Haridwar Kumbh 2021: कुंभ मेले की सभी तैयारियां पूरी, स्थायी कार्य अंतिम चरण में

कुंभ को दिव्य और भव्य बनाने के लिए मेला अधिष्ठान की तैयारियां पूरी- मेलाधिकारी।

Haridwar Kumbh 2021 हरिद्वार कुंभ मेला को दिव्य और भव्य रूप से संपन्न कराने के लिए मेला अधिष्ठान ने अपनी सभी तैयारी और व्यवस्थाएं पूरी कर ली हैं। मेला क्षेत्र में छावनी स्थल पर जमीन को समतल करने का काम काफी हद तक हो चुका है।

Publish Date:Sun, 17 Jan 2021 03:12 PM (IST) Author: Raksha Panthri

जागरण संवाददाता, हरिद्वार। Haridwar Kumbh 2021  हरिद्वार कुंभ मेला को दिव्य और भव्य रूप से संपन्न कराने के लिए मेला अधिष्ठान ने अपनी सभी तैयारी और व्यवस्थाएं पूरी कर ली हैं। मेला क्षेत्र में छावनी स्थल पर जमीन को समतल करने का काम काफी हद तक हो चुका है। जबकि, पेयजल पाइप लाइन और विद्युतीकरण कार्य करने की पूरी तैयारी है। वहीं, कुंभ मेलाधिकारी दीपक रावत ने रविवार सुबह अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि से मुलाकात की। श्रीमहंत ने उम्मीद जताई है कि हरिद्वार कुंभ पूरे वैभव के साथ संपन्न होगा। 

कुंभ मेला अधिकारी दीपक रावत ने बताया कि कुंभ मेला को लेकर स्थायी और अस्थायी जितने भी कार्य होने थे उन सभी के टेंडर हो चुके हैं। स्थायी कार्य अंतिम चरण में हैं, जबकि कुछ पूरे हो चुके हैं। अस्थायी कार्य भी काफी हद तक पूरे कराए जा चुके हैं, जो बचे हैं, उनकी तैयारी पूरी है और समय रहते उन सभी को पूरा कर लिया जाएगा।  उन्होंने बताया कि रविवार सुबह उन्होंने अपर जिलाधिकारी हरबीर ङ्क्षसह के साथ अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि से मुलाकात करके शनिवार को देहरादून में हुई मुख्यमंत्री की बैठक में लिए निर्णय और तैयारियों से श्रीमहंत को अवगत करा दिया है। वहीं, श्री महंत नरेंद्र गिरि ने बताया कि कुंभ मेलाधिकारी की ओर से तैयारियों के संदर्भ में दी गई जानकारी से वह संतुष्ट हैं। उम्मीद है कि हरिद्वार कुंभ पूरे वैभव के साथ संपन्न होगा। 

यह भी पढ़ें- Haridwar Kumbh Mela 2021: हरिद्वार कुंभ मेला क्षेत्र में होंगे 10 हजार अस्थायी शौचालय

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.