रभाव, भूस्खलन, पवन और चक्रवात, बादल फटने, मिट्टी के नमूनों की जांच, जल के नमूनों की जांच, ठोस कचरे आदि का निस्तारण, आपदा और जल प्रबंधन के अलावा जल संरक्षण आदि पर विस्तृत विचार-विमर्श हुआ। सुनवाई के दौरान मां मनसा व्यापार मंडल के अध्यक्ष मनोज विश्नोई, व्यापार मंडल के जिला मंत्री संजय त्रिवाल आदि ने अपना पक्ष रखा। कहा कि रोपवे की परियोजना से हरकी पैड़ी और आसपास स्थित व्यापारियों के व्यापार पर प्रभाव पड़ेगा। बैठक में चंडी देवी मंदिर में भीड़ प्रबंधन आदि के संबंध में भी चर्चा हुई। इस पर जिलाधिकारी ने रेल रिजर्वेशन का उदाहरण देते हुए कहा कि ट्रेन की पूरी सीटें आरक्षित हो जाने पर यात्रियों को प्रतीक्षा में रख दिया जाता है। इसी तरह स्थानीय प्रशासन परिस्थितियों के अनुसार निर्णय लेता है। सुनवाई में चंडी देवी मंदिर के राजकुमार मिश्रा ने कहा कि इस परियोजना में अगर पेड़ कटते हैं तो उसकी जगह अधिक से अधिक पेड़ लगाए जाने चाहिए। स्थानीय निवासी अनुराग ने परियोजना का समर्थन किया।

जिलाधिकारी ने सभी पक्षों को सुनने के बाद कहा कि इस रोपवे परियोजना के संबंध में सभी पक्षों का पूरा ध्यान रखा जाएगा तभी कोई निर्णय लिया जाएगा। इस अवसर पर महाप्रबंधक यूकेएनआरसी (सिविल) डा. राघवेंद्र शरण दुबे, डीजीएम/आरआइटीइएस लिमिटेड गुरुग्राम दीपक कुमार जैन, सुभाषचंद, पारस बौंठियाल, मानव शर्मा, सामाजिक कार्यकत्र्ता जेपी बडोनी, आदित्य, सोनम रावत, अजयबीर सिंह नेगी, लक्ष्मण सिंह रावत, चंदन सिंह, भगवान सिंह, अरविद नेगी, राकेश सिंह, गौरव जोशी आदि उपस्थित रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.