top menutop menutop menu

coronavirus से जंग में बाबा रामदेव भी कूदे, प्रधानमंत्री मोदी के PM CARES Fund में दिए 25 करोड़

देहरादून, जेएनएन। coronavirus से जंग में योगगुरु बाबा रामदेव भी कूद गए हैं। उन्होंने कोरोना वायरस संक्रमण (covid-19) से लड़ाई को 25 करोड़ रुपए  PM CARES Fund में दिए हैं। इसके साथ ही योगगुरु ने बताया कि इसके अलावा पतंजलि योगपीठ और विभिन्न प्रकल्प के कर्मचारी अपने एक दिन का वेतन डेढ़ करोड़ के साथ रुचि सोया जो कि अब पतंजलि का हिस्सा हो गई है, के कर्मी भी अपने एक दिन का वेतन प्रधानमंत्री सहायता कोष में दे रहे हैं। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने coronavirus से लड़ने को PM CARES FUND(प्रधानमंत्री नागरिक सहायता और राहत कोष) ट्रस्ट बनाया। इसके बाद से ही मदद का सिलसिला शुरू हो गया। टाटा ट्रस्ट के चेयरमैन रतन टाटा, अडानी ग्रुप, बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार समेत कई हस्तियों ने PM CARES FUND में अपना योगदान दिया।

योगगुरु ने यह कदम PM Narendra Modi से सोमवार सुबह वीडियो कांफ्रेंसिंग में हुई बातचीत और सहयोग के आह्वान के बाद उठाया। उन्होंने कनखल स्थित दिव्य योग मंदिर में आयोजित पत्रकारवार्ता में बाबा रामदेव ने आयुर्वेद को कोरोना संक्रमण से बचाव और इलाज में ऐलोपैथिक से बेहतर बताते हुए सरकार से आयुर्वेद और एलोपैथिक के मिश्रण से बचाव और इलाज किए जाने की मांग की, कहा कि पतंजलि इस मामले में अपने सभी संस्थानों की सेवा देने, इस्तेमाल करने के सहयोग भी कर रहा है। पतंजलि इस संस्थानों के इस्तेमाल के दौरान सभी खर्च स्वयं वहन करेगा।

उन्होंने Lockdown के दौरान देश के विभिन्न हिस्सों से अपने-अपने घरों की ओर पलायन कर रहे कामगारों का आह्वान किया कि वह संकट की इस घड़ी में देश की रक्षा की खातिर सरकार का सहयोग करें और जहां है, वहीं रहे। बाबा रामदेव ने बताया कि coronavirus संक्रमण तेजी से बढ़ता हुआ खतरा है, सरकार इससे निपटने को लेकर कई तरह के कदम उठा रही है पर, हमें भी इससे बचने को सरकार के साथ कदम से कदम मिलाकर जागरूक होते हुए सुझाए गए सुरक्षा और रक्षा संबंधी उपायों पर अमल करना चाहिए। 

उन्होंने सरकार से मांग की कि वह खेतों में खड़ी फसलों को काटने और सब्जियों को तोड़ने के लिए किसानों, मजदूरों को और मशीनों को खेतों को काम करने का मौका दिया जाना चाहिए। कहाकि अगर ऐसा नहीं किया गया तो आने वाले समय में फसलों और सब्जियों की कमी का नया संकट खड़े होने, इनके खराब होने का आशंका खड़ी हो जाएगी।       

प्राणयाम से coronavirus संक्रमण ठीक करने और जांच का किया दावा

योगगुरु बाबा रामदेव ने ग्वालियर निवासी कोरोना संक्रमित व्यक्ति को प्राणयाम के जरिए केवल सात दिनों ने पॉजिटिव से निगेटिव यानि ठीक किए जाने का दावा करते हुए बताया कि योग और आयुर्वेद के जरिए हम कोरोना संक्रमण से बचाव के साथ-साथ खुद के संक्रमण होने न होने की जांच कर सकते हैं। उन्होंने कहाकि हम कपालभाति, अभियांतर प्राणयाम और प्रति मिनट 50 से 150 सांस लेने की रफ्तार से हम इसकी जांच कर सकते हैं।

अलीगढ़ में लोगों के घास खाने को बताया गलत

coronavirus संक्रमण से बचाव के लिए अलीगढ़ के कुछ इलाकों में लोगों के घास खाने चर्चाओं को लेकर पूछे गए प्रश्न के उत्तर में योगगुरु ने इसे गलत ठहराया। कहा कि मानव शरीर की आवश्यकताओं की पूर्ति घास से नहीं अन्न से होती है, इसलिए घास खाने का कोई फायदा नहीं, यह कोई इलाज या बचाव नहीं। लोगों को चाहिए कि वह सरकार की गाइड लाइन का पालन करें अ।र अपनेझअपने घरों में ही रहें। यही कोरोना के संक्रमण से बचने का उत्तम और एकमात्र उपाय है।

पतंजलि ने लांच किया आयुर्वेद सैनिटाइजर

योगगुरु बाबा रामदेव ने इस मौके पर पतंजलि की ओर से हर्बल सैनिटाइजर 'पतंजलि हैंड सैनेटाइजर' भी लांच किया। उन्होंने दावा किया कि इसके इस्तेमाल से हर तरह के बैक्टिरिया समाप्त हो जाते हैं।

यह भी पढ़ें: Positive India: ऋषिकेश में निजी खर्च से जरूरतमंदों की भूख मिटा रही खाकी

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.