तेजेशानंद गिरि बने निरंजनी अखाड़े के महामंडलेश्वर, तिलक चादर भेंट कर हुआ पट्टा अभिषेक

तेजेशानंद गिरि बने निरंजनी अखाड़े के महामंडलेश्वर।

Haridwar Kumbh Mela 2021 निरंजनी पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरि महाराज के नेतृत्व में भोलागिरी आश्रम के स्वामी तेजेशानंद गिरि महाराज को श्री पंचायती अखाड़ा आनंद का महामंडलेश्वर नियुक्त किया गया। इस दौरान उनका तिलक चादर भेंट कर पट्टा अभिषेक किया।

Raksha PanthriSat, 27 Feb 2021 10:50 AM (IST)

संवाद सहयोगी, हरिद्वार। Haridwar Kumbh Mela 2021 निरंजनी पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरि महाराज के नेतृत्व में भोलागिरी आश्रम के स्वामी तेजेशानंद गिरि महाराज को श्री पंचायती अखाड़ा आनंद का महामंडलेश्वर नियुक्त किया गया। इस दौरान निरंजनी और आनंद अखाड़े के संत महापुरुषों ने स्वामी तेजेशानंद गिरि महाराज का तिलक चादर भेंट कर पट्टा अभिषेक किया। आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरि महाराज ने कहा कि स्वामी तेजेशानंद गिरि महाराज एक विद्वान महापुरुष हैं, जो महामंडलेश्वर पद पर रहते हुए संपूर्ण भारत में भारतीय संस्कृति और सनातन धर्म का प्रचार-प्रसार कर अखाड़े की परंपराओं को मजबूती प्रदान करेंगे। 

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि महाराज ने कहा कि कुंभ मेला भारतीय संस्कृति का शिखर पर्व है। आनंद पीठाधीश्वर आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी बालकानंद गिरी महाराज ने कहा कि आनंद अखाड़े की परंपरा के अनुसार धर्मप्रचार कर समाजोत्थान में योगदान करें। अखाड़ा परिषद के महामंत्री श्रीमहंत हरिगिरी महाराज ने कहा कि नवनियुक्त महामण्डलेश्वर स्वामी तेजेशानंद गिरी महाराज आनंद अखाड़े की परंपरा को आगे बढ़ाएंगे। मां मनसा देवी मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष श्रीमहंत रविंद्रपुरी एवं श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी के सचिव रामरतन गिरी महाराज ने कहा कि संतों का जीवन सदैव सनातन संस्कृति की रक्षा के लिए समर्पित रहता है। 

श्री पंचायती अखाड़ा आनंद के सचिव श्रीमहंत शंकरानंद एवं श्रीमहंत गिरजानंद सरस्वती महाराज ने कहा कि संतों का जीवन समाज को नई दिशा प्रदान कर समरसता का भाव जागृत करना होता है। नवनियुक्त महामंडलेश्वर स्वामी तेजेशानंद गिरी अपनी वाणी और उपदेशों से सदैव समाज को धर्म के प्रति जागृत कर युवा संतों के प्रेरणा स्नोत बनेंगे। नवनियुक्त महामंडलेश्वर स्वामी तेजेशानंद गिरि महाराज ने कहा कि जो जिम्मेदारी संत समाज द्वारा उन्हें सौंपी गई है। वह उसका पूरी निष्ठा के साथ निर्वहन करेंगे। इस अवसर पर श्रीमहंत रामरतन गिरी, श्रीमहंत ओमकार गिरी, श्रीमहंत लखन गिरी आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें- Haridwar Kumbh Mela 2021: अखाड़ा परिषद ने दूर की बैरागी अणियों की नाराजगी

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.