रुड़की के कुमराड़ा गांव में तालाब की जमीन पर धार्मिक स्थल बनाने को लेकर बवाल, पथराव

कुमराड़ा गांव में तालाब की भूमि पर बनाए अस्थायी धार्मिक स्थल को हटाने पर बवाल हो गया। भीड़ ने पुलिस टीम पर पथराव कर दिया। पुलिस ने जवाबी कार्रवाई करते हुए भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लाठियां भाजी।

Sumit KumarThu, 24 Jun 2021 04:05 PM (IST)
सूचना पर कई थानों की पुलिस मौके पर पहुंच चुकी है।

संवाद सहयोगी, मंगलौर : कुमराड़ा गांव में तालाब की भूमि पर बनाए अस्थायी धार्मिक स्थल को हटाने पर बवाल हो गया। भीड़ ने पुलिस टीम पर पथराव कर दिया। पुलिस ने जवाबी कार्रवाई करते हुए भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लाठियां भाजी। बवाल के दौरान इंस्पेक्टर समेत सात से अधिक लोग घायल हो गए। पुलिस ने 26 नामजद समेत सौ से अधिक व्यक्तियों पर मुकदमा दर्ज किया है। गांव में भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है।

मंगलौर कोतवाली के ग्राम कुमराड़ा निवासी एक ग्रामीण के घर के सामने तालाब है। ग्रामीण कुछ दिनों से तालाब की भूमि पर मिट्टी डालकर भरान कर रहा था। ग्रामीण का दावा था कि इस भूमि पर उसे धार्मिक स्थल बनाना है। जानकारी मिलने पर दो दिन पहले एएसडीएम पूरण ङ्क्षसह राणा ने ग्रामीण और उसके परिवार के व्यक्तियों को बताया था कि तालाब की भूमि पर किसी तरह का निर्माण नहीं हो सकता। उन्हें समझा बुझाकर भेज दिया गया था। बुधवार रात को इन्होंने तालाब की भूमि पर चबूतरा बनाकर प्रतिमा रख दी। गुरुवार सुबह जानकारी होने पर नायब तहसीलदार सुरेश कुमार पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे। पुलिस के आने से पहले ही वहां पर काफी संख्या में महिलाएं एकत्रित हो गई। पुलिस ने तालाब की भूमि पर बनाए गए अस्थायी धार्मिक स्थल को हटाने का प्रयास किया, तो भीड़ में शामिल महिलाओं ने पुलिस पर पथराव कर दिया। इससे मौके पर अफरा-तफरी मच गई। पथराव में इंस्पेक्टर यशपाल ङ्क्षसह बिष्ट, जेसीबी चालक वीरम ङ्क्षसह, कांस्टेबल पवन पुंडीर, एचसीपी ललिता खंडेलवाल घायल हो गए। पुलिस के घायल होने पर पुलिसकर्मियों ने भी पथराव करते हुए जमकर लाठियां भाजी, जिसमें कुछ ग्रामीण और महिलाएं भी घायल हो गईं। पुलिस ने भीड़ को दूर तक दौड़ाया। इस मामले में छह व्यक्ति हिरासत में लिए हैं। घायलों को उपचार दिलाया गया। भीड़ हटाने के बाद पुलिस ने जेसीबी की मदद से अवैध अतिक्रमण हटवाया। सीओ पंकज गैरोला ने बताया कि पुलिस ने नायब तहसीलदार सुरेश पाल की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया है। इस मामले में शामिल रहे आरोपितों को चिन्हित किया जा रहा है।

आधा घंटे तक होता रहा पथराव

तालाब की भूमि पर धार्मिक स्थल को हटाने के लिए पुलिस ने ग्रामीणों को काफी देर तक समझाया। इस दौरान कई महिलाओं ने पुलिस से भी गालीगलौज और अभद्रता की। पुलिस ने अपना संयम नहीं खोया और बार-बार समझाते रहे। मौके पर महिलाओं के आगे आने से पुलिस को बैकफुट पर रहना पड़ा। जब महिलाओं ने पुलिस पर पथराव किया और पुलिसकर्मी घायल हो गए। तब जाकर पुलिस को लाठियां भाजनी पड़ी।

एक बीघा जमीन को किया था समतल

तालाब की करीब एक बीघा भूमि का मिट्टी से भराव कर समतल किया गया था। आशंका जताई जा रही है कि धार्मिक स्थल की आड़ में तालाब की भूमि पर भी ग्रामीण की नजर थी। हालांकि इस बारे में पुलिस अधिकारी अभी कुछ भी कहने से बच रहे हंै, लेकिन इस तरह की बातों की गांव में जरूर चर्चा हो रही है।

यह भी पढ़ें- देहरादून के प्रेमनगर में कुत्ते को पीटने से रोकने पर पति-पत्नी को धुना

प्रेम प्रसंग में युवक ने फांसी लगाकर खुदकुशी की

हरिद्वार: ज्वालापुर क्षेत्र में एक युवक ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। आत्महत्या के पीछे प्रथम ²ष्टया प्रेम प्रसंग का मामला सामने आया है।पुलिस के मुताबिक, ज्वालापुर में शिवलोक कालोनी निवासी शिव कुमार ने संदिग्ध हालात में फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। सूचना पर ज्वालापुर कोतवाली की पुलिस मौके पर पहुंची और शव को नीचे उतरवाया।

यह भी पढ़ें- पावर बैंक एप मामला : दिल्ली की कंपनी के डायरेक्टर से की पूछताछ

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.