रुड़की में नहीं माना किसान मोर्चा, मंगलौर मंडी पर आशीर्वाद यात्रा को दिखाएंगे काले झंडे

भाजपा की आशीर्वाद यात्रा का आयोजन नारसन बॉर्डर से शुरू हो रही है। इस पर किसान मोर्चा के नेताओं ने काले झंड़े दिखाने का मन बनाया है। अब किसान मोर्चा मंगलौर मंडी पर यात्रा को काले झंडे दिखाएगा। पुलिस प्रशासन ने उन्‍हें मनाने को कोशिश की लेकिन वे नहीं मानें।

Sunil NegiSun, 15 Aug 2021 06:23 PM (IST)
नारसन बॉर्डर से शुरू हो रही है भाजपा की आशीर्वाद यात्रा को किसान मोर्चा काले झंडे दिखाएगा

जागरण संवाददाता रुड़की। केंद्रीय रक्षा मंत्री अजय भट्ट के नेतृत्व में नारसन बॉर्डर से शुरू हो रही है भाजपा की आशीर्वाद यात्रा को किसान मोर्चा काले झंडे दिखाएगा। किसान मोर्चा को मनाने के लिए दिनभर पुलिस अधिकारी लगे रहे, लेकिन किसान मोर्चा टस से मस नहीं हुए।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की ओर से सोमवार से सूबे के नारसन बॉर्डर से आशीर्वाद यात्रा का आयोजन किया गया है। इसके लिए रविवार को भाजपा कार्यकर्त्‍ता तैयारियों में जुटे रहे। इसी बीच किसान मोर्चा ने भी आशीर्वाद यात्रा का विरोध करने का ऐलान किया है। किसान मोर्चा ने यात्रा को चार स्थानों पर काले झंडे दिखाने की तैयारी की है। टकराव को देखते हुए पुलिस प्रशासन की परेशानी भी बढ़ गई है।

रविवार को पुलिस क्षेत्राधिकारी मंगलौर पंकज गैरोला ने किसान मोर्चा के नेताओं के साथ बैठक की और उनको विरोध ना करने के लिए कहा। लेकिन किसान मोर्चा के नेता नहीं माने। उन्होंने कहा कि यात्रा को काले झंडे दिखाएंगे और प्रदर्शन करेंगे। काफी देर तक पुलिस अधिकारी किसान मोर्चा के नेताओं को मनाने में जुटे रहे, जिस पर किसान मोर्चा के नेताओं ने तय किया कि अब नारसन, मंडावली और मंगलौर गुड मंडी पर प्रदर्शन करने के बजाए केवल मंगलोर गुड़ मंडी पर ही किसान मोर्चा के नेता एकत्र होंगे और काले झंडे दिखाएंगे।

बैठक में उत्तराखंड किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष गुलशन रोड, भाकियू जिलाध्यक्ष विजय शास्त्री, रवि चौधरी, मक्कार सिंह, राजेंद्र सिंह आदि मौजूद रहे। वही टकराव को देखते हुए नारसन क्षेत्र में अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती की जा रही है।

-------------------- 

रुड़की के सरकडी ताहरपुर गांव में दो पक्षों में हुआ विवाद

रुड़की के सरकडी ताहरपुर गांव में रविवार को भी दोनों पक्षों के बीच विवाद हो गया। भाजपा अल्पसंख्यक मोर्चा के पूर्व जिला महामंत्री दानिश गौड़ ने आरोप लगाया कि वह सुबह सवेरे अपने आवास पर बैठे थे। इसी दौरान दूसरे पक्ष के तीन युवकों ने लाठी से हमला कर दिया। किसी तरह उन्होंने भागकर अपनी जान बचाई। इसकी सूचना गंगनहर कोतवाली पुलिस को दी। पुलिस के आने से पहले एक आरोपित हमलावर को वहां से भागते समय पकड़ लिया और पुलिस के हवाले कर दिया। उन्होंने कहा कि विरोधी पक्ष से उन्हें जान का खतरा है। उन्हें धमकी मिल रही है। जिसकी शिकायत गंगनहर कोतवाली पुलिस से भी की गई है। दानिश का आरोप है कि दूसरे पक्ष का वसीम भी एक मुकदमे में नामजद है। वह लगातार अपना नाम निकलवाने के लिए दबाव बना रहा है। इसी रंजिश के चलते आज भी उन पर हमला किया गया था। जिसमें वह बाल बाल बच गए। गौरतलब है कि कुछ माह पूर्व सरकडी के प्रधान पति शाहनवाज़ और भाजपा नेता दानिश पक्ष में संघर्ष हुआ था। फायरिंग भी हुई थी। जिसमें दानिश गंभीर रूप से घायल हो गए थे। इस मामले में दोनो पक्षों पर मुकदमा दर्ज हुआ था।

यह भी पढ़ें:-उत्तराखंड में 16 अगस्त से रामपुर तिराहा से शुरू होगी जन आशीर्वाद यात्रा

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.